सपा नेता राम गोविंद चौधरी बोले, देश की आत्‍मा को कुचलना चाहते हैं मोदी और योगी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 28, 2020   17:24
सपा नेता राम गोविंद चौधरी बोले, देश की आत्‍मा को कुचलना चाहते हैं मोदी और योगी

सपा के वरिष्ठ नेता राम गोविंद चौधरी ने किसान संगठनों से अनुरोध किया, ‘‘31 दिसम्बर तक विवादास्पद तीनों कृषि क़ानूनों को वापस नहीं लेने और न्यूनतम समर्थन मूल्य को कानूनी शक्ल नहीं देने की स्थिति पर किसान संगठन मानेंगे नहीं पर मारेंगे नहीं के नारे के साथ आर पार की लड़ाई लड़ें।

बलिया। उत्तर प्रदेश विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता राम गोविंद चौधरी ने नये कृषि कानूनों को लेकर सोमवार को आर-पार की लड़ाई का आह्वान करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पुलिस के बल पर देश को कॉरपोरेट में बदल कर देश की आत्मा को कुचलना चाहते हैं। सपा के वरिष्ठ नेता चौधरी ने जिले के बाँसडीह विधानसभा क्षेत्र के सैदपुरा ग्राम में आयोजित किसान घेरा चौपाल को संबोधित करते हुए किसान संगठनों से अनुरोध किया, ‘‘31 दिसम्बर तक विवादास्पद तीनों कृषि क़ानूनों को वापस नहीं लेने और न्यूनतम समर्थन मूल्य को कानूनी शक्ल नहीं देने की स्थिति पर किसान संगठन मानेंगे नहीं पर मारेंगे नहीं के नारे के साथ आर पार की लड़ाई लड़ें। उन्होंने कहा, मोदीके इरादे को किसी कीमत पर सफल नहीं होने देना है। 

इसे भी पढ़ें: बदायूं में अवैध रूप से संचालित नर्सिंग होम में छापेमारी, 40 आशा कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया

देश की आत्मा की रक्षा के लिए हम बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने के लिए तैयार रहें। उन्होंने दिल्ली बार्डर पर डटे किसानों को सलाम करते हुए कहा कि किसान कॉरपोरेट की जंजीरों को तोड़ने की लड़ाई लड़ रहे हैं और इसमें देश का हर किसान उनके साथ है और 29 दिसंबर के प्रस्‍ताव पर नजर गड़ाए है। चौधरी ने कहा कि मोदी सरकार के पास अवसर है और वह चाहे तो इस अवसर पर तीनों क़ानूनों की वापसी और न्यूनतम समर्थन मूल्य को कानूनी शक्ल देकर मंगलवार को ऐतिहासिक दिन बना सकती है। उन्होंने कहा, कॉरपोरेट के मोह में भारत सरकार अगर क़ानूनों को वापस लेने का ऐलान नहीं करती है तो किसान संगठन 31 दिसम्बर से राष्ट्रीय स्तर पर आर पार की लड़ाई की घोषणा करें और इस आर पार की लड़ाई में समाजवादी पार्टी हर स्तर पर किसानों के साथ रहेगी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।