राम मंदिर ‘विश्वास’ का और सबरीमला ‘प्रथा’ का मामला है: चिदंबरम

ram-temple-is-a-matter-of-faith-and-sabarimala-practice-chidambaram
उनकी यह टिप्पणी ‘अनडॉटेड: सेविंग द आइडिया ऑफ इंडिया’ किताब के विमोचन के दौरान आई। यह किताब पिछले साल प्रकाशित हुए उनके आलेखों का संग्रह है जिसका विमोचन नेहरू मेमोरियल म्यूजियम एंड लाइब्रेरी में हुआ।

नयी दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने शुक्रवार को कहा कि राम मंदिर ‘विश्वास’ का और सबरीमला ‘प्रथा’ का मामला है और दोनों को मिलाना नहीं चाहिए।

इसे भी पढ़ें- चौकीदार का कच्चा चिट्ठा आया सामने, जनता की अदालत में नहीं बच पाएंगे: राहुल गांधी

उनकी यह टिप्पणी ‘अनडॉटेड: सेविंग द आइडिया ऑफ इंडिया’ किताब के विमोचन के दौरान आई। यह किताब पिछले साल प्रकाशित हुए उनके आलेखों का संग्रह है जिसका विमोचन नेहरू मेमोरियल म्यूजियम एंड लाइब्रेरी में हुआ।

इसे भी पढ़ें- भाजपा रामजन्म भूमि पर जल्‍द से जल्‍द मंदिर बनाने के लिए है कटिबद्ध: अमित शाह  

पूर्व वित्त मंत्री ने सबरीमला और राम मंदिर के मुद्दे पर पूछे गए सवाल के जवाब में कहा, ‘‘ राम मंदिर प्रथा का मामला नहीं है। यह विश्वास का मामला है। जबकि सबरीमला एक प्रथा है जो कि आधुनिक संवैधानिक मूल्यों के खिलाफ है।' 

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़