प्रदेश में तेजी से चलाया जा रहा है टीकाकरण अभियान, लगातार कम हो रहें हैं सक्रिय मामलें

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 13, 2021   16:10
प्रदेश में तेजी से चलाया जा रहा है टीकाकरण अभियान, लगातार कम हो रहें हैं सक्रिय मामलें

3टी मॉडल के तहत ट्रैस, ट्रैक और ट्रीट अभियान के साथ-साथ आशिंक कोरोना कर्फ्यू तथा टीकाकरण से कोरोना के एक्टिव मामले घटे है। प्रदेश में कोविड संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए आंशिक कोरोना कर्फ्यू लागू किया गया। कोरोना कर्फ्यू में जीवन और जीविका दोनों को बचाने के उद्देश्य से कर्फ्यू में औद्योगिक गतिविधियां, आर्थिक गतिविधियां, आवश्यक सामग्रियों से संबधित आवागमन तथा उनसे सम्बन्धित दूकाने भी खुली रखी गयी थी।

अपर मुख्य सचिव ‘सूचना’ नवनीत सहगल ने बताया कि कोविड नियंत्रण करने में मुख्यमंत्री का यूपी का 3टी प्रयोग  मॉडल के रूप में प्रस्तुत हुआ है। 3टी मॉडल के तहत ट्रैस, ट्रैक और ट्रीट अभियान के साथ-साथ आशिंक कोरोना कर्फ्यू तथा टीकाकरण से प्रदेश कोरोना के एक्टिव मामले घटे है। प्रदेश में कोविड संक्रमण को नियंत्रित करने के लिए आंशिक कोरोना कर्फ्यू लागू किया गया था। आंशिक कोरोना कर्फ्यू में जीवन और जीविका दोनों को बचाने के उद्देश्य से आंशिक कोरोना कर्फ्यू में औद्योगिक गतिविधियां, आर्थिक गतिविधियां, आवश्यक सामग्रियों से संबधित आवागमन तथा उनसे सम्बन्धित दूकाने भी खुली रखी गयी थी। उन्होंने बताया कि सर्विलांस के माध्यम से निगरानी समितियों द्वारा ट्रेसिंग के तहत घर-घर जाकर संक्रमण की जानकारी ली जा रही है। उन्होंने बताया कि 97000 ग्रामीण पंचायतों में 5 मई, 2021 से एक विशेष अभियान चलाकर, जिसमें निगरानी समितियों द्वारा घर-घर जाकर उन लोगों का जिनमें किसी प्रकार के संक्रमण के लक्षण होने पर उनका एन्टीजन टेस्ट भी कराया जा रहा है। अगर एन्टीजन टेस्ट निगेटिव आ रहा है और लक्षण हैं तो उनका आरटीपीसीआर टेस्ट भी कराया जा रहा है, इसके साथ-साथ लगभग 12 लाख से अधिक मेडिकल किट भी बांटी गयी है। उन्होंने बताया कि सर्विलांस के माध्यम से सरकारी मशीनरी द्वारा उत्तर प्रदेश की 24 करोड़ की जनसंख्या में से अब तक लगभग 17.50 करोड़ लोगों से उनका हालचाल जाना गया है। प्रदेश में संक्रमण कम होने पर भी कोविड-19 के टेस्टों की संख्या में निरन्तर बढ़ोत्तरी की जा रही है, ताकि संक्रमित व्यक्ति की पहचान करके इलाज किया जा सके। उन्होंने बताया कि ग्रामीण क्षेत्रों में अधिक से अधिक टेस्ट कराये जा रहे हैं। 

सहगल ने बताया कि मुख्यमंत्री ने टीम-9 की समीक्षा बैठक में निर्देश दिए है कि माध्यमिक शिक्षा परिषद की हाईस्कूल एवं इण्टरमीडिएट परीक्षाओं का परीक्षाफल तैयार करने के सम्बन्ध में गाइडलाइंस शीघ्र तय कर परीक्षाफल तैयार किया जाए। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमण के दृष्टिगत इस बार माध्यमिक शिक्षा परिषद की 10वीं एवं 12वीं की परीक्षाओं का सम्यक आयोजन न होने के कारण परीक्षा फल की मेरिट लिस्ट न तैयार की जाए। प्राविधिक शिक्षा विभाग द्वारा ऑनलाइन माध्यम से विद्यार्थियों की परीक्षा कराई जाए। उच्च शिक्षा विभाग द्वारा विद्यार्थियों की प्रोन्नति किए जाने के सम्बन्ध में शीघ्र निर्णय लिया जाए। 

सहगल ने बताया कि प्रदेश में कोविड टीकाकरण अभियान तेजी से चलाया जा रहा है। मुख्यमंत्री द्वारा प्रतिदिन किए जा रहे टीकाकरण को 06 लाख करते हुए इसे 10 लाख तक बढ़ाने के निर्देश दिए हैं। माह जून में 01 करोड़ टीकाकरण का लक्ष्य रखा गया है। अगले माह से प्रतिदिन 10 लाख से अधिक टीके लगाने का लक्ष्य रखा गया है। तीन महीनों में 10 करोड़ टीकाकरण का लक्ष्य रखा गया है। टीकाकरण के लिए लगभग 20 हजार कर्मचारियों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। ग्रामीण क्षेत्रों में सीएचसी पर कोविड टीकाकरण के कराने के साथ-साथ जन सेवा केन्द्र पर पंजीकरण निशुल्क सुविधा दी गयी है। उन्होंने बताया कि कोविड-19 के दृष्टिगत प्रदेश में अवस्थापना सुविधा बढ़ाई जा रही है, जिसके तहत 80 हजार बेड प्रदेश में बढ़ाये गये है। 100 बेड बढ़ाए गये हैं। प्रदेश में ऑक्सीजन समुचित मात्रा में उपलब्ध है। प्रदेश में ऑक्सीजन की कोई समस्या न हो इसके लिए 427 ऑक्सीजन प्लाण्ट अस्पतालों में लगाये जा रहे हैं, जिसमें से 80 प्लाण्ट क्रियाशील हो गए हैं। उन्होंने बताया कि संभावित कोविड की तीसरी लहर के तहत सभी मेडिकल कालेज में 100-100 बेड पीआईसीयू के, हर जिला अस्पताल में 20-20 बेड पीआईसीयू के और कम से कम दो सीएससी में पीकू/नीकू के बेड बढ़ाये जा रहे हैं। जिसे 20 जून, 2021 तक पूरा करने का समय दिया गया है। इसके साथ-साथ सभी सीएचसी में 20-20 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर उपलब्ध कराये जा रहे हैं।

सहगल ने बताया कि औद्योगिक ईकाइयों में कोविड हेल्प डेस्क स्थापित किए गए हैं। इन कोविड हेल्प डेस्क में सेनेटाइजर, ऑक्सीमीटर तथा थर्मामीटर व्यवस्था की गयी है। जिन औद्योगिक ईकाइयों में 50 से अधिक श्रमिक कार्य कर रहें उन ईकाइयों में लगभग 3000 से अधिक कोविड केयर सेन्टर स्थापित किए गए हैं। प्रदेश सरकार द्वारा मिशन रोजगार चलाया जा रहा है। वर्तमान वित्तीय वर्ष में 01 लाख से अतिरिक्त नौकरी दिये जाने की व्यवस्था की जा रही है। उन्होंने बताया कि निजी उद्योगों को बैंकों के द्वारा लोन उपलब्ध कराया जा रहा है। मुख्यमंत्री द्वारा वृहद लोन मेले का आयोजन किया जायेगा। निजी उद्यम के माध्यम से लोगों को नौकरी देने का कार्य किया जा रहा है। विगत 04 वर्षों में लगभग 50 लाख नई एमएसएमई इकाइयों के माध्यम से 1.50 करोड़ रोजगार उपलब्ध कराये गये है।

सहगल ने बताया कि प्रदेश सरकार किसानों के हितों के लिए कृतसंकल्प है और किसानों से न्यूनतम समर्थन मूल्य पर उनकी फसल को खरीदे जाने की प्रक्रिया कोविड प्रोटोकाल का पालन करते हुए तेजी से चल रही है। गेहूँ क्रय अभियान में 11 लाख से अधिक किसानों से 52,24,758.01 मी. टन गेहूँ खरीदा गया है, जो विगत वर्ष से दो गुना अधिक है। अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार प्रदेश में बड़ी संख्या में टेस्टिंग कार्य करते हुए, टेस्टिंग क्षमता निरन्तर बढ़ायी जा रही है। गत एक दिन में कुल 2,89,943 सैम्पल की जांच की गयी है, जिनमें से 1,20,451 सैम्पल आरटीपीसीआर के लिए भेजे गये है।

प्रदेश में अब तक कुल 5,33,45,463 सैम्पल की जांच की गयी है। उन्होंने बताया कि प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना से संक्रमित 468 नये मामले आये हैं। प्रदेश में पिछले 24 घंटे में 1,221 कोविड-19 के मरीज ठीक होकर डिस्चार्ज हुए हैं। अब तक 16,71,852 लोग कोविड-19 से ठीक हो चुके हैं। प्रदेश में कोरोना के कुल 8,986 एक्टिव मामले हैं, जिनमें से 5,350 लोग होम आइसोलेशन में हैं। प्रदेश में प्रतिदिन की पॉजिविटी दर 0.2 प्रतिशत है। प्रदेश में रिकवरी रेट 98.2 प्रतिशत है। उन्होंने बताया कि सर्विलांस की कार्यवाही निरन्तर चल रही है। प्रदेश में अब तक सर्विलांस टीम के माध्यम से 3,57,72,933 घरों के 17,20,04,712 जनसंख्या का सर्वेक्षण किया गया है।

प्रसाद ने बताया कि कोविड वैक्सीनेशन का कार्य निरन्तर किया जा रहा है। प्रदेश में कल एक दिन में 4,58,810 लोगों को वैक्सीन की डोज दी गयी है। 1,91,41,183 लोगों को वैक्सीन की पहली डोज तथा 37,94,632 लोगों को दूसरी डोज दी जा चुकी है। अब तक कुल 2,29,35,815 डोजें लगायी गयी हैं। माह जून में 01 करोड़ टीकाकरण करने के लक्ष्य के सापेक्ष 12 दिनों में 46 लाख डोज लगायी जा चुकी है। उन्होंने बताया कि कल से जनता के अधिकाधिक सम्पर्क में आने वाले लोग जैसे रिक्शा, टैम्पों व बस चालक एवं कन्डेक्टर, रेहड़ी, पटरी दुकानदारों तथा फल-सब्जी वालों का विशेष टीकाकरण अभियान शुरू हो रहा है।

प्रदेश में अभिभावक स्पेशल एवं महिला स्पेशल टीकाकरण चल रहा है। अभिभावक स्पेशल टीकाकरण में 12 वर्ष से कम आयु वाले बच्चों के अभिभावकों का टीकाकरण किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि ग्राम प्रधान अपना टीकाकरण कराने के साथ-साथ ग्रामीणों का टीकाकरण कराने में भी सहयोग करे। उन्होंने लोगों से अपील की है कि मास्क का प्रयोग अनिवार्य रूप से करे, सैनेटाइजर व साबुन से हाथ धोते रहे। टीकाकरण के बाद भी कोविड प्रोटोकॉल का पालन अवश्य करें।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।