येदियुरप्पा ने बाढ़ प्रभावित जिलों का किया हवाई सर्वेक्षण, बोले- केंद्र से मदद मांगने के लिए तैयार कर रहे रिपोर्ट

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 25, 2020   16:34
येदियुरप्पा ने बाढ़ प्रभावित जिलों का किया हवाई सर्वेक्षण, बोले- केंद्र से मदद मांगने के लिए तैयार कर रहे रिपोर्ट

मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ने कहा कि नुकसान की गणना के लिए सर्वेक्षण किया जा रहा, हम तुरंत इसके बारे में कैसे बता सकते हैं? आकलन किया जा रहा है।

बेंगलुरु। कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ने मंगलवार को कहा कि केंद्र से बाढ़ से प्रभावित हिस्सों के वास्ते सहायता मांगने के लिए एक रिपोर्ट तैयार की जा रही है। उन्होंने यह भी विश्वास जताया कि राज्य की आर्थिक स्थिति दो से तीन महीनों में सुधर जाएगी। मुख्यमंत्री फिलहाल बाढ़ प्रभावित जिलों की यात्रा पर हैं और वहां की स्थिति का हवाई सर्वेक्षण कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार प्रभावित लोगों को राहत और पुनर्वास प्रदान करने की दिशा में काम कर रही है। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि नुकसान की गणना के लिए सर्वेक्षण किया जा रहा, हम तुरंत इसके बारे में कैसे बता सकते हैं? आकलन किया जा रहा है। 

इसे भी पढ़ें: कर्नाटक कांग्रेस के अध्यक्ष डी के शिवकुमार कोरोना वायरस से संक्रमित, दो दिनों से पीठ में था दर्द 

उन्होंने कहा, ‘‘एक बार जब वह रिपोर्ट आ जाती है, तो हम हर संभव सहायता प्राप्त करने के लिए (उसे) केंद्र को भेज देंगे। रिपोर्ट तैयार हो रही है ...।’’ मुख्यमंत्री ने बेलागवी में पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करने के बाद बेंगलुरु वापस जाने पर वह एक बार फिर इस संबंध में अधिकारियों के साथ चर्चा करेंगे। येदियुरप्पा ने नेहाल में आयी बारिश और बाढ़ की स्थिति की समीक्षा की तथा बेलागवी और धारवाड़ जिलों के निर्वाचित प्रतिनिधियों और अधिकारियों के साथ अब तक किए गए राहत उपायों का ब्यौरा लिया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।