गणतंत्र दिवस: जम्मू-कश्मीर की झांकी में केंद्रशासित प्रदेश के बदलते चेहरे को दर्शाया गया

Jammu and Kashmir
गणतंत्र दिवस परेड में बुधवार को जम्मू-कश्मीर की झांकी में विकास परिदृश्य के संदर्भ में केंद्र शासित प्रदेश के बदलते चेहरे को दर्शाया गया। केंद्र शासित प्रदेश के दो भाग हैं- जम्मू और कश्मीर। जम्मू को मंदिरों के शहर के रूप में जाना जाता है।

नयी दिल्ली। गणतंत्र दिवस परेड में बुधवार को जम्मू-कश्मीर की झांकी में विकास परिदृश्य के संदर्भ में केंद्र शासित प्रदेश के बदलते चेहरे को दर्शाया गया। केंद्र शासित प्रदेश के दो भाग हैं- जम्मू और कश्मीर। जम्मू को मंदिरों के शहर के रूप में जाना जाता है, जबकि कश्मीर घाटी अपने मैदानों, झीलों, गुलमर्ग और सोनमर्ग जैसे ऊंचाई वाले पर्यटन स्थलों, मुगल और ट्यूलिप के सुंदर बगीचों और मार्तंड सूर्य मंदिर, नारानाग, माता खीर भवानी और शंकराचार्य जैसे प्राचीन धार्मिक स्थलों के लिए प्रसिद्ध है। झांकी के आगे के हिस्से में जम्मू की त्रिकुटा पहाड़ियों में कटरा स्थित विश्व प्रसिद्ध माता वैष्णो देवी भवन को दर्शाया गया।

इसे भी पढ़ें: कल्याण सिंह और जनरल बिपिन रावत को दिया जाएगा पद्म विभूषण, 10 विदेशी नागरिक भी किए जाएंगे सम्मानित, यहां देखें पूरी फेहरिस्त

इसके पिछले हिस्से में केंद्रशासित प्रदेश में बनाए जा रहे अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे, भारतीय प्रबंधन संस्थान, भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान और अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान को दर्शाया गया। झांकी का मुख्य आकर्षण बनिहाल काजीगुंड राजमार्ग सुरंग थी, जिसे पिछले साल यातायात के लिए खोला गया था। यह भारत की सबसे लंबी सुरंगों में से एक है। इसकी लंबाई 8.45 किलोमीटर है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़