कॉरपोरेट टैक्स में छूट के ऐलान के बाद बोले सिब्बल, गरीबों को उनके हाल पर छोड़ा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 21, 2019   14:15
कॉरपोरेट टैक्स में छूट के ऐलान के बाद बोले सिब्बल, गरीबों को उनके हाल पर छोड़ा

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने कहा कि जरूरतमंद लोगों के लिए दिवाली की जरूरत है। कॉरपोरेट के हाथों में अतिरिक्त पैसा देने से मांग नहीं बढ़ेगी।

नयी दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने कॉरपोरेट कर की दर में कमी किए जाने के सरकार के कदम को कॉरपोरेट जगत के लिए फायदेमंद करार देते हुए शनिवार को दावा किया कि देश के गरीबों को उनके हाल पर छोड़ दिया गया है। उन्होंने ट्वीट किया कि होउडी मोदी, कॉरपोरेट दिवाली। भारत को 1.45 लाख करोड़ रुपये के राजस्व का घाटा हुआ। सिब्बल ने कहा कि जरूरतमंद लोगों के लिए दिवाली की जरूरत है। कॉरपोरेट के हाथों में अतिरिक्त पैसा देने से मांग नहीं बढ़ेगी। ग्रामीण भारत के हाथों में अतिरिक्त पैसा देना होगा ताकि उपभोग को बढ़ाया जा सके।  

इसे भी पढ़ें: होटल- वाहन उद्योग को जीएसटी में राहत, कैफीन युक्त पेय पदार्थों होंगे महंगे

उन्होंने दावा किया कि सरकार के कदम से अमीर लोगों को फायदा होगा। गरीबों को उनके हाल पर छोड़ दिया गया है। गौरतलब है कि सरकार ने सुस्त पड़ती अर्थव्यवस्था को रफ्तार देने के लिये शुक्रवार को कई बड़ी घोषणाएं की। इन घोषणाओं में कंपनियों के लिये आयकर की दर करीब 10 प्रतिशत घटाकर 25.17 प्रतिशत करना तथा नयी विनिर्माण कंपनियों के लिये कॉरपोरेट कर की प्रभावी दर घटाकर 17.01 प्रतिशत करना शामिल है। 

इसे भी पढ़ें: ‘इकनॉमिक मैनेजमेंट’ नहीं, ‘इवेंट मैनेजमेंट’ कर रही है मोदी सरकार: कांग्रेस

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ये घोषणाएं उस वक्त की हैं जब चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में आर्थिक वृद्धि दर छह साल के निचले स्तर 5 प्रतिशत पर आ गयी है। इन घोषणाओं से निवेश को प्रोत्साहन मिलने तथा रोजगार सृजन को गति मिलने की उम्मीद की जा रही है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।