आरएसएस ने 90 के दशक में न केवल हिंदुओं बल्कि मुस्लिमों की भी मदद की : अरुण कुमार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 25, 2022   22:53
आरएसएस ने 90 के दशक में न केवल हिंदुओं बल्कि मुस्लिमों की भी मदद की : अरुण कुमार

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ नेता अरुण कुमार ने शुक्रवार को कहा कि आरएसएस ने न केवल कश्मीरी हिंदुओं बल्कि मुस्लिमों की भी मदद की थी जब उन्होंने 1990 के दशक में आतंकवाद का दंश झेला था।

नयी दिल्ली। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वरिष्ठ नेता अरुण कुमार ने शुक्रवार को कहा कि आरएसएस ने न केवल कश्मीरी हिंदुओं बल्कि मुस्लिमों की भी मदद की थी जब उन्होंने 1990 के दशक में आतंकवाद का दंश झेला था। उन्होंने कहा कि जब 1990 के दशक में जम्मू कश्मीर में आतंकवाद चरम पर था तो आरएसएस ने इस क्षेत्र को सेना को सौंपने के लिए सरकार पर दबाव बनाने से लेकर घाटी में ‘‘सामान्य नागरिक समाज’’ की मदद करने के लिए ‘‘कश्मीर को बचाने’’ के वास्ते लोगों में देशव्यापी जागरूकता फैलाने तक ‘‘कई आयामों’’ पर काम किया था।

इसे भी पढ़ें: सिर्फ ‘द कश्मीर फाइल्स’ ही नहीं, गुजरात फाइल्स के बारे में भी बात होनी चाहिए : सुशील कुमार शिंदे

उन्होंने कहा, ‘‘हमने मुस्लिमों की मदद करने का काम भी शुरू किया था जब आतंकवादियों ने कश्मीर से हिंदुओं के निर्वासन के बाद उन्हें निशाना बनाना शुरू किया था।’’ आरएसएस के संयुक्त महासचिव कुमार ‘कन्फ्लिक्ट रेजोल्यूशन-द आरएसएस वे’ नाम की किताब के लोकार्पण के लिए यहां आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।

इसे भी पढ़ें: भारत को सीमा मुद्दे पर मतभेदों को द्विपक्षीय संबंधों में ‘यथोचित स्थान’ पर रखना चाहिए: वांग

उन्होंने कहा कि आजादी के बाद आरएसएस के खिलाफ एक गलत धारणा बनायी गयी कि यह फासीवादी और हिंदू चरमपंथी संगठन है और ऐसा ‘‘पारिस्थितिकी तंत्र’’ संघ के बारे में अब भी ‘‘गलत सूचनाएं’’ फैला रहा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।