यूक्रेन-रूस युद्ध के बीच PM मोदी ने की सीसीएस की बैठक, मौजूदा हालात पर हुई विस्तृत चर्चा

यूक्रेन-रूस युद्ध के बीच PM मोदी ने की सीसीएस की बैठक, मौजूदा हालात पर हुई विस्तृत चर्चा
प्रतिरूप फोटो

सूत्रों के मुताबिक, सीसीएस की बैठक में भारत के अगले कदम के बारे में विस्तृत चर्चा हुई। आपको बता दें कि यूक्रेन में फंसे भारतीयों को निकालने के लिए रोमानिया से एयर इंडिया का विमान मुंबई आने वाला है। इस विमान में 219 भारतीय मौजूद हैं।

नयी दिल्ली। रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध छिड़ चुका है। ऐसे में एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सुरक्षा मामलों की कैबिनेट कमेटी (सीसीएस) की बैठक की। इस बैठक में प्रधानमंत्री मोदी के अलावा रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, विदेश मंत्री डॉ एस जयशंकर, गृह मंत्री अमित शाह, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल समेत कई वरिष्ठ नेता मौजूद रहे। बैठक में यूक्रेन में फंसे भारतीयों को निकालने के साथ-साथ यूएनएससी में भारत का कदम क्या होगा और रूस-यूक्रेन युद्ध की ताजा स्थिति क्या है, इस पर चर्चा हुई। 

इसे भी पढ़ें: यूक्रेन से लौटने वाले राजस्थान के छात्र का पूरा खर्चा उठाएगी गहलोत सरकार 

सूत्रों के मुताबिक, सीसीएस की बैठक में भारत के अगले कदम के बारे में विस्तृत चर्चा हुई। आपको बता दें कि यूक्रेन में फंसे भारतीयों को निकालने के लिए रोमानिया से एयर इंडिया का विमान मुंबई आने वाला है। इस विमान में 219 भारतीय मौजूद हैं।

भारतीयों को निकालने में जुटी सरकार

विदेश मंत्री डॉ एस जयशंकर ने बताया कि यूक्रेन से निकाले गए 219 भारतीयों के साथ पहली उड़ान रोमानिया से मुंबई के लिए रवाना हुई। विदेश मंत्री ने बताया कि हम प्रगति कर रहे हैं। हमारी टीमें 24 घंटे ज़मीन पर काम कर रही हैं। मैं व्यक्तिगत रूप से निगरानी कर रहा हूं।

इससे पहले यूक्रेन पर रूसी सैनिकों के हमले के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने गुरुवार को सीसीएस की बैठक की अध्यक्षता की थी और फिर रात में रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ फोन पर 25 मिनट तक बातचीत की। इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने हिंसा को तत्काल रोके जाने की अपील की थी। 

इसे भी पढ़ें: अमेरिकी प्रतिबंधों के बाद रूस की चेतावनी, भारत पर गिर सकता है International Space Station 

पीएमओ ने बताया था कि रूसी राष्ट्रपति ने प्रधानमंत्री मोदी को यूक्रेन संबंधी हालिया घटनाक्रम की जानकारी दी। पीएमओ ने बताया था कि प्रधानमंत्री मोदी ने अपने इस पुराने विश्वास को दोहराया कि रूस एवं नाटो के बीच मतभेदों को बातचीत के जरिए सुलझाया जा सकता है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।