क्या अखिलेश को झटका देने की तैयारी में हैं दूसरे चाचा ? योगी आदित्यनाथ से मिले रामगोपाल यादव

Ram Gopal Yadav Meets CM Yogi Adityanath
Prabhasakshi Image
अनुराग गुप्ता । Aug 02, 2022 12:15PM
उत्तर प्रदेश से चौंका देने वाली खबर सामने आई, जिसको लेकर राजनीतिक हलचल तेज हो गई। दरअसल, अखिलेश यादव के चाचा रामगोपाल यादव ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की। इसके बाद राजनीतिक गलियारों में सवाल उठने लगे कि क्या रामगोपाल यादव का भतीजे अखिलेश से मोहभंग हो गया।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव संपन्न होने के बाद सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के हौसले जितने ज्यादा बढ़े हैं, ठीक उसके उलट विपक्षी दल समाजवादी पार्टी (सपा) को उतना ही ज्यादा नुकसान होता जा रहा है। सपा अपने गठबंधन साथियों को चुनाव बाद संभालने में नाकामयाब रही। ऐसे में अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल यादव के साथ रिश्ते भी खराब हो गए और तो और शिवपाल यादव और सुभासपा प्रमुख ओमप्रकाश राजभर ने साथ भी छोड़ दिया।

इसे भी पढ़ें: भतीजे अखिलेश को चाचा शिवपाल का जवाब- मैं तो सदैव स्वतंत्र था, सिद्धांतों और सम्मान से समझौता अस्वीकार्य 

इसी बीच चौंका देने वाली खबर सामने आई, जिसको लेकर उत्तर प्रदेश की राजनीतिक हलचल तेज हो गई। दरअसल, अखिलेश यादव के चाचा रामगोपाल यादव ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की। इसके बाद राजनीतिक गलियारों में सवाल उठने लगे कि क्या रामगोपाल यादव का भतीजे अखिलेश से मोहभंग हो गया। हालांकि ऐसा नहीं है चाचा और भतीजे के बीच में मधुर संबंध हैं।

आपको बता दें कि रामगोपाल यादव ने योगी आदित्यनाथ से उनके सरकारी आवास पर मुलाकात की। सूत्रों ने पुष्टि की कि दोनों नेताओं के बीच मुलाकात हुई है। यहां मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ के पांच कालीदास मार्ग स्थित आवास पर उनके बीच यह मुलाकात हुई। इसके बाद सपा के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से एक बयान जारी हुआ। जिसके बाद राजनीतिक हलचलों पर विराम लगा

इसे भी पढ़ें: अखिलेश यादव को राजभर का जवाब- तलाक स्वीकार करते हैं, अगला ठिकाना बहुजन समाज पार्टी होगी 

सपा ने ट्वीट किया कि आज समाजवादी पार्टी के प्रमुख राष्ट्रीय महासचिव प्रोफेसर रामगोपाल यादव ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी से लखनऊ में मुलाक़ात की। प्रदेशभर में पिछड़ों और मुसलमानों पर एकतरफा फर्जी मुकदमे दर्ज कर उनके उत्पीड़न के संदर्भ में की बात। फर्जी मुकदमों को वापस ले सरकार।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़