क्या गोरखपुर से चंद्रशेखर आजाद का समर्थन करेगी समाजवादी पार्टी? अखिलेश यादव ने दिया यह जवाब

क्या गोरखपुर से चंद्रशेखर आजाद का समर्थन करेगी समाजवादी पार्टी? अखिलेश यादव ने दिया यह जवाब

खिलेश ने कहा कि समाजवादी पार्टी की सरकार बनेगी तो पुरानी पेंशन व्यवस्था को बहाल कर दिया जाएगा। यह समाजवादी पार्टी के घोषणा पत्र में शामिल किया जाएगा। 2005 से पूर्व कर्मचारियों को मिलने वाली पुरानी पेंशन व्यवस्था लागू की जाएगी।

उत्तर प्रदेश में सियासी पारा चढ़ता जा रहा है। चुनावी ऐलान के साथ ही अब प्रत्याशी भी मैदान में पूरे दमखम के साथ उतरने जा रहे हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भाजपा ने गोरखपुर शहर से प्रत्याशी बनाया है। आज आजाद समाज पार्टी के अध्यक्ष चंद्रशेखर आजाद ने गोरखपुर सीट से योगी आदित्यनाथ के खिलाफ लड़ने का ऐलान कर दिया है। इसी को लेकर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से सवाल किया गया। इस सवाल का जवाब अखिलेश यादव ने सीधे-सीधे तो नहीं दिया लेकिन यह जरूर कहा कि गोरखपुर इकाई के प्रत्याशियों से बात करके इस बात पर फैसला लिया जाएगा। अखिलेश ने दावा किया कि गोरखपुर से कई लोगों ने टिकट मांगे हैं। पार्टी गोरखपुर यूनिट से बात करेगी और फिर प्रत्याशी पर फैसला लिया जाएगा।

आपको बता दें कि गोरखपुर सदर सीट पर छठे चरण में मतदान होना है। इसके अलावा आज अखिलेश यादव ने राज्य में समाजवादी पार्टी की सरकार बनने पर कई कामों को लेकर ऐलान किए है। उन्होंने दावा किया कि समाजवादी सरकार बनते ही राज्य में पुरानी पेंशन व्यवस्था को फिर से बहाल कर दिया जाएगा। अखिलेश ने कहा कि समाजवादी पार्टी की सरकार बनेगी तो पुरानी पेंशन व्यवस्था को बहाल कर दिया जाएगा। यह समाजवादी पार्टी के घोषणा पत्र में शामिल किया जाएगा। 2005 से पूर्व कर्मचारियों को मिलने वाली पुरानी पेंशन व्यवस्था लागू की जाएगी। उन्होंने नारा दिया, "सपा का संकल्प, कर्मचारियों का होगा कायाकल्प", "कर्मचारियों का इंकलाब होगा, बाईस में बदलाव होगा"

इसे भी पढ़ें: अब अखिलेश यादव के मौसा भाजपा में होंगे शामिल, कहा- अपनी मूल विचारधारा से भटक गई सपा

इसके साथ ही अखिलेश यादव ने एक बार फिर से यश भारती सम्मान की भी शुरुआत करने की घोषणा की है। उन्होंने कहा कि जिला स्तर पर अब यश भारती सम्मान दिए जाएंगे। सपा प्रमुख ने कहा कि समाजवादी पार्टी के सभी वादों को घोषणा पत्र में शामिल किया जाएगा। उन्होंने भाजपा पर तंज कसते हुए कहा कि सत्तारूढ़ फिलहाल अपना घोषणापत्र नहीं ला रही है। पहले वह लाए फिर हम लेकर आएंगे। उन्होंने यह भी कहा कि समाजसेवियों, साहित्यकारों, पत्रकारों को भी नगर स्तर पर यह सम्मान दिया जाएगा। आपको बता दें कि अखिलेश यादव पहले ही राज्य में 300 यूनिट मुफ्त बिजली का ऐलान कर चुके हैं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।