Alumni Meet में शामिल हुए मीडिया के दिग्गज, प्रो. संजय द्विवेदी बोले- IIMC के विद्यार्थियों के बिना अधूरी है भारतीय पत्रकारिता

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 28, 2022   16:27
Alumni Meet में शामिल हुए मीडिया के दिग्गज, प्रो. संजय द्विवेदी बोले- IIMC के विद्यार्थियों के बिना अधूरी है भारतीय पत्रकारिता

प्रो. द्विवेदी ने कहा कि आमतौर पर लोग बड़े पदों पर पहुंचते हैं, तो अपनी जड़ों को भूल जाते हैं, लेकिन आईआईएमसी के पूर्व विद्यार्थियों का कैंपस से लगाव हम सभी को अपनी स्मृतियों से जुड़े रहने की प्रेरणा देता है।

नई दिल्ली। ''भारतीय पत्रकारिता का इतिहास आईआईएमसी के विद्यार्थियों के बिना अधूरा है। अपनी प्रतिभा से भारतीय जन संचार संस्थान के विद्यार्थियों ने पूरे विश्व में संस्थान का नाम रोशन किया है।'' यह विचार भारतीय जन संचार संस्थान के महानिदेशक प्रो. संजय द्विवेदी ने आईआईएमसी एलुमिनाई मीट के दौरान पूर्व विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए व्यक्त किये। प्रो. द्विवेदी ने कहा कि आमतौर पर लोग बड़े पदों पर पहुंचते हैं, तो अपनी जड़ों को भूल जाते हैं, लेकिन आईआईएमसी के पूर्व विद्यार्थियों का कैंपस से लगाव हम सभी को अपनी स्मृतियों से जुड़े रहने की प्रेरणा देता है। आईआईएमसी के महानिदेशक के अनुसार किसी भी शैक्षणिक संस्थान के दो ही आधार होते हैं, एक शिक्षक और दूसरे विद्यार्थी। कोई भी संस्थान बड़े भवनों से नहीं, बल्कि उसके विद्यार्थियों से बड़ा बनता है।

इसे भी पढ़ें: IIMC में आयोजित 'धर्मपाल प्रसंग' में बोले मुरली मनोहर जोशी- भारतीय शिक्षा को बनाएं मौलिक

आईआईएमसी के पूर्व छात्रों के संगठन 'ईमका' के वार्षिक कार्यक्रम 'कनेक्शन्स 2022' में संस्थान से पढ़कर निकले और देश के अलग-अलग संस्थानों में काम कर रहे जनसंचार के दिग्गजों ने भाग लिया। कार्यक्रम के दौरान मीडिया के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने के लिए 14 पूर्व विद्यार्थियों को 'इफको ईमका अवॉर्ड्स 2022' से सम्मानित किया गया। इस अवसर पर देश के वरिष्ठ पत्रकार मधुकर उपाध्याय, चित्रा सुब्रह्मण्यम, पद्मश्री से अलंकृत मशहूर नृत्यांगना गीता चंद्रन, 'एपको वर्ल्डवाइड' के प्रबंध निदेशक राहुल शर्मा एवं सैमसंग साउथ वेस्ट एशिया में कॉरपोरट कम्युनिकेशन के हेड पार्थो घोष को 'लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड' से सम्मानित किया गया। 

'इंडिया टुडे हिंदी' एवं 'द लल्लनटॉप' के संपादक सौरभ द्विवेदी को 'एलुमिनाई ऑफ द ईयर' का अवॉर्ड दिया गया, जबकि उत्तर प्रदेश के मलकपुर गांव के प्रधान अमित को पब्लिक सर्विस अवॉर्ड दिया गया। इसके अलावा स्वतंत्र पत्रकार सृष्टि जैसवाल को कृषि पत्रकारिता, रॉयटर्स के विशेष संवाददता कृष्ण एन दास को को प्रिंट मीडिया, एबीपी न्यूज की संवाददाता अजातिका सिंह को टीवी पत्रकारिता, इतिकला भवानी को भारतीय भाषाई पत्रकारिता (प्रिंट मीडिया), ज्योतिस्मिता नायक को भारतीय भाषाई पत्रकारिता (टेलीविजन), कौशल लखोटिया को प्रॉड्यूसर ऑफ द ईयर, विपिन ध्यानी को विज्ञापन एवं मुनी शंकर पांडेय को जनसंपर्क के क्षेत्र में उत्कृष्ठ कार्य के लिए पुरस्कृत किया गया।

इसे भी पढ़ें: 'अखिल भारतीय समाधान मूलक मीडिया अभियान' का दिल्ली में हुआ शुभारंभ

इस अवसर पर कर्नाटक चैप्टर को 'कनेक्टिंग चैप्टर ऑफ द ईयर', वर्ष 1994-95 बैच को 'कनेक्टिंग ग्रुप ऑफ द ईयर' एवं श्याम मीरा सिंह और अभिनव पांडेय को 'कनेक्टिंग एलुमिनाई ऑफ द ईयर' का पुरस्कार दिया गया। इसके अलावा वर्ष 1971-72 के गोल्डल जुबली एलुमिनाई बैच एवं वर्ष 1996-97 के सिल्वर जुबली एलुमिनाई बैच के विद्यार्थियों का भी सम्मान किया गया।

आयोजन में 'ईमका' के अध्यक्ष कल्याण रंजन, महासचिव साधना आर्य, मुख्य आयोजक कर्नाटक के परिवहन विभाग के प्रमुख सचिव राजेंद्र कटारिया, नेशनल मीट संयोजक नेटवर्क 18 के ग्रुप एडिटर ब्रजेश कुमार सिंह, स्टेट मीट संयोजक असम के राज्य सूचना आयुक्त समुद्र गुप्त कश्यप, ईमका अवॉर्ड संयोजक संबित मोहंती, अवॉर्ड समन्वयक सिमरत गुलाटी, मेडिकल फंड चेयरमैन नितिन प्रधान एवं स्कॉलरशिप चेयरमैन टीवी टुडे समूह के न्यूज डायरेक्टर सुप्रिय प्रसाद समेत देश के विभिन्न हिस्सों से आए एलुमिनाई शामिल हुए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।