संजय राउत ने कहा-केंद्रीय एजेंसियां माफिया की भांति भाजपा के प्रतिद्वंद्वियों को बना रही हैं निशाना

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 23, 2022   14:03
संजय राउत ने कहा-केंद्रीय एजेंसियां माफिया की भांति भाजपा के प्रतिद्वंद्वियों को बना रही हैं निशाना

राज्यसभा सदस्य राउत ने कहा कि कुछ साल पहले भाजपा के पूर्व सांसद किरीट सोमैया ने कुछ नेताओं के विरुद्ध एक शिकायत दर्ज कराई थी जो अब भाजपा में शामिल हो गए हैं। उन्होंने सवाल किया,

मुंबई, महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक से प्रवर्तन निदेशालय की पूछताछ पर शिवसेना सांसद संजय राउत ने बुधवार को कहा कि केंद्रीय जांच एजेंसियां माफिया की तरह, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के उन राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों को निशाना बना रही हैं जिन्होंने उनके झूठ को उजागर किया है। राउत ने यहां संवाददाताओं से कहा कि ईडी के अधिकारी पूछताछ के लिए मलिक को उनके घर से ले गए। राउत ने कहा, यह महाराष्ट्र सरकार के लिए एक चुनौती है। केंद्रीय एजेंसियां माफिया की भांति भाजपा के राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों को निशाना बना रही हैं जो उनके झूठ को उजागर करते हैं। लेकिन सच की जीत होगी और लड़ाई जारी रहेगी। शिवसेना प्रवक्ता ने कहा, यह (पुराने मामले निकाल कर व्यक्तियों को निशाना बनाना) 2024 तक जारी रहेगा और उसके बाद उन्हें नतीजा भुगतना होगा।

राज्यसभा सदस्य राउत ने कहा कि कुछ साल पहले भाजपा के पूर्व सांसद किरीट सोमैया ने कुछ नेताओं के विरुद्ध एक शिकायत दर्ज कराई थी जो अब भाजपा में शामिल हो गए हैं। उन्होंने सवाल किया, सम्मन क्यों नहीं जारी किये गए? गौरतलब है कि सोमैया ने नारायण राणे समेत कई नेताओं के विरुद्ध शिकायत दर्ज कराई थी। राणे बाद में भाजपा में शामिल हो गए और वर्तमान में केंद्रीय मंत्री हैं। राउत ने कहा, मैंने महा विकास आघाडी सरकार के सभी वरिष्ठ नेताओं से बात की है। मैं जल्द ही केंद्रीय जांच एजेंसियों के बारे में खुलासा करूंगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।