चंडीगढ़ में कोविड प्रतिबंधों में ढील, 10वीं से 12वीं तक के लिए स्कूल खोलने की अनुमति

Schools
प्रतिरूप फोटो
यद्यपि तीनों कक्षाओं को फिर से खोले जाने का आदेश एक फरवरी से लागू होगा, लेकिन अन्य प्रकार की राहतें 28 जनवरी से प्रभावी हो जाएंगी। ऑफलाइन क्लास के लिए 15 साल से अधिक उम्र के सभी विद्यार्थियों को कम से कम टीके की एक खुराक लगी होनी चाहिए।

चंडीगढ़|  चंडीगढ़ प्रशासन ने बृहस्पतिवार को कोविड प्रतिबंधों में ढील देते हुए कक्षा 10 से 12वीं तक के छात्रों के लिए एक फरवरी से स्कूल खोलने की अनुमति दे दी। एक बयान के अनुसार, प्रशासन ने व्यायामशालाओं, बाजारों और सुखना झील के पास की गतिविधियों के समय में भी छूट दी है।

हालांकि, पंजाब के राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित ने लोगों से सार्वजनिक स्थानों पर कोविड संबंधी प्रोटोकॉल और दिशानिर्देशों का पालन करने की अपील की। वह केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ के भी प्रशासक हैं। पुरोहित ने चंडीगढ़ प्रशासन के सभी वरिष्ठ अधिकारियों के साथ शहर में महामारी की स्थिति की समीक्षा की।

यद्यपि तीनों कक्षाओं को फिर से खोले जाने का आदेश एक फरवरी से लागू होगा, लेकिन अन्य प्रकार की राहतें 28 जनवरी से प्रभावी हो जाएंगी। ऑफलाइन क्लास के लिए 15 साल से अधिक उम्र के सभी विद्यार्थियों को कम से कम टीके की एक खुराक लगी होनी चाहिए। पचास प्रतिशत क्षमता के साथ कोचिंग संस्थानों को भी खोलने की इजाजत दी गयी है। इन संस्थानों में भी टीके की एक खुराक संबंधी उक्त निर्देश का पालन किया जाना अनिवार्य होगा।

अनाज मंडियों सहित सभी बाजारों को 10 बजे रात तक खोलने की अनुमति दी गयी है। पहले इन्हें पांच बजे शाम तक ही खोलने की अनुमति थी।

सभी जिम और स्वास्थ्य केंद्र 50 फीसदी क्षमता के साथ 10 बजे रात तक खुलेंगे, बशर्ते सभी कर्मचारी और ग्राहक व उपभोक्ता टीके की खुराक लिये हों। नौका विहार सहित सुखना झील से संबंधित सभी गतिविधियां पांच बजे सुबह से 10 बजे रात तक उपलब्ध होंगीं।

पुरोहित ने पुलिस अधिकारियों को सभी सार्वजनिक स्थलों पर कोविड-अनुरूप प्रोटोकॉल का पालन सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़