नारायण राणे के खिलाफ शिवसैनिकों का विरोध प्रदर्शन, नासिक में भाजपा दफ्तर पर हुआ पथराव

Shiv Sena
अनुराग गुप्ता । Aug 24, 2021 11:58AM
केंद्रीय मंत्री नारायण राणे के कथित बयान के बाद मामला गर्मा गया और कथित लोगों ने नासिक स्थित भाजपा कार्यालय में पथराव किया। शिवसैनिकों पर पथराव का आरोप लगा है। वहीं शिवसैनिकों ने मुंबई में नारायण राणे के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया और गिरफ्तारी की मांग की।
मुंबई। केन्द्रीय मंत्री नारायण राणे के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को थप्पड़ मारने संबंधी कथित बयान को लेकर विवाद खड़ा हो गया है। जिसके बाद शिवसैनिकों ने नारायण राणे के खिलाफ जमकर विरोध प्रदर्शन किया। मुंबई में शिवसेना कार्यकर्ताओं ने नारायण राणे के आवास के बाहर प्रदर्शन किया। इसी बीच शिवसेना और भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हो गई। जिसके बाद पुलिस ने लाठियां चलाईं।

इसे भी पढ़ें: उद्धव ठाकरे को थप्पड़ मारने वाले बयान को लेकर बुरे फंसे नारायण राणे, हो सकती है गिरफ्तारी 

भाजपा दफ्तर पर हुआ पथराव

नारायण राणे के कथित बयान के बाद मामला गर्मा गया और कथित लोगों ने नासिक स्थित भाजपा कार्यालय में पथराव किया। शिवसैनिकों पर पथराव का आरोप लगा है। वहीं शिवसैनिकों ने मुंबई में नारायण राणे के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया और गिरफ्तारी की मांग की।

नारायण राणे के खिलाफ FIR दर्ज

उद्धव ठाकरे को थप्पड़ मारने संबंधी कथित बयान को लेकर केंद्रीय मंत्री नारायण राणे के खिलाफ 4 एफआईआर दर्ज हुई है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक पुणे के चतुरशृंगी पुलिस स्टेशन में युवा सेना की शिकायत के बाद आईपीसी की धारा 153 और 505 के तहत एफआईआर दर्ज की गई है।  

नारायण राणे ने क्या कुछ कहा ?

केंद्रीय मंत्री नारायण राणे ने कहा कि मुझे इस बात की कोई जानकारी नहीं है कि मेरे खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। मैंने कोई अपराध नहीं किया है। 15 अगस्त के बारे में कोई नहीं जानता तो क्या यह अपराध नहीं है? मैंने कहा था कि मैं थप्पड़ मार देता और यह अपराध नहीं है।  

इसे भी पढ़ें: शिवसेना के प्रति वफादार हूं, राणे की टिप्पणी का उद्देश्य एमवीए में भ्रम पैदा करना है : शिन्दे

नारायण राणे ने रायगढ़ जिले में सोमवार को जन आशीर्वाद यात्रा के दौरान कहा था कि यह शर्मनाक है कि मुख्यमंत्री को यह नहीं पता कि आजादी को कितने साल हुए हैं। भाषण के दौरान वह पीछे मुड़ कर इस बारे में पूछते नजर आए थे। अगर मैं वहां होता तो उन्हें एक जोरदार थप्पड़ मारता।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री रह चुके नारायण राणे पहले शिवसेना में थे, जो बाद में कांग्रेस में और फिर साल 2019 में भाजपा में शामिल हो गए।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़