शिवसेना ने अयोध्या यात्रा टालने के कारणों को लेकर राज ठाकरे की आलोचना की

Raj Thackeray
ani
शिवसेना सांसद संजय राउत ने रविवार को महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) प्रमुख राज ठाकरे के इस दावे की रविवार को आलोचना की कि उन्होंने अयोध्या का दौरा इसलिए टाला क्योंकि उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं को कानूनी जाल में फंसाने की साजिश रची जा रही है।

मुंबई। शिवसेना सांसद संजय राउत ने रविवार को महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) प्रमुख राज ठाकरे के इस दावे की रविवार को आलोचना की कि उन्होंने अयोध्या का दौरा इसलिए टाला क्योंकि उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं को कानूनी जाल में फंसाने की साजिश रची जा रही है। राउत ने कहा कि इस तरह की टिप्पणियां हताशा में की गई हैं। शिवसेना के मुख्य प्रवक्ता राउत ने पत्रकारों से बातचीत करते हुए जानना चाहा, “आपको अयोध्या जाने से कौन रोक सकता है?

इसे भी पढ़ें: वैष्णो देवी मंदिर जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए ‘आरएफआईडी’ की शुरुआत होगी

क्या साजिश हो सकती है? राउत ने दावा किया कि यह भाजपा प्रायोजित यात्रा थी और उत्तर प्रदेश में भाजपा का ही शासन है। राज्यसभा सदस्य ने कहा, “अगर भाजपा के एक सांसद का विरोध है तो उस विरोध को नज़रअंदाज़ करते हुए आगे बढ़ो। आपको कौन फंसाएगा? इस तरह की सभी टिप्पणियांहताशा में की गई हैं। (ऐसी टिप्पणियों पर)परामर्श और उपचार की जरूरत है।” गौरतलब है कि राज ठाकरे को उत्तर प्रदेश के भाजपा सांसद बृज भूषण शरण सिंह के कड़े विरोध का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने चेतावनी दी है कि मनसे प्रमुख को तब तक अयोध्या में प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा जब तक कि वह पूर्व में उत्तर भारतीयों को अपमानित करने के लिए सार्वजनिक रूप से माफी नहीं मांग लेते।

इसे भी पढ़ें: PM मोदी ने 6 महीने के भीतर पेट्रोल-डीजल पर दो बार एक्साइज ड्यूटी घटाया: जेपी नड्डा

पुणे में रविवार को एक रैली में, ठाकरे ने दावा किया कि अयोध्या की पांच जून को होने वाली उनकी प्रस्तावित यात्रा को लेकर उपजा राजनीतिक विवाद, उनकी पार्टी के कार्यकर्ताओं को कानूनी जाल में फंसाने की चाल है और इसलिए, उन्होंने उत्तर प्रदेश के शहर की अपनी यात्रा को स्थगित करने का फैसला किया। ठाकरे ने यह भी कहा कि एक जून को उनकी सर्जरी होनी है और इससे ठीक होने के बाद वह फिर एक जनसभा को संबोधित करेंगे। मनसे अध्यक्ष ने कहा कि जब उन्होंने अपनी अयोध्या यात्रा टालने का संदेश पोस्ट किया था, तो कई लोग खुश हुए थे जबकि कुछ को यह पसंद नहीं आया। उन्होंने दावा किया, “मैं उन चीजों को देख रहा था जिन पर अयोध्या यात्रा की घोषणा के बाद चर्चा हो रही थी। बाद में मुझे पता चला कि यह एक जाल है। इसकी शुरुआत महाराष्ट्र में हुई।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़