ED की छापेमारी पर शिवसेना नेता संजय राउत का पलटवार, कही ये बात

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 24, 2020   15:42
ED की छापेमारी पर शिवसेना नेता संजय राउत का पलटवार, कही ये बात

संजय राउत ने भाजपा का नाम लिए बिना यहां संवाददाताओं से कहा कि उसे (भाजपा) अगले 25 साल तक महाराष्ट्र में सत्ता में आने का ख्वाब देखना बंद कर देना चाहिए। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार एजेंसियों के द्वारा चाहे जितना दबाव बना ले शिवसेना उसके आगे नहीं झुकेगी।

मुंबई। शिवसेना विधायक प्रताप सरनाईक पर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा की गई कार्रवाई को पार्टी ने मंगलवार को “राजनीतिक प्रतिशोध” करार दिया और कहा कि महाराष्ट्र सरकार या उसके नेता किसी दबाव के आगे नहीं झुकेंगे। शिवसेना सांसद संजय राउत ने भाजपा का नाम लिए बिना यहां संवाददाताओं से कहा कि उसे (भाजपा) अगले 25 साल तक महाराष्ट्र में सत्ता में आने का ख्वाब देखना बंद कर देना चाहिए। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार एजेंसियों के द्वारा चाहे जितना दबाव बना ले शिवसेना उसके आगे नहीं झुकेगी। उन्होंने कहा, “अगर आपने आज शुरुआत की है तो हमें पता है कि इसका अंत कैसे करना है।” 

इसे भी पढ़ें: धन शोधन मामले में ED की कार्रवाई, शिवसेना विधायक के ठिकानों पर छापेमारी

धन शोधन के एक मामले में ईडी ने मंगलवार को शिवसेना विधायक सरनाईक से संबंधित परिसरों पर छापेमारी की। राउत ने कहा, “यह कार्रवाई निश्चित रूप से राजनीतिक प्रतिशोध है। ईडी या किसी अन्य एजेंसी को किसी राजनीतिक पार्टी की शाखा के रूप में काम नहीं करना चाहिए।” उन्होंने कहा कि सरनाईक की संपत्ति पर उस समय छापेमारी की गई, जब वह घर पर नहीं थे। राउत ने कहा कि चाहे जितने भी नोटिस जारी किये जाएं, महाराष्ट्र में केवल सत्य की विजय होगी। राउत ने यह भी कहा कि किसी एजेंसी द्वारा जांच करने पर पाबंदी नहीं है और साक्ष्य मौजूद होने पर वह कार्रवाई कर सकती है। उन्होंने कहा, “लेकिन यदि आप राज्य सरकार के लोगों को मानसिक रूप से परेशान करना चाहते हैं, तो यह दांव उल्टा पड़ेगा। मुझे लगता है कि इसका समय आ रहा है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।