शिवसेना सांसद संजय जाधव ने दिया इस्तीफा, एपीएमसी में NCP को प्रतिनिधित्व देने के खिलाफ उठाया कदम

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 27, 2020   19:56
शिवसेना सांसद संजय जाधव ने दिया इस्तीफा, एपीएमसी में NCP को प्रतिनिधित्व देने के खिलाफ उठाया कदम

संजय जाधव ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एवं शिवेसना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे को पत्र के जरिये अपना इस्तीफा भेज दिया है। शिवसेना सूत्रों ने बताया कि ठाकरे ने जाधव से अपना इस्तीफा वापस लेने को कहा है।

मुंबई। शिवसेना सांसद संजय जाधव ने महाराष्ट्र के परभणी जिले में एपीएमसी के गैर आधिकारिक प्रशासनिक बोर्ड में राकांपा को प्रतिनिधित्व देने के विरोध में लोकसभा सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। पार्टी सूत्रों ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी। जाधव ने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एवं शिवेसना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे को पत्र के जरिये अपना इस्तीफा भेज दिया है। शिवसेना सूत्रों ने बताया कि ठाकरे ने जाधव से अपना इस्तीफा वापस लेने को कहा है। परभणी से लोकसभा सदस्य जाधव ने ठाकरे को जो इस्तीफा भेजा है उसपर 25 अगस्त की तारीख है। इसमें कहा गया है कि वह परभणी जिले के जींतुर स्थित कृषि उत्पाद बाजार समिति (एपीएमसी) बोर्ड में शिवसैनिक को नियुक्त करने का मुद्दा उठा रहे हैं लेकिन दूसरी बार यह पद राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) को चली गई। जब इस बारे में पूछा गया तो शिवसेना के सूत्र ने कहा, ‘‘ यह बड़ा मुद्दा नहीं है। उद्धवजी ने जाधव से फोन पर बात की है और पत्र वापस लेने को कहा है।’’ 

इसे भी पढ़ें: शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ में सोनिया गांधी को पत्र लिखने वाले नेताओं पर साधा गया निशाना

पत्रकारों से बातचीत करते हुए शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा कि जाधव मुंबई में हैं और संभवत: ठाकरे से मुलाकात करेंगे। राउत ने इस्तीफे को तरजीह नहीं देते हुए कहा, ‘‘इस मामले को सुलझा लिया जाएग। स्थानीय राजनीति कई बार शासन को बाधित करती है।’’ जाधव इस पूरे मामले पर टिप्पणी करने के लिए उपलब्ध नहीं हुए। पत्र में जाधव ने लिखा कि वह इस बात से परेशान हैं कि राकांपा को एपीएमसी के गैर आधिकारिक प्रशासनिक बोर्ड में प्रतिनिधित्व मिला जबकि जींतुर में उसका विधायक नहीं है। उन्होंने लिखा, ‘‘ जब शिवसेना सरकार का नेतृत्व कर रही है, मैं महसूस करता हूं कि पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ न्याय नहीं हुआ। इसलिए मुझे सांसद के तौर पर कार्य करने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है।’’ इस बीच, बुधवार देर रात परभणी में राकांपा के कार्यालय पर पथराव हुआ। परभणी से राकांपा नेता बाबूजानी दुर्रानी ने कहा, ‘‘ जाधव के पीछे अदृश्य हाथ काम कर रहे हैं। जाधव जींतुर मेंभाजपा के अनुकूल महौल बनाने का प्रयास कर रहे हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।