बहुमत सिद्ध करने के SC के निर्देश का शिवसेना ने किया स्वागत, कहा- खरीद फरोख्त की आदी है बीजेपी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 26, 2019   12:27
बहुमत सिद्ध करने के SC के निर्देश का शिवसेना ने किया स्वागत, कहा- खरीद फरोख्त की आदी है बीजेपी

शिवसेना नेता अरविंद सावंत ने कहा कि उच्चतम न्यायालय ने हमारी बात को समझते हुये बुधवार शाम पांच बजे तक बहुमत साबित करने का समय देकर, आज हमें न्याय दिया है।’’उन्होंने कहा, ‘‘हम शुरू से कह रहे थे कि जिस दल को बहुमत प्राप्त है उसे सरकार बनाने का अवसर दिया जाना चाहिये।

नयी दिल्ली। शिवसेना नेता एवं लोकसभा सदस्य अरविंद सावंत ने महाराष्ट्र की देवेन्द्र फडनवीस सरकार को विधानसभा में बुधवार को बहुमत सिद्ध करने का निर्देश देने के उच्चतम न्यायालय के फैसले का स्वगत करते हुये कहा है कि विधायकों की खरीद फरोख्त करने की आदी हो चुकी भाजपा अब ऐसा नहीं कर पायेगी।  सावंत ने मंगलवार को न्यायालय के फैसले पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये कहा, ‘‘हमारी सिर्फ यही मांग थी कि बहुमत साबित करने के लिए जितने अधिक दिन लगाये जायेंगे, उतनी ही अधिक खरीद फरोख्त होती रहेगी।

इसे भी पढ़ें: SC के फैसले के बाद कांग्रेस ने कहा- धन और बाहुबल से अधिक शक्तिशाली है संविधान

उच्चतम न्यायालय ने हमारी बात को समझते हुये बुधवार शाम पांच बजे तक बहुमत साबित करने का समय देकर, आज हमें न्याय दिया है।’’उन्होंने कहा, ‘‘हम शुरू से कह रहे थे कि जिस दल को बहुमत प्राप्त है उसे सरकार बनाने का अवसर दिया जाना चाहिये। हमारे पास बहुमत है, कल (सोमवार को) भी हमने यह बात बता दी। ये लोग (भाजपा) तो खरीद फरोख्त की आदत से मजबूर हैं, इसलिये अब इसे रोका जा सकेगा।’’ राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता माजिद मेमन ने कहा, ‘‘ हम पहले से कहते आ रहे हैं कि इस सरकार के पास बहुमत नहीं है। यह सरकार रात के अंधेरे में बनी थी और दिन के उजाले में जाएगी।’’ उल्लेखनीय है कि उच्चतम न्यायालय ने कांग्रेस, राकांपा और शिवसेना की याचिका पर मंगलवार को को फैसला सुनाते हुये महाराष्ट्र सरकार को बुधवार शाम पांच बजे तक विधानसभा में बहुमत साबित करने का निर्देश दिया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।