SC के फैसले के बाद कांग्रेस ने कहा- धन और बाहुबल से अधिक शक्तिशाली है संविधान

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 26, 2019   11:58
SC के फैसले के बाद कांग्रेस ने कहा- धन और बाहुबल से अधिक शक्तिशाली है संविधान

उच्चतम न्यायालय ने महाराष्ट्र में शक्ति परीक्षण बुधवार को करवाने का निर्देश दिया है और अब मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को विधानसभा में बहुमत कल ही साबित करना होगा।

मुंबई। महाराष्ट्र कांग्रेस ने मंगलवार को उच्चतम न्यायालय के आदेश का स्वागत किया और कहा कि संविधान ‘धन और बाहुबल’ की तुलना में कहीं अधिक शक्तिशाली है। पार्टी ने दावा किया कि शिवसेना-राकांपा और कांग्रेस के पास कुल मिलाकर 162 विधायकों का समर्थन है। गौरतलब है कि उच्चतम न्यायालय ने महाराष्ट्र के राज्यपाल को निर्देश दिया है कि वह विधानसभा में बुधवार को शक्ति परीक्षण सुनिश्चित करवाएं। कांग्रेस की महाराष्ट्र इकाई ने ट्वीट किया, ‘‘हम माननीय उच्चतम न्यायालय के फैसले का स्वागत करते हैं। लोकतंत्र में संविधान सर्वोपरि है और धन तथा बाहुबल से कहीं अधिक शक्तिशाली है। हम 162 हैं।’’

इसे भी पढ़ें: विपक्ष ने संसद की संयुक बैठक का किया बहिष्कार, आंबेडकर की प्रतिमा के सामने प्रदर्शन किया

उच्चतम न्यायालय ने महाराष्ट्र में शक्ति परीक्षण बुधवार को करवाने का निर्देश दिया है और अब मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को विधानसभा में बहुमत कल ही साबित करना होगा। शीर्ष अदालत ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को निर्देश दिया कि वह यह भी सुनिश्चित करें कि सदन के सभी निर्वाचित सदस्य बुधवार को ही शपथ ग्रहण करें। न्यायालय ने कहा कि समूची प्रक्रिया पांच बजे तक पूरी हो जानी चाहिए। न्यायमूर्ति एन वी रमण, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति संजीव खन्ना की पीठ ने कहा कि महाराष्ट्र विधानसभा में शक्ति परीक्षण के दौरान गुप्त मतदान नहीं हो और विधानसभा की पूरी कार्यवाही का सीधा प्रसारण किया जाए। राज्यपाल राज्य विधानसभा के अस्थायी अध्यक्ष को भी नियुक्त करेंगे जो नवनिर्वाचित सदस्यों को शपथ दिलवाएंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।