चुनाव के बाद चाचा-भतीजे में रार! बैठक में न बुलाए जाने से नाराज शिवपाल पहुंचे दिल्ली, मुलायम से की अखिलेश की शिकायत

चुनाव के बाद चाचा-भतीजे में रार! बैठक में न बुलाए जाने से नाराज शिवपाल पहुंचे दिल्ली, मुलायम से की अखिलेश की शिकायत

सपा प्रमुख और भतीजे अखिलेश यादव की बेरुखी से दुखी शिवपाल यादव आक्रामक मुद्रा में आ गए हैं। शिवपाल यादव मेरे भतीजे अखिलेश यादव से दो-दो हाथ करने की तैयारी कर ली है। यूपी विधानसभा चुनाव-2022 के नतीजों में मिली निराशा के बाद अब एक बार फिर मुलायम परिवार में दूरियां नज़र आने लगी हैं।

चाचा-भतीजे के प्यार की हमेशा मिसालें दी जाती हैं लेकिन उत्तर प्रदेश की समाजवादी पार्टी में चाचा-भतीजें के बीच चीजें बिगड़ती जा रहीं हैं। चुनाव के दौरान परिवार की एकता दिखाने वाले मुलायम सिंह यादव के खानदान में टकराव देखने को मिल रहा है। समाजवादी पार्टी के नवनिर्वाचित विधायकों ने 26 मार्च को लखनऊ में पार्टी कार्यालय में मुलाकात की। बैठक की अध्यक्षता पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने की। समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव को नवनिर्वाचित पार्टी विधायकों की बैठक में सर्वसम्मति से विधानमंडल दल का नेता चुना गया लेकिन इस बैठक में अखिलेश यादव ने अपने चाचा शिवपाल यादव को नहीं बुलाया। 

इसे भी पढ़ें: बंगाल विधानसभा में हाथापाई, शुभेंदु अधिकारी समेत भाजपा के 5 विधायक सस्पेंड, टीएमसी विधायक अस्पताल में हुए भर्ती

सपा के सहयोगी दलों के विधायकों की बैठक से किनारा कर नाराज शिवपाल दिल्ली रवाना

सपा प्रमुख और भतीजे अखिलेश यादव की बेरुखी से दुखी शिवपाल यादव आक्रामक मुद्रा में आ गए  हैं। शिवपाल यादव मेरे भतीजे अखिलेश यादव से दो-दो हाथ करने की तैयारी कर ली है। यूपी विधानसभा चुनाव-2022 के नतीजों में मिली निराशा के बाद अब एक बार फिर मुलायम परिवार में दूरियां नज़र आने लगी हैं। परिणाम के बाद अखिलेश यादव ने पार्टी विधायकों की बैठक में शिवपाल को न्‍योता नहीं दिया तो आज समाजवादी पार्टी गठबंधन में शामिल सहयोगी पार्टियों की मीटिंग में जाने की बजाए शिवपाल दिल्‍ली चले गए।

मुलायम सिंह यादव से की अखिलेश यादव की शिकायत 

वहां उन्‍होंने अपने बड़े भाई और समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव से मिलकर अपना दर्द साझा किया. उधर आज की लखनऊ में अखिलेश यादव ने सहयोगी दलों की बैठक बुलाई है। इस बैठक में वह विधानसभा चुनाव में मनमुताबिक नतीजे न आने के सवाल पर मंथन करेंगे। बैठक में नाराज चाचा शिवपाल शामिल होंगे या नहीं इस पर सबकी नज़रें थीं लेकिन अब साफ हो गया है कि शिवपाल इस बैठक में शामिल नहीं हो रहे हैं। वह दिल्‍ली पहुंच गए हैं। राजधानी में उन्‍होंने मुलायम सिंह यादव से मुलाकात की। माना जा रहा है कि इस मुलाकात में शिवपाल ने मुलायम से अपना दर्द साझा किया।

इसे भी पढ़ें: जम्मू कश्मीर में चुनाव, बीजेपी का बनेगा CM, फारूक अब्दुल्ला थामेंगे कमल? जानें क्या है पूरा मामला

शिवपाल सिंह यादव को समाजवादी पार्टी की बैठक में अखिलेश ने नहीं बुलाया?

समाजवादी पार्टी (सपा) के विधायक शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि उन्हें पार्टी के विधायक दल की महत्वपूर्ण बैठक में नहीं बुलाया गया। बैठक में अखिलेश यादव को सर्वसम्मति से सपा के विधायक दल का नेता चुना गया। शिवपाल ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘मुझे बैठक के बारे में कोई जानकारी नहीं है, मैंने सपा के नेताओं से संपर्क करने की कोशिश की, लेकिन मुझे इसके बारे में कोई जानकारी नहीं मिली है।’’ जसवंत नगर सीट से सपा विधायक शिवपाल ने कहा, ‘‘मैंने हमेशा कहा है कि मुझे जो भी जिम्मेदारी दी जाएगी, मैं उसके अनुसार काम करूंगा लेकिन मुझे विधायक दल की बैठक के लिए नहीं बुलाया गया था, हालांकि मैं सपा का विधायक हूं।’’ 

शिवपाल ने हमेशा दिखाई पार्टी से वफादारी

गौरतलब है कि शिवपाल ने सपा के चुनाव चिह्न पर चुनाव लड़ा था। शिवपाल ने 2017 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले अपनी पार्टी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) बनाई थी। सपा संरक्षक मुलायम सिंह यादव के छोटे भाई शिवपाल ने कहा कि उन्होंने ‘साइकिल’ के चुनाव चिह्न पर चुनाव लड़ा था और यहां तक कि करहल और कई अन्य जगहों पर पार्टी के लिए प्रचार भी किया। उन्होंने कहा कि इसके बावजूद, उन्हें नहीं पता कि सपा के विधायक दल की बैठक के बारे में उन्हे सूचित क्यों नहीं किया गया। बैठक में शामिल नहीं होने के बारे में पूछे जाने पर शिवपाल ने कहा, ‘‘यह राष्ट्रीय नेतृत्व को समझना है कि उसे क्या करना है, मुझे कोई निमंत्रण या जानकारी नहीं मिली है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘फिलहाल, भविष्य के लिए मेरी कोई योजना नहीं है, मैं सपा के साथ-साथ अपनी पार्टी में अपने समर्थकों से बात करूंगा। मुझे अभी भविष्य के बारे में कुछ नहीं कहना है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...