• पंजाब कांग्रेस में विवाद को खत्म करने की कोशिश, 14 अक्टूबर को वरिष्ठ नेताओं से मिलेंगे सिद्धू

कांग्रेस आलाकमान ने अब तक सिद्धू का इस्तीफा स्वीकार नहीं किया है। सूत्रों का कहना है कि 14 अक्टूबर की बैठक के बाद कुछ बिंदुओं पर सहमति बनेगी और फिर सिद्धू अपना इस्तीफा वापस लेने की घोषणा कर सकते हैं।

नयी दिल्ली|  कांग्रेस की पंजाब इकाई के अध्यक्ष पद से नवजोत सिंह सिद्धू के इस्तीफे के बाद पैदा हुए नये विवाद को खत्म करने के प्रयास के तहत पार्टी के वरिष्ठ नेता सिद्धू के साथ 14 अक्टूबर को बैठक करेंगे। सूत्रों के मुताबिक, इस बैठक के बाद गतिरोध खत्म हो सकता है और फिर सिद्धू अपने इस्तीफे को वापस लेने की घोषणा भी कर सकते हैं।

कांग्रेस महासचिव और पंजाब प्रभारी हरीश रावत ने मंगलवार को ट्वीट कर बताया कि सिद्धू आगामी 14 अक्टूबर को पार्टी के संगठन महासचिव के सी वेणुगोपाल और प्रदेश प्रभारी हरीश रावत से मुलाकात करेंगे।

इसे भी पढ़ें: बीएसएफ महानिदेशक ने पंजाब के सीमावर्ती इलाकों का दौरा किया

उन्होंने कहा, ‘‘पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी से जुड़े कुछ संगठनात्मक मामलों को लेकर 14 अक्टूबर को शाम छह बजे मुझसे और वेणुगोपाल जी से मुलाकात करेंगे।’’ कांग्रेस महासचिव रावत के मुताबिक, यह मुलाकात वेणुगोपाल के कार्यालय में होगी। उल्लेखनीय है कि सिद्धू ने 28 सितंबर को कांग्रेस की पंजाब इकाई के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी को लिखे पत्र में सिद्धू ने कहा था कि वह पार्टी की सेवा करना जारी रखेंगे। उन्होंने पत्र में लिखा था, ‘‘किसी भी व्यक्ति के व्यक्तित्व में गिरावट समझौते से शुरू होती है, मैं पंजाब के भविष्य और पंजाब के कल्याण के एजेंडे को लेकर कोई समझौता नहीं कर सकता हूं।’’

कांग्रेस आलाकमान ने अब तक सिद्धू का इस्तीफा स्वीकार नहीं किया है। सूत्रों का कहना है कि 14 अक्टूबर की बैठक के बाद कुछ बिंदुओं पर सहमति बनेगी और फिर सिद्धू अपना इस्तीफा वापस लेने की घोषणा कर सकते हैं। कांग्रेस के एक सूत्र ने कहा, ‘‘सिद्धू ने कुछ मुद्दे उठाए हैं। उनको डीजीपी और महाधिवक्ता की नियुक्तियों के संदर्भ में कुछ आपत्तियां हैं। उम्मीद की जानी चाहिए कि इस बैठक के बाद विवाद पूरी तरह खत्म हो जाएगा और सब मिलकर आगामी चुनाव में कांग्रेस को जीत दिलाने में जुट जाएंगे।’’

पिछले दिनों कैप्टन अमरिंदर सिंह के मुख्यमंत्री पद से हटने के बाद चरणजीत सिंह चन्नी को यह जिम्मेदारी सौंपी गई थी। पिछले दिनों यह भी चर्चा थी कि सिद्धू मुख्यमंत्री चन्नी की कार्यशैली को लेकर भी खुश नहीं हैं, हालांकि कांग्रेस के सूत्र इससे इनकार करते हैं।

इसे भी पढ़ें: शिअद ने वायरल वीडियो के लेकर सिद्धू पर निशाना साधा

कांग्रेस सूत्रों ने यह भी बताया कि फिलहाल सिद्धू के दिल्ली दौरे पर राहुल गांधी और प्रियंका गांधी से उनकी मुलाकात का कोई कार्यक्रम तय नहीं है।