सीताराम येचुरी ने प्रधानमंत्री मोदी को लिखा पत्र, पूरे देश में ऑक्सीजन की आपूर्ति करने का आग्रह किया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 24, 2021   20:56
सीताराम येचुरी ने प्रधानमंत्री मोदी को लिखा पत्र, पूरे देश में ऑक्सीजन की आपूर्ति करने का आग्रह किया

सीताराम येचुरी ने प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखकर पूरे देश में ऑक्सीजन की निर्बाध आपूर्ति सुनिश्चित करने का आग्रह किया है। कोरोना वायरस की दूसरी लहर के कारण पैदा हुआ अप्रत्याशित स्वास्थ्य एवं मानवीय संकट सुनामी का रूप ले चुका है। केंद्र सरकार के रवैये से यह संकट और गहरा गया है।

नयी दिल्ली। मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के महासचिव सीताराम येचुरी ने शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर आग्रह किया कि कोरोना महामारी के मद्देनजर पूरे देश में ऑक्सीजन की निर्बाध आपूर्ति और सार्वभौमिक टीकाकरण कार्यक्रम सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने यह भी कहा कि सेंट्रल विस्टा परियोजना को रद्द किया जाए और पीएम केयर फंड के तहत आए अनुदान की राशि को ऑक्सीजन की आपूर्ति और कोरोना के टीके लिए उपयोग में लाया जाए। येचुरी ने कहा, ‘‘मैं बहुत दुख के साथ यह पत्र लिख रहा हूं।

इसे भी पढ़ें: कोरोना वायरस: जम्मू-कश्मीर में शनिवार रात आठ बजे से 34 घंटे का कर्फ्यू

कोरोना वायरस की दूसरी लहर के कारण पैदा हुआ अप्रत्याशित स्वास्थ्य एवं मानवीय संकट सुनामी का रूप ले चुका है। केंद्र सरकार के रवैये से यह संकट और गहरा गया है।’’ उन्होंने प्रधानमंत्री से आग्रह किया कि पूरे देश में ऑक्सीजन की निर्बाध आपूर्ति और सार्वभौमिक टीकाकरण कार्यक्रम सुनिश्चित किया जाए। वाम नेता ने यह सुझाव दिया कि टीकाकरण कार्यक्रम के लिए 35,000 करोड़ रुपये की राशि का आवंटन किया जाना चाहिए। येचुरी ने कहा, ‘‘अगर आप भारतीय नागरिकों को ऑक्सीजन और टीका उपलब्ध कराने तथा आगे मौतों को रोकने में असमर्थ होते हैं तो आपकी सरकार को बने रहने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है। यह संकट रोका जा सकता था। सरकार अपने मौलिक कर्तव्य का निर्वहन करने में विफल रही है।’’ उल्लेखनीय है कि कोरोना वायरस संक्रमण के कारण येचुरी के बड़े पुत्र आशीष येचुरी का गत 22 अप्रैल को निधन हो गया था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।