कोरोना वायरस: जम्मू-कश्मीर में शनिवार रात आठ बजे से 34 घंटे का कर्फ्यू

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 24, 2021   20:24
कोरोना वायरस: जम्मू-कश्मीर में शनिवार रात आठ बजे से 34 घंटे का कर्फ्यू

कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच जम्मू-कश्मीर में शनिवार रात आठ बजे से 34 घंटे का कर्फ्यू का ऐलान किया है।आवश्यक एवं आपात सेवाओं की अनुमति होगी। सभी बाजार एवं वाणिज्यिक संस्थान बंद रहेंगे।

जम्मू। जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों के बीच शनिवार रात आठ बजे से 34 घंटे का कर्फ्यू लागू करने की घोषणा की है। जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने ट्वीट किया, ‘‘केंद्र शासित प्रदेश में 24 अप्रैल (शनिवार) को रात आठ बजे से 26 अप्रैल (सोमवार) को सुबह छह बजे तक कोरोना कर्फ्यू पूर्णत: लागू किया जाएगा। आवश्यक एवं आपात सेवाओं की अनुमति होगी। सभी बाजार एवं वाणिज्यिक संस्थान बंद रहेंगे।’’ जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने आठ अप्रैल को आठ जिलों के शहरी इलाकों में रात 10 बजे से सुबह छह बजे तक रात्रिकालीन कर्फ्यू लागू करने का आदेश दिया था, जिसे बाद में 20 अप्रैल को केंद्रशासित प्रदेश के सभी 20 जिलों की नगर पालिका और शहरी स्थानीय निकाय सीमाओं में भी लागू करने का आदेश दिया गया।

इसे भी पढ़ें: राजस्‍थान में बढ़ते कोरोना मामलों के बीच चिकित्सा मंत्री हेल्पडेस्क रविवार से शुरू होगी

अधिकारियों ने बताया कि जम्मू-कश्मीर में शुक्रवार को संक्रमण के 1,937 नए मामले सामने के बाद केंद्रशासित प्रदेश में संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 1,56,344 हो गई, जिनमें से एक दिन में 19 लोगों की मौत होने के बाद कुल मृतक संख्या बढ़कर 2,111 हो गई। प्रशासन ने 20 अप्रैल को रात्रिकालीन कर्फ्यू में विस्तार देने के अलावा कहा था कि सार्वजनिक परिवहन (मेटाडोर/मिनीबस/बस) में महज 50 प्रतिशत क्षमता तक ही यात्रियों के सवार होने की अनुमति होगी और निगम एवं शहरी स्थानीय निकाय क्षेत्रों में बाजार परिसर/ बाजार/ मॉल में एक दिन आधी दुकानें और अगले दिन बाकी आधी दुकानें खुलेंगी। दुकानदारों ने कुछ आपत्तियां जताने के साथ आदेश का पालन किया, लेकिन जम्मू में निजी ट्रांसपोर्टरों ने 21 अप्रैल को अनिश्चितकालीन हड़ताल शुरू कर दी। ट्रांसपोर्टरों ने किरायों में 50 प्रतिशत वृद्धि की मांग करते हुए हड़ताल की। ’जम्मू चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री’ ने केंद्रशासित प्रदेश के प्रशासन से अपने आदेश की समीक्षा करने की अपील की थी और दावा किया था कि इस आदेश से व्यापारियों के समुदाय और बड़ी संख्या में लोगों को काफी असुविधा हो रही है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।