मालदा के फैक्ट्री में हुए विस्फोट से छह व्यक्तियों की मौत, भाजपा ने घटना की NIA जांच की मांग की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 20, 2020   09:16
  • Like
मालदा के फैक्ट्री में हुए विस्फोट से छह व्यक्तियों की मौत, भाजपा ने घटना की NIA जांच की मांग की

मालदा के सुजापुर क्षेत्र में विस्फोट को लेकर राजभवन और प्रदेश सरकार के बीच वाकयुद्ध शुरू हो गया। राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से कहा कि ‘‘अवैध बम बनाने’’ पर रोक लगायें।

मालदा। पश्चिम बंगाल के मालदा जिले में बृहस्पतिवार को एक प्लास्टिक फैक्ट्री में हुए विस्फोट में छह व्यक्तियों की मौत हो गयी। राज्य में विपक्षी भाजपा ने घटना की जहां एनआईए जांच की मांग की, वहीं सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस ने उससे मुद्दे का राजनीतिकरण नहीं करने को कहा है। मालदा के सुजापुर क्षेत्र में विस्फोट को लेकर राजभवन और प्रदेश सरकार के बीच वाकयुद्ध शुरू हो गया। राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से कहा कि ‘‘अवैध बम बनाने’’ पर रोक लगायें। राज्य के गृह विभाग ने तीखी प्रतिक्रिया जतायी जिसका प्रभार खुद बनर्जी संभालती हैं। विभाग ने कहा ‘‘विस्फोट का अवैध बम बनाने से कोई लेना-देना नहीं है, जैसा कि कुछ वर्गों की ओर से गैर-जिम्मेदार तरीके से कहा गया है।’’ पुलिस ने बताया कि मालदा जिले के सुजापुर इलाके में एक प्लास्टिक फैक्ट्री में विस्फोट आज पूर्वाह्न 11:30 बजे के आसपास हुआ। उन्होंने बताया, ‘‘फैक्ट्री में काम करने वाले चार श्रमिकों की मौके पर ही मौत हो गयी जबकि एक अन्य को अस्पताल में मृत घोषित किया गया। इस विस्फोट में पांच अन्य गंभीर रूप से घायल हुए हैं।’’ एक वरिष्ठ अधिकारी ने पीटीआई-को बताया कि गंभीर रूप से घायल एक व्यक्ति को जब कोलकाता के एक अस्पताल में भर्ती कराया जा रहा था तभी उसकी मौत हो गई। मालदा के पुलिस अधीक्षक आलोक राजोरिया ने कहा कि प्रारंभिक जांच से पता चला है कि कारखाने के अंदर एक भारी मशीन में तकनीकी खराबी के कारण उच्च तीव्रता का विस्फोट हुआ। उन्होंने कहा, ‘‘विस्फोट प्लास्टिक निर्माण के दौरान हुआ। हम सभी कोणों से जांच कर रहे हैं और एक फोरेंसिक टीम घटनास्थल का दौरा करेगी।’’ 

अधिकारी ने कहा कि स्थिति को नियंत्रण में रखने के लिए मौके पर भारी पुलिस बल की तैनाती की गई है। हालात का जायजा लेने के लिए राज्य के मंत्री फिरहाद हकीम को मौके पर भेजा गया है। राज्य सरकार ने मृतकों के परिजनों के लिए 2-2 लाख रुपये की अनुग्रह राशि और घायलों के लिए 50-50 हजार रुपये की घोषणा है। राज्य के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने इस घटना पर दुख जताया और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को ‘‘अवैध बम बनाने’’ पर रोक लगाने और ‘‘पेशेवर एवं बिना पक्षपात के जांच’’ सुनिश्चित करने के लिए कहा। उन्होंने ट्वीट किया, ‘‘मालदा जिले के सुजापुर इलाके में विस्फोट में हुई मौतों से व्यथित हूं। एसपी के मुताबिक पांच लोगों की मौत हुई है और पांच अन्य घायल हुए हैं। यह समय है कि ममता बनर्जी अवैध रूप से बम निर्माण पर रोक लगायें और पेशेवर एवं बिना पक्षपात के जांच सुनिश्चित करें।’’

इसे भी पढ़ें: बंगाल के उत्तर 24 परगना में स्थित भाजपा कार्यालय जलकर खाक, पार्टी ने तृणमूल पर मढ़ा दोष

धनखड़ ने प्रशासन से घायलों को चिकित्सा सहायता सुनिश्चित करने के लिए भी कहा। उनकी टिप्पणी पर गृह विभाग की ओर से एक तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए ट्वीट किया गया, ‘‘मालदा सुजापुर प्लास्टिक कारखाने की आज की घटना उत्पादन प्रक्रिया मुद्दों से संबंधित है और इसका गैरकानूनी बम बनाने से कोई लेना-देना नहीं है, जैसा कि कुछ वर्गों द्वारा गैर-जिम्मेदारी से कहा गया है।’’ इसमें कहा गया, ‘‘मौके पर मौजूद डीएम और एसपी तत्काल जांच के बाद राज्य के अधिकारियों को सूचित कर रहे हैं और मुआवजे के लिए कदम उठाए गए हैं। एक वरिष्ठ मंत्री को मौके पर भेजा गया है और यह तथ्यात्मक रूप से सही होने का समय है। सरकार पीड़ितों और उनके परिवार की मदद कर रही है।’’ धनखड़ ने पलटवार करते हुए कहा, ‘‘कानून और व्यवस्था तथा जांच स्थिति ‘‘चिंताजनक है और इसे ‘‘बिना पक्षपात के संभाले जाने की जरूरत है।’’ उन्होंने ट्वीट करके कहा कि पश्चिम बंगाल पुलिस पेशेवर तरीके से जांच क्यों न करे। उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी ऐसे बम धमाकों में मरने वालों की संख्या का खुलासा क्यों नहीं करतीं। इस घटना को लेकर भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के बीच वाकयुद्ध शुरू हो गया। भाजपा ने घटना की एनआईए जांच की मांग की। भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव एवं बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, ‘‘पश्चिम बंगाल में बम विस्फोट एक नियमित घटना बन गयी है। हर दूसरे दिन, राज्य में बम विस्फोट की कोई घटना होती है। हम मालदा विस्फोट की घटना की एनआईए जांच की मांग करते हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हम केंद्रीय गृह मंत्रालय को पत्र लिखकर एक एनआईए जांच के लिए अनुरोध करेंगे ताकि सच्चाई सामने आ सके क्योंकि राज्य पुलिस इस मामले को दबाने की कोशिश करेगी।’’ आरोप का खंडन करते हुए हकीम ने कहा, ‘‘हम केंद्रीय एजेंसियों का सम्मान करते हैं लेकिन भाजपा को अपने निहित राजनीतिक हितों के लिए उनका उपयोग करना बंद करना चाहिए। भाजपा को शवों पर राजनीति करना बंद करना चाहिए।’’ उन्होंने कहा कि राज्य पुलिस घटना की जांच कर रही है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


राजस्थान के अनेक हिस्सों में रात का पारा गिरा,कई हिस्‍सों में कोहरा रहेगा जारी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 17, 2021   12:13
  • Like
राजस्थान के अनेक हिस्सों में रात का पारा गिरा,कई हिस्‍सों में कोहरा रहेगा जारी

राजस्‍थान के अनेक हिस्‍सों में रात का पारा गिरा है।वहीं गंगानगर में यह 2.5, जैसलमेर में 6.1 , बीकानेर में 6.3 और अलवर में 7.4 डिग्री सेल्सियस रहा। राज्‍य के अनेक हिस्‍सों में रविवार सुबह घना कोहरा छाया रहा। मौसम विभाग के अनुसार राज्‍य के कई हिस्‍सों में सर्दी व कोहरे का क्रम अभी जारी रहेगा।

जयपुर। राजस्‍थान के अनेक हिस्‍सों में रात के न्‍यूनतम तापमान में गिरावट आई है जहां बीती शनिवार रात पिलानी 1.4 डिग्री सेल्सियस न्‍यनूतम तापमान के साथ सबसे सर्द रहा। मौसम विभाग के अनुसार इसी तरह चुरू में न्‍यूनतम तापमान 1.9 डिग्री सेल्सियस रहा।

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र: ठाणे जिले में कोरोना वायरस संक्रमण के 373 नए मामले, पहले दिन 79.39 प्रतिशत हुआ टीकाकरण

वहीं गंगानगर में यह 2.5, जैसलमेर में 6.1 , बीकानेर में 6.3 और अलवर में 7.4 डिग्री सेल्सियस रहा। राज्‍य के अनेक हिस्‍सों में रविवार सुबह घना कोहरा छाया रहा। मौसम विभाग के अनुसार राज्‍य के कई हिस्‍सों में सर्दी व कोहरे का क्रम अभी जारी रहेगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


महाराष्ट्र: ठाणे जिले में कोरोना वायरस संक्रमण के 373 नए मामले, पहले दिन 79.39 प्रतिशत हुआ टीकाकरण

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 17, 2021   12:09
  • Like
महाराष्ट्र: ठाणे जिले में कोरोना वायरस संक्रमण के 373 नए मामले, पहले दिन 79.39 प्रतिशत हुआ टीकाकरण

ठाणे में कोविड-19 के 373 नए मामले सामने आए है।वहीं, कोविड-19 से बचाव के लिए शनिवार को शुरू हुए देशव्यापी टीकाकरण अभियान के तहत पहले दिन जिले में कुल पंजीकृत 2,300 लोगों में से 1,829 लोगों ने टीका लगवाया।

ठाणे (महाराष्ट्र)। महाराष्ट्र के ठाणे जिले में कोरोना वायरस से संक्रमण के 373 नए मामले आने से यहां अबतक संक्रमित हुए कुल मरीजों की संख्या बढ़कर 2,49,182 हो गई है। एक अधिकारी ने रविवार को बताया कि इस अवधि में तीन कोविड-19 मरीजों की मौत हुई है जिन्हें मिलाकर अबतक इस महामारी से 6,052 लोगों की जान जा चुकी है। वहीं, कोविड-19 से बचाव के लिए शनिवार को शुरू हुए देशव्यापी टीकाकरण अभियान के तहत पहले दिन जिले में कुल पंजीकृत 2,300 लोगों में से 1,829 लोगों ने टीका लगवाया।

इसे भी पढ़ें: प्रारंभ स्टार्टअप इंडिया इंटरनेशनल समिट में बोले PM मोदी, ये डिजिटल रिवॉल्यूशन की सदी है

अधिकारी ने बताया कि ठाणे जिले में कोविड-19 मरीजों में मृत्युदर 2.44 प्रतिशत है। उन्होंने बताया कि अबतक 2,39,004 मरीज संक्रमण मुक्त हो चुके हैं जिससे मरीजों के स्वस्थ होने की दर 95.92 प्रतिशत हो गई है जबकि 4,126 मरीज इस समय जिले में उपचाराधीन हैं। वही, पड़ोसी पालघर के जिला प्रशासन के अधिकारी ने बताया कि जिले में अबतक कोरोना वायरस से संक्रमण के 44,826 मामले आए हैं जिनमें से 1,194 लोगों की मौत हुई है।

इसे भी पढ़ें: सोशल मीडिया के जरिए ठगी करने वाले इंटरनेशनल रैकेट का भंडाफोड़, पुलिस ने 12 को किया गिरफ्तार

ठाणे के जिला चिकित्सा अधिकारी मनीष रेंगे ने शनिवार देर रात संशोधित आंकड़े जारी कर बताया कि टीकाकरण के पहले दिन के लिए पंजीकृत स्वास्थ्य कर्मियों में से 79.39 प्रतिशत कर्मियों को टीका लगाया गया है। इससे पहले रेंगे ने बताया था कि शनिवार के टीकाकरण के लिए पंजीकृत कुल 2,300 लोगों में से 1,740 (75.63 प्रतिशत) ने टीका लगवाया है। जिला सिविल सर्जन कैलाश पवार ने बताया कि को-विन ऐप में खामी की वजह से टीकाकरण को आधे घंटे तक रोकना पड़ा था। हालांकि, बाद में टीकाकरण शुरू कर दिया गया। महाराष्ट्र सरकार ने ऐसे में समस्या आने के मद्देनजर शनिवार शाम को घोषणा की थी कि सोमवार तक टीकाकरण अभियान स्थगित रहेगा। ठाणे के पड़ोसी जिले में शनिवार के टीकाकरण के लिए पंजीकृत 400 लोगों में 257 को टीका लगाया गया जो 64.25 प्रतिशत है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


को-विन ऐप में आई दिक्कत, महाराष्ट्र में टीकाकरण अभियान सोमवार तक निलंबित

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 17, 2021   11:38
  • Like
को-विन ऐप में आई दिक्कत, महाराष्ट्र में टीकाकरण अभियान सोमवार तक निलंबित

को-विन ऐप में दिक्कत के बाद महाराष्ट्र में टीकाकरण अभियान सोमवार तक निलंबित कर दिया गया है।स्वास्थ्य विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि ऐप में दिक्कत आने की वजह से कई लोगों को टीके के लिए संदेश नहीं गया जिन्हें शनिवार को टीका लगवाना था।

मुंबई। महाराष्ट्र सरकार ने शनिवार शाम कहा कि को-विन ऐप में दिक्कत आने की वजह से राज्य में कोविड-19 टीकाकरण अभियान को सोमवार तक के लिए निलंबित कर दिया गया है। केंद्र सरकार ने टीकाकरण के लिए पंजीकरण का प्रबंधन करने के वास्ते यह ऐप बनाया है। देशभर में शनिवार सुबह कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण अभियान शुरू हो गया। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा, सिर्फ महाराष्ट्र में ही नहीं, बल्कि देश में हर जगह इस ऐप ने टीकाकरण अभियान के क्रियान्वयन में समस्याएं पैदा कीं। हमने अगले दो दिनों के लिए टीकाकरण अभियान को निलंबित करने का निर्णय किया है।

इसे भी पढ़ें: प्रारंभ स्टार्टअप इंडिया इंटरनेशनल समिट में बोले PM मोदी, ये डिजिटल रिवॉल्यूशन की सदी है

स्वास्थ्य विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि ऐप में दिक्कत आने की वजह से कई लोगों को टीके के लिए संदेश नहीं गया जिन्हें शनिवार को टीका लगवाना था। उन्होंने बताया कि को-विन ऐप में दिक्कत आ गई, जिसका शुक्रवार देर रात पता चला था और शनिवार शाम तक परेशानी का हल नहीं किया जा सका। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार की योजना पहले दिन 28,500 स्वास्थ्यकर्मियों को टीका लगाने की थी, लेकिन 18,425 लोगों को टीका लगाया गया है जो पहले दिन के लक्ष्य का 65 फीसदी है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept