कश्मीर के स्प्रिंग फूड फेस्टिवल में पर्यटकों की भीड़ देखकर Tourism Industry से जुड़े लोग खुश

कश्मीर के स्प्रिंग फूड फेस्टिवल में पर्यटकों की भीड़ देखकर Tourism Industry से जुड़े लोग खुश

ट्यूलिप गार्डन में चल रहे स्प्रिंग फूड फेस्टिवल को मिल रही प्रतिक्रिया से उत्साहित पर्यटन सचिव सरमद हफीज ने कहा कि यह जानकर बहुत अच्छा लगा कि कश्मीर की युवा पीढ़ी भी इस आयोजन में बढ़-चढ़कर भाग ले रही है।

कश्मीर में पर्यटन सीजन की शानदार शुरुआत हो चुकी है। सर्दियों में तो इस बार कश्मीर में पर्यटकों के आने के सभी पुराने रिकॉर्ड टूटे ही वसंत के मौसम में भी बड़ी संख्या में पर्यटक आ रहे हैं जिससे पयर्टन कारोबार से जुड़े लोग बहुत खुश हैं। कश्मीर में पर्यटन विभाग लगातार विभिन्न तरह के आयोजन कर पर्यटकों को नये अनुभव करवा रहा है। इसी कड़ी में पर्यटन सचिव ने ट्यूलिप गार्डन में आयोजित सात दिवसीय स्प्रिंग फूड फेस्टिवल का उद्घाटन किया। हम आपको बता दें कि इस फूड फेस्टिवल में आप कश्मीर के तमाम व्यंजनों का लाभ उठा सकते हैं। इस फूड फेस्टिवल में कश्मीर के बेकरी उत्पादों को भी प्रमुखता से प्रदर्शित किया गया है। एक तो ट्यूलिप गार्डन की खूबसूरती उस पर से यहां चल रहे फूड फेस्टिवल में लजील व्यंजनों की मदहोश कर देने वाली सुगंध... यह सब पर्यटकों को खूब भा रहा है और लोग कश्मीरी व्यंजनों का स्वाद लेने को आतुर दिख रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: श्रीनगर में आशा कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन कर नौकरी को पक्का करने की माँग की

स्प्रिंग फूड फेस्टिवल के दौरान कश्मीरी लोक गीत संगीत के कार्यक्रम भी हो रहे हैं और यहां की सांस्कृतिक विविधता को भी विभिन्न माध्यमों से प्रदर्शित किया गया है। स्प्रिंग फूड फेस्टिवल को मिल रही प्रतिक्रिया से उत्साहित पर्यटन सचिव सरमद हफीज ने कहा कि यह जानकर बहुत अच्छा लगा कि कश्मीर की युवा पीढ़ी भी इस आयोजन में बढ़-चढ़कर भाग ले रही है। उन्होंने कहा कि पर्यटन विभाग का प्रयास है कि इस स्प्रिंग फूड फेस्टिवल के जरिये कश्मीर के रचनात्मक उद्यमियों को अपनी प्रतिभा दिखाने और उत्पाद प्रदर्शित करने के लिए एक मंच मिले। प्रभासाक्षी संवाददाता ने इस आयोजन का जायजा लिया और प्रतिभागियों तथा पर्यटन सचिव से बातचीत की। बातचीत के दौरान पर्यटकों ने कहा कि कश्मीर पूरी तरह सुरक्षित है और हर किसी को यहां परिवार के सहित आना चाहिए।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।