स्कूल में कोरोना वायरस से छात्रा की मौत, 14 छात्राएं संक्रमित; मचा हड़कंप

corona virus
ANI
लातेहार में कोरोना वायरस से छात्रा की मौत हो गई जिससे विद्यालय में अवकाश घोषित करा दिया गया है। लातेहार की जिला शिक्षा अधिकारी निर्मला बरेलिया ने ‘पीटीआई-भाषा’ को बताया कि शुक्रवार को विद्यालय की नौवीं कक्षा की 15 वर्षीय छात्रा सुशीला ताना भगत की कोरोना के लक्षण होने के बाद जांच की गयी तो उसे संक्रमित पाया गया।

लातेहार। झारखंड के लातेहार जिले के चंदवा में कोरोना वायरस से कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय की नौवीं कक्षा की छात्रा की शनिवार रात्रि मौत हो गयी। इसके बाद जांच में 14 अन्य छात्राओं के संक्रमित पाये जाने पर विद्यालय में अवकाश घोषित कर दिया गया है। लातेहार की जिला शिक्षा अधिकारी निर्मला बरेलिया ने को बताया कि शुक्रवार को विद्यालय की नौवीं कक्षा की 15 वर्षीय छात्रा सुशीला ताना भगत की कोरोना के लक्षण होने के बाद जांच की गयी तो उसे संक्रमित पाया गया। उन्होंने बताया कि इलाज के लिए भगत को चंदवा सीएचसी और फिर सदर अस्पताल ले जाया गया।

इसे भी पढ़ें: राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू का मिला फटा होर्डिंग, पुलिस ने दर्ज किया केस, जांच शुरू

लातेहार के सदर अस्पताल से उसे रांची के राजेन्द्र आयुर्विज्ञान संस्थान (रिम्स) में इलाज के लिए भेजा गया, जहां इलाज के दौरान शनिवार देर रात्रि उसकी मौत हो गयी। जिला शिक्षा अधिकारी ने बताया कि तत्काल शिविर लगाकर जब चंदवा कस्तूरबा विद्यालय में छात्राओं की कोरोना जांच की गयी तो 14 अन्य छात्राओं को संक्रमित पाया गया। उन्होंने बताया कि वायरस के प्रसार को देखते हुए तत्काल सभी संक्रमित छात्राओं को विद्यालय में पृथकवास में रखा गया। उन्होंने बताया कि विद्यालय में अवकाश घोषित कर दिया गया है। विद्यालय की वार्डेन सीता कुमारी ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा कि कोरोना वायरस संक्रमण से छात्रा की मौत के बाद छात्राओं तथा कर्मचारियो में दहशत है। इस संबंध में जिला प्रशासन के अन्य अधिकारियों एवं स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से पूछे जाने पर सभी ने पूरी घटना के बारे में अनभिज्ञता प्रकट की जबकि अभी 15 जुलाई को भी लातेहार के ही मनिका ब्लॉक के कस्तूरबा विद्यालय में तीन छात्राएं संक्रमित पायी गई थीं।

इसे भी पढ़ें: आदित्य ठाकरे को करारा झटका! मोदी सरकार के रडार पर आया ये फैसला, जानें आखिर मामला क्या है?

जानकारी के मुताबिक, रविवार तड़के छात्रा का शव रिम्स रांची से उसके पैतृक आवास बनहरदी गांव पहुंचा दिया गया, जहां पारंपरिक रीति रिवाज के अनुसार छात्रा का अंतिम संस्कार किया गया। जिला शिक्षा अधिकारी ने बताया कि शिक्षा विभाग की ओर से अंतिम संस्कार के लिए छात्रा के परिजनों को चार हजार रुपये भी दिए गये। मृत छात्रा के पिता रामजी ताना भगत महाराष्ट्र में मजदूरी करते हैं। बरेलिया ने कहा कि अब पूरे विद्यालय परिसर को सैनिटाइज करने के बाद छात्राओं को स्कूल बुलाया जाएगा।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़