प्रवासी कामगारों को रोजगार देने के लिये हो विभिन्न उद्योगों का सर्वेक्षण: योगी आदित्यनाथ

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 26, 2020   20:03
प्रवासी कामगारों को रोजगार देने के लिये हो विभिन्न उद्योगों का सर्वेक्षण: योगी आदित्यनाथ

राज्य के गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव अवनीश कुमार अवस्थी ने मंगलवार को बताया कि मुख्यमंत्री ने वरिष्ठ अधिकारियों के साथ लॉकडाउन व्यवस्था की समीक्षा करते हुए प्रवासी मजदूरों और कामगारों को उनकी दक्षता के अनुरूप समायोजित करने के लिये एमएसएमई समेत सभी प्रकार के उद्योगों का सर्वेक्षण कराने के निर्देश दिये।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लॉकडाउन के दौरान राज्य में लौटे प्रवासी मजदूरों को कुटीर, लघु एवं मंझोले उद्यमों (एमएसएमई) समेत विभिन्न उद्योगों में उनकी दक्षता के हिसाब से समायोजित करने के लिये सर्वेक्षण के आदेश दिये हैं। राज्य के गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव अवनीश कुमार अवस्थी ने मंगलवार को बताया कि मुख्यमंत्री ने वरिष्ठ अधिकारियों के साथ लॉकडाउन व्यवस्था की समीक्षा करते हुए प्रवासी मजदूरों और कामगारों को उनकी दक्षता के अनुरूप समायोजित करने के लिये एमएसएमई समेत सभी प्रकार के उद्योगों का सर्वेक्षण कराने के निर्देश दिये। उन्होंने बताया कि योगी ने प्रवासी श्रमिकों को रोजगार देने का संकल्प दोहराया तथामुख्यमंत्री हेल्पलाइन के माध्यम से कामगारों और श्रमिकों से संवाद करने और उनके कौशल के आकलन (स्किल मैपिंग) का काम 15 दिनों में पूरा करके उन सभी का डेटा संकलित करने के निर्देश भी दिये।

अवस्थी ने बताया कि अन्य राज्यों से आए कामगारों एवं श्रमिकों के कौशल आकलन के प्रथम चरण में कुल 14,75,424 लोगों ने अपना पंजीकरण कराया है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने कामगारों एवं श्रमिकों के नए राशन कार्ड बनाने के आदेश दिये और कहा कि एक जून से शुरू होने वाले खाद्यान्न वितरण अभियान के अगले चरण की तैयारियां अभी से शुरू कर दी जाएं। अवस्थी के मुताबिक मुख्यमंत्री ने समय तय करके सार्वजनिक पार्कों में मॉर्निंग वॉक की अनुमति देने तथा उनके बीच एक दूसरे से दूरी सुनिश्चित करने के लिए वहां गश्त करने के निर्देश भी दिये। योगी ने कहा कि वित्तीय तथा औद्योगिक संस्थानों सहित सभी महत्वपूर्ण स्थलों पर गश्ती व्यवस्था व्यवस्था को सुदृढ़ रखा जाए। अवस्थी ने बताया कि मुख्यमंत्री ने कहा है कि एल-1, एल-2 तथा एल-3 कोविड-19 चिकित्सालयों में बेड की संख्या को इस माह के अन्त तक बढ़ाकर एक लाख बेड किया जाए। अभी तक 80 हजार बेड तैयार हो गये हैं। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना के आंकड़ों को लेकर गुमराह कर रही उत्तर प्रदेश सरकार: पीएल पुनिया

अधिक से अधिक लोगों की जांच का निर्देश देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रत्येक जिले में एक जांच प्रयोगशाला की स्थापना के कार्य को गति प्रदान की जाए। अपर मुख्य सचिव ने बताया कि देश में सबसे अधिक कामगार उत्तर प्रदेश में आये हैं। राज्य में अब तक 1454 ट्रेन के माध्यम से 20.17 लाख से अधिक कामगार एवं श्रमिकों को लाये जाने की व्यवस्था की गई है। इनमें से अब तक 1265 रेलगाड़ियों से 17 लाख लोगों को प्रदेश में लाया जा चुका है। उन्होंने बताया कि अगले 24 घंटे में उत्तर प्रदेश में 100 और रेलगाड़ियां आयेंगी। सभी जनपदों में जिलाधिकारी द्वारा सम्बन्धित जिलों में ट्रेन से आ रहे कामगारों/श्रमिकों का स्वास्थ्य परीक्षण कराकर उनको उनके घर तक पहुंचाया जा रहा है। अवस्थी ने बताया कि प्रदेश में अब तक 1009 हॉटस्पॉट क्षेत्र हैं, जिनमें 48,95,090 लोगों को चिन्हित किया गया है। इन क्षेत्रों में कोरोना संक्रमित पाये गये लोगों की संख्या 2488 है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...