'तुम नरेंद्र मोदी और अमित शाह के पालतू...', सुशील मोदी को मिली जान से मारने की धमकी

Sushil Mod
ANI
अंकित सिंह । Sep 20, 2022 5:47PM
अपने ट्वीट में सुशील मोदी ने लिखा कि पश्चिम बंगाल के पूर्वी वर्धमान जिले से धमकी भरा पत्र मिला है जिसमें हत्या करने की धमकी दी गई है। उन्होंने लिखा कि चंपा सोम (सोमा) द्वारा स्पीड पोस्ट से प्राप्त धमकी भरे पत्र में अंग्रेजी में लिखा है कि ‘मैं आपको सूचना दे रहा हूँ कि मैं तृणमूल कांग्रेस का नेता हूँ।

बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी को जान से मारने की धमकी मिली है। यह दावा भाजपा नेता की ओर से किया गया है। भाजपा नेता सुशील मोदी ने साफ तौर पर कहा है कि उन्हें हत्या करने की धमकी भरा पत्र मिला है। यह पत्र उन्हें स्पीड पोस्ट के जरिए प्राप्त हुआ है। अपने ट्वीट में सुशील मोदी ने लिखा कि पश्चिम बंगाल के पूर्वी वर्धमान जिले से धमकी भरा पत्र मिला है जिसमें हत्या करने की धमकी दी गई है। उन्होंने लिखा कि चंपा सोम (सोमा) द्वारा स्पीड पोस्ट से प्राप्त धमकी भरे पत्र में अंग्रेजी में लिखा है कि ‘मैं आपको सूचना दे रहा हूँ कि मैं तृणमूल कांग्रेस का नेता हूँ।

इसे भी पढ़ें: सुशील मोदी की चुनौती, कहीं से भी चुनाव लड़ लें नीतीश कुमार, जब्त होगी जमानत, JDU का पलटवार

सुशील मोदी का दावा है कि पत्र में लिका है, "ममता बनर्जी भारत की अगली प्रधानमंत्री बन सकती है। तुम नरेंद्र मोदी और अमित शाह के पालतू कुत्ते हो। ममता बनर्जी और नीतीश कुमार जिंदाबाद। मैं आप की हत्या कर दूँगा।" भाजपा के राज्यसभा सांसद ने लिखा कि स्पीड पोस्ट से अंग्रेजी में लिखा यह पत्र निम्न पते से भेजा गया है। चंपा सोम (सोमा), पोस्ट+ग्राम- रायन, जिला- पूर्वी वर्धमान, पश्चिम बंगाल 713104। उन्होंने कहा कि इस पत्र में चंपा सोम (सोमा) ने अपना मोबाइल नंबर 7501620019 भी डाल रखा है। यह पत्र राजेंद्र नगर स्थित निजी आवास के पते पर प्राप्त हुआ है। मोदी ने उपरोक्त पत्र सहित, लिफाफा पटना के वरीय आरक्षी अधीक्षक को प्रेषित कर आग्रह किया है कि इस पर अग्रतर कार्रवाई की जाए।

इसे भी पढ़ें: 'बिहार में अब बजट को लेकर घामासान', वित्त मंत्री ने केंद्र पर लगाया पैसे नहीं देने का आरोप, भाजपा का पलटवार

सुशील मोदी जबरदस्त तरीके से इन दिनों नीतीश कुमार पर हमलावर है। जबसे बिहार में महागठबंधन की सरकार बनी है, सुशील मोदी लगातार नीतीश कुमार और तेजस्वी यादव पर निशाना साध रहे हैं। हाल में ही मोदी ने कहा था कि तेजस्वी यादव को 2018 में जमानत मिलने के बाद दो साल तक न्याय प्रक्रिया कोविड के कारण ठप रही। उनके वकील ने 11 बार ट्रायल कोर्ट से समय मांग कर मामले को लटकाने की कोशिश की। सीबीआई सोया नहीं थी, लेकिन अब राजद-जदयू की नींद खराब होने वाली है।

अन्य न्यूज़