शुक्र ग्रह पर जाएगा भारत का ‘शुक्रयान’, स्वीडन ने विशेष उपकरण देने का किया वादा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 25, 2020   13:10
  • Like
शुक्र ग्रह पर जाएगा भारत का ‘शुक्रयान’, स्वीडन ने विशेष उपकरण देने का किया वादा

भारत के शुक्र ग्रह ऑर्बिटर अभियान ‘शुक्रयान’ के साथ स्वीडन ने जुड़ने का फैसला किया है जिसके तहत वह ग्रह पर खोज करने के लिए एक वैज्ञानिक उपकरण उपलब्ध कराएगा।

बेंगलुरु। भारत के शुक्र ग्रह ऑर्बिटर अभियान ‘शुक्रयान’ के साथ स्वीडन ने जुड़ने का फैसला किया है जिसके तहत वह ग्रह पर खोज करने के लिए एक वैज्ञानिक उपकरण उपलब्ध कराएगा। भारत में स्वीडन के राजदूत, क्लास मोलिन ने कहा कि इसमें स्वीडिश अंतरिक्ष भौतिकी संस्थान (आईआरएफ) भारत का सहयोग करेगा। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के साथ आईआरएफ का यह दूसरा सहयोग है।

इसे भी पढ़ें: वफादार, मददगार और रणनीतिकार...ऐसे थे कांग्रेस के ‘अहमद भाई’ 

मोलिन ने पीटीआई-से कहा, “आईआरएफ उपग्रह उपकरण विनसियन न्यूट्रल्स एनालाइजर (वीएनए) इस पर अध्ययन करेगा कि सूर्य से निकलने वाले आवेशित कण (शुक्र) ग्रह के वातावरण में कैसा व्यवहार दिखाते हैं।” उन्होंने कहा, “शुक्र अभियान का तात्पर्य है कि आईआरएफ और इसरो के बीच सहयोग जारी रहेगा।”

इसे भी पढ़ें: पुडुचेरी में कोरोना संक्रमण के 51 नये मामले, संक्रमितों की संख्या 36,820 हुयी

स्वीडिश अधिकारियों के अनुसार वीएनए, आईआरएफ द्वारा विकसित नौवीं पीढ़ी का उपकरण है। पहली पीढ़ी के उपकरण का नाम ‘सारा’ (एसआरए) था और उसका इस्तेमाल 2008-2009 के दौरान चंद्रयान-एक अभियान में किया गया था। यह आईआरएफ और इसरो के बीच पहली सहयोगात्मक परियोजना थी। मोलिन ने कहा कि अंतरिक्ष के क्षेत्र में भारत के साथ सहयोग का दायरा बहुत बड़ा है। उन्होंने कहा कि इस दायरे में संस्थानों से लेकर तकनीक के क्षेत्र में काम करने वाली कंपनियां भी शामिल हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


किसान कांग्रेस के सदस्यों ने कृषि मंत्री के आवास के बाहर किया प्रदर्शन, कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 27, 2021   08:44
  • Like
किसान कांग्रेस के सदस्यों ने कृषि मंत्री के आवास के बाहर किया प्रदर्शन, कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग की

किसान कांग्रेस के उपाध्यक्ष सुरेंद्र सोलंकी ने कहा कि किसान अंत तक लड़ेंगे और सरकार को उनकी मांगों को मानना चाहिये तथा तीनों काले कानूनों को वापस लेना चाहिये।

नयी दिल्ली। अखिल भारतीय किसान कांग्रेस के सदस्यों ने शुक्रवार को तीन कृषि कानूनों के खिलाफ यहां केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के आवास के बाहर प्रदर्शन किया और इन कानूनों को वापस लेने की मांग की। किसान कांग्रेस के उपाध्यक्ष सुरेंद्र सोलंकी ने कहा कि प्रदर्शनकारियों ने किसानों की समस्याओं को लेकर ‘‘सोई हुई सरकार को जगाने के प्रयास के तहत कृषि मंत्री के आवास का घेराव किया।’’ 

इसे भी पढ़ें: MP सरकार ने कोरोना काल में किसानों, गरीब जनता की आर्थिक मदद की है: शिवराज 

उन्होंने कहा कि ‘‘तीनों काले कानूनों’’ को पारित किये जाने के समय से ही किसान कांग्रेस कृषकों के साथ खड़ी है और उनके मुद्दे का समर्थन कर रही है। सोलंकी ने कहा, ‘‘किसान अंत तक लड़ेंगे और सरकार को उनकी मांगों को मानना चाहिये तथा तीनों काले कानूनों को वापस लेना चाहिये।’’ कुछ कार्यकर्ताओं को प्रदर्शन के दौरान थोड़े समय के लिये हिरासत में लिया गया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


अयोध्या से जल्द शुरू होंगी उड़ानें, मुख्यमंत्री योगी बोले- हवाईअड्डे का विस्तार चलता रहेगा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 27, 2021   08:39
  • Like
अयोध्या से जल्द शुरू होंगी उड़ानें, मुख्यमंत्री योगी बोले- हवाईअड्डे का विस्तार चलता रहेगा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि इसके साथ ही हवाईअड्डे के विस्तार की कार्यवाही चलती रहेगी, जिसमें एयर बस और अन्य बड़े यात्री विमानों का आवागमन बेहतर तरीके से हो सके।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अयोध्या हवाईअड्डे से जल्द ही उड़ानें शुरू होंगी। साथ ही इसे अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा बनाने के प्रस्ताव पर भारत सरकार ने अपना अनुमोदन दिया है और इसके लिए वहां पर तत्काल एटीआर 72 जैसे विमानों के संचालन के लिए 250 करोड़ रुपए हवाईअड्डा निर्माण के लिए उपलब्ध कराए गए हैं। उन्होंने कहा कि इसके साथ ही हवाईअड्डे के विस्तार की कार्यवाही चलती रहेगी, जिसमें एयर बस और अन्य बड़े यात्री विमानों का आवागमन बेहतर तरीके से हो सके। 

इसे भी पढ़ें: अयोध्‍या हवाई अड्डा का नाम होगा मर्यादा पुरुषोत्‍तम श्रीराम हवाई अड्डा, योगी सरकार ने दी बड़ी धनराशि 

एक सरकारी बयान के अनुसार, आदित्यनाथ ने कहा कि अयोध्या श्रीराम जन्मभूमि के रूप में विख्यात है। अयोध्या में भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर निर्माण की कार्यवाही युद्ध स्तर पर चल रही है। अयोध्या भारत की सनातन आस्था का केंद्र बिंदु होने के नाते लाखों की संख्या में श्रद्धालु अलग-अलग पर्व और त्योहारों में दर्शन करने आते हैं। ऐसे में अयोध्या में अंतरराष्ट्रीय पर्यटन को विकसित करने के लिए कई योजनाओं को आगे बढ़ाया जा रहा है। 

इसे भी पढ़ें: राम मंदिर निर्माण के लिए निधि संग्रह अभियान में पारदर्शिता होनी चाहिए: कुमारस्वामी 

मुख्यमंत्री ने कहा कि हम सब जानते हैं कि दुनिया के तमाम देशों में भारतीय मूल के नागरिक और अप्रवासी भारतीय बड़ी संख्या में रहते हैं। उनकी ईच्छा होती है कि वे भी अयोध्या आ सकें। इसलिए यूपी सरकार ने अयोध्या की एयरस्ट्रिप को अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के रूप में विकसितकरने का एक प्रस्ताव भारत सरकार के पास भेजा था। हवाईअड्डे के निर्माण के लिए करीब एक हजार करोड़ की धनराशि प्रदेश सरकार ने भूमि क्रय करने के लिए जिला प्रशासन को दी है और अधिग्रहण की कार्यवाही तेजी से चल रही है। अब तक 377 एकड़ से अधिक भूमि क्रय की जा चुकी है और युद्ध् स्तर पर इसे आगे बढ़ा रहे हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


डॉ कफील खान ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से की मुलाकात, हेल्थ फोर ऑल विषय पर हुई चर्चा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 27, 2021   08:33
  • Like
डॉ कफील खान ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से की मुलाकात, हेल्थ फोर ऑल विषय पर हुई चर्चा

डॉक्टर कफील खान के नजदीकी सूत्रों के अनुसार, खान ने गहलोत से जयपुर स्थित उनके आवास पर भेंट की और उन्हें आयुष्मान भारत, महात्मा गांधी राजस्थान स्वास्थ बीमा योजना कार्यक्रमों के लिये बधाई दी।

लखनऊ। गोरखपुर के चर्चित डाक्टर कफील खान ने शुक्रवार को राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मुलाकात की और उनसे हेल्थ फोर ऑल (सबके लिये स्वास्थ्य) विषय पर चर्चा की। यह कार्यक्रम डा खान ने प्रमुख डाक्टरों के साथ मिलकर शुरू किया है। खान ने एक ट्वीट में कहा, अशोक गहलोत के साथ हेल्थ फोर ऑल के रूप में शुरू की गयी एक पहल पर चर्चा हुई। कफील के नजदीकी सूत्रों के अनुसार, खान ने गहलोत से जयपुर स्थित उनके आवास पर भेंट की और उन्हें आयुष्मान भारत, महात्मा गांधी राजस्थान स्वास्थ बीमा योजना कार्यक्रमों के लिये बधाई दी। महात्मा गांधी बीमा योजना से प्रदेश के करीब एक करोड़ दस लाख परिवारों को निशुल्क चिकित्सा सुविधा मिल रही है। 

इसे भी पढ़ें: प्रियंका गांधी ने भरतपुर मामले में कार्रवाई के लिए अशोक गहलोत को कहा धन्यवाद 

खान ने गहलोत को उनके समर्थन के लिये धन्यवाद भी किया। डॉ खान गोरखपुर के बाबा राघव दास (बीआरडी) मेडिकल कॉलेज में 2017 की त्रासदी के बादसुर्खियों में आए थे, जिसमें ऑक्सीजन सिलेंडर की कमी के कारण कई बच्चों की मौत हो गई थी। इस मामले में उन्हें जेल में भी रहना पड़ा था, बाद में उन्हें जमानत मिली थे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept