भाजपा और शिवसेना के बीच बनी बात, एक साथ लड़ेंगे चुनाव

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 18, 2019   20:57
भाजपा और शिवसेना के बीच बनी बात, एक साथ लड़ेंगे चुनाव

प्रेस को संबोधित करते हुए देवेन्द्र फडणवीस ने कहा कि भाजपा और शिवसेना ने आगामी लोकसभा और विधानसभा चुनाव में साथ रहने का फैसला लिया है।

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने सोमवार को शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे से मुलाकात की। दोनों दल आगामी चुनाव के लिए गठबंधन बरकरार रखेंगे। जयपुर से यहां आने के बाद शाह ने लक्जरी होटल में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं से मुलाकात की और उपनगर बांद्रा में शिवसेना प्रमुख के आवास मातोश्री गए। बाद में दोनों से साझा प्रेस वार्ता किया। दोनों नेताओं के साथ महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस भी थे। प्रेस को संबोधित करते हुए देवेन्द्र फडणवीस ने कहा कि भाजपा और शिवसेना ने आगामी लोकसभा और विधानसभा चुनाव में साथ रहने का फैसला लिया है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ने कहा कि जनता चाहती है कि भाजपा और शिवसेना साथ आएं, सैद्धांतिक रूप से दोनों दल हिन्दुत्व-समर्थक हैं। उन्होने कहा कि महाराष्ट्र की 48 लोकसभा सीटों में से भाजपा 25 जबकि शिवसेना 23 सीटों पर चुनाव लड़ेगी।

फडणवीस ने कहा कि भाजपा और शिवसेना 288 सदस्यीय महाराष्ट्र विधानसभा के लिए इस वर्ष होने वाले चुनाव में बराबर-बराबर सीटों पर उम्मीदवार उतारेंगी। फडणवीस ने शिवसेना-भाजपा गठबंधन पर कहा पर कहा कि जनता के हित में राष्ट्रवादी विचारधारा वाली पार्टियां साथ आयी हैं। इस मौके पर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि भाजपा और शिवसेना के करोड़ों कार्यकर्ता दोनों दलों के बीच गठबंधन चाहते थे, शिवसेना भाजपा की सबसे पुरानी सहयोगी है।

अमित शाह ने कहा कि भाजपा और शिवसेना गठबंधन महाराष्ट्र की 48 लोकसभा सीटों में से कम से कम 45 पर जीतेगी। अमित शाह के साथ संयुक्त रूप से संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए उद्धव ठाकरे ने कहा कि भाजपा और शिवसेना के बीच गठबंधन के लिए राम मंदिर साझा सूत्र है, उसका निर्माण यथाशीघ्र किया जाये। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।