तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ने केजरीवाल से किया अनुरोध, जमातियों की सही से करें देखभाल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 25, 2020   08:09
तमिलनाडु के मुख्यमंत्री ने केजरीवाल से किया अनुरोध, जमातियों की सही से करें देखभाल

पलानीस्वामी ने कहा, ‘‘राज्य सरकार को उनके ठहरने की स्थिति को लेकर अनेक शिकायतें मिली हैं। लोग शिकायत कर रहे हैं कि कुछ को मधुमेह है तो कुछ अन्य बीमारियों से ग्रस्त हैं। उन्हें पृथक-वास केंद्रों में समय पर भोजन नहीं मिलता। तिरु मुहम्मद मुस्तफा हजियार नामक एक शख्स की 22अप्रैल की सुबह मौत हो गयी जो पृथक-वास में था।’’

चेन्नई। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से अनुरोध किया कि राष्ट्रीय राजधानी में उनके राज्य के तबलीगी जमात के 500 से अधिक सदस्यों का हरसंभव अच्छे से अच्छा ध्यान रखा जाए जो अस्पतालों में भर्ती हैं या पृथक-वास में हैं। पलानीस्वामी ने जमातियों की ठहरने संबंधी समस्याओं और समय पर भोजन नहीं मिलने की शिकायतों को भी उठाया। पलानीस्वामी ने केजरीवाल का ध्यान इस ओर आकृष्ट किया कि दिल्ली में पिछले महीने तबलीगी जमात के कार्यक्रम में भाग लेने वाले 559 जमातियों को या तो अस्पतालों में भर्ती कराया गया है या पृथक-वास में रखा गया है। 

इसे भी पढ़ें: राज्यपाल धनखड़ ने ममता पर लगाया अल्पसंख्यक समुदाय के ‘खुल्लम खुल्ला तुष्टीकरण’ का आरोप

उन्होंने दिल्ली के मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में ऐसे स्वास्थ्य केंद्रों और स्थानों के नाम गिनाए। पलानीस्वामी ने कहा, ‘‘राज्य सरकार को उनके ठहरने की स्थिति को लेकर अनेक शिकायतें मिली हैं। लोग शिकायत कर रहे हैं कि कुछ को मधुमेह है तो कुछ अन्य बीमारियों से ग्रस्त हैं। उन्हें पृथक-वास केंद्रों में समय पर भोजन नहीं मिलता। तिरु मुहम्मद मुस्तफा हजियार नामक एक शख्स की 22अप्रैल की सुबह मौत हो गयी जो पृथक-वास में था।’’ उन्होंने कहा कि दिल्ली में तमिलनाडु भवन में प्रधान स्थानिक आयुक्त को इस संबंध में जो शिकायतें मिल रही हैं, वो दिल्ली स्वास्थ्य विभाग या संबंधित जिला मजिस्ट्रेटों के समक्ष उठा रहे हैं और जरूरी कार्रवाई का अनुरोध कर रहे हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।