• घाटी समेत भारत को दहलाने की फिराक में हैं आतंकवादी, खुफिया एजेंसियों ने जारी किया अलर्ट

अफगानिस्तान पर तालिबान राज के बाद खुफिया एजेंसियां पहले से ही सतर्क थी और अब त्योहारी सीजन में पाकिस्तान की गतिविधियां देख खुफिया एजेंसियों ने अलर्ट जारी किया है।

नयी दिल्ली। जम्मू-कश्मीर समेत पूरे भारत की अमन व्यवस्था पाकिस्तान को रास नहीं आ रही है। ऐसे में वो लगातार भारत में घुसपैठ कराने की कोशिशें करता रहता है। हाल ही में सीमा पर तैनात हमारे सुरक्षाबलों ने पाकिस्तान के घुसपैठियों को ढेर किया है, जो भारत के अमन को तहस नहस करने का ख्वाब देख रहे थे। 

इसे भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर में सेना को मिली बड़ी कामयाबी, 3 घुसपैठियों को किया ढेर, भारी मात्रा में असलहा, बारूद बरामद 

खुफिया एजेंसियों ने जारी किया अलर्ट

अफगानिस्तान पर तालिबान राज के बाद खुफिया एजेंसियां पहले से ही सतर्क थी और अब त्योहारी सीजन में पाकिस्तान की गतिविधियां देख खुफिया एजेंसियों ने अलर्ट जारी किया है। पाकिस्तान लगातार आतंकवादी संगठनों और अपनी खुफिया एजेंसी आईएसआई के माध्यम से भारत को अस्थिर करने की कोशिशों में जुटा रहता है। लेकिन हमारे सुरक्षाकर्मी और एजेंसियां लगातार उनकी योजनाओं पर पानी फेरती रही हैं।

आतंकी घाटी को दहलाने का बना रहे प्लान 

खुफिया एजेंसियों को इनपुट मिला है कि लश्कर-ए-तैयबा (LeT), हिजबुल मुजाहिदीन (HM) और हरकत उल अंसार के दहशतगर्द किसी बड़े हमले की योजना बना रहे हैं। इसके अलावा पाकिस्तानी आतंकी संगठन घाटी में अफगानी आतंकवादियों की घुसपैठ कराने की पुरजोर कोशिशों में जुटे हुए हैं।

इनपुट है कि नियंत्रण रेखा (LoC) के पास नाक्याल सेक्टर में मौजूद आतंकवादी कैंप में लगभग 40 आतंकियों को प्रशिक्षण दिया जा रहा है। कहा जा रहा है कि घाटी में मौजूद स्लीपर सेल इन आतंकवादियों की घुसपैठ में मदद करेंगे। जो आतंकी हमले की फिराक में हैं।  

इसे भी पढ़ें: पंजाब में बड़े हमले की साजिश नाकाम, तरनतारन में 3 आतंकी गिरफ्तार, हथियार और विस्फोटक बरामद 

उरी में 3 आतंकी हुए ढेर

भारतीय सेना ने गुरुवार को उरी में एलओसी के पास घुसपैठ की एक कोशिश को नाकाम कर दिया, जिसमें तीन आतंकवादी मारे गए और हथियारों तथा गोला-बारूद का जखीरा बरामद हुआ। जनरल ऑफिसर कमांडिंग लेफ्टिनेंट जनरल डीपी पांडे ने कहा कि हाल ही में एलओसी के दूसरी तरफ से घुसपैठ की गतिविधियां बढ़ी हैं। हालांकि साल की शुरुआत से कोई घुसपैठ नहीं हुई है। थोड़ी बहुत गतिविधियां हुई हैं जो पाकिस्तानी सेना के कमांडरों की जानकारी के बिना नहीं हो सकती।