वकील ने सुप्रीम कोर्ट से कहा, CJI से इस्तीफा दिलाने की साजिश है

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Apr 22 2019 8:51PM
वकील ने सुप्रीम कोर्ट से कहा, CJI से इस्तीफा दिलाने की साजिश है
Image Source: Google

कील उत्सव सिंह बैंस ने इस मामले में दाखिल अपने हलफनामे में यह भी दावा किया है कि उन्हें शीर्ष अदालत की पूर्व महिला कर्मचारी का प्रतिनिधित्व करने के लिए तथा यहां प्रेस क्लब ऑफ इंडिया में संवाददाता सम्मेलन का आयोजन करने वाले व्यक्ति का इंतजाम करने के लिए अजय नामक एक व्यक्ति ने डेढ़ करोड़ रूपये की पेशकश की थी।

नयी दिल्ली। एक वकील ने सोमवार को उच्चतम न्यायालय में सनसनीखेज दावा किया कि यौन उत्पीड़न के झूठे मामले में प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई को ‘फंसाकर’ उनसे इस्तीफा दिलाने की साजिश है। वकील उत्सव सिंह बैंस ने इस मामले में दाखिल अपने हलफनामे में यह भी दावा किया है कि उन्हें शीर्ष अदालत की पूर्व महिला कर्मचारी का प्रतिनिधित्व करने के लिए तथा यहां प्रेस क्लब ऑफ इंडिया में संवाददाता सम्मेलन का आयोजन करने वाले व्यक्ति का इंतजाम करने के लिए अजय नामक एक व्यक्ति ने डेढ़ करोड़ रूपये की पेशकश की थी। इस मामले को शनिवार को शीर्ष अदालत ने ‘न्यायपालिका की स्वतंत्रता से जुड़े अति महत्वपूर्ण’ विषय के रूप में लेकर सुनवाई की थी।

भाजपा को जिताए

इसे भी पढ़ें: EC ने मोदी पर बनी बायोपिक पर विस्तृत रिपोर्ट उच्चतम न्यायालय को सौंपी

वकील ने कहा कि यौन उत्पीड़न के झूठे मामले में प्रधान न्यायाधीश को फंसाकर उनसे इस्तीफा दिलाने की साजिश का गंभीर मामला अभिसाक्षी(बैंस) इस अदालत के संज्ञान में लाना चाहता है। बैंस ने कहा कि वह ऐसे आरोप सुनकर हैरान हो गये और शिकायतकर्ता का प्रतिनिधित्व करने के लिए राजी हो गये। हलफनामे में कहा गया है कि लेकिन जब उक्त अजय कुमार ने इस मामले से संबद्ध पूरे घटनाक्रम और तथ्यों के बारे में बताया तो अभिसाक्षी (बैंस) को तसल्ली नहीं हुई और उसने अजय के विवरण में कई खामियां पायीं। हलफनामे के अनुसार तब वकील (बैंस) ने दावों के सत्यापन के लिए शिकायतकर्ता से मिलना चाहा लेकिन जब इस बात से इनकार कर दिया गया तो संदेह पैदा हुआ।

हलफनामे में कहा गया है कि ऐसे में जब अभिसाक्षी (बैंस)ने प्रधान न्यायाधीश को फंसाने के लिए अजय कुमार द्वारा की गयी 50 लाख रूपये की रिश्वत की पेशकश ठुकरा दी तब अजय ने राशि बढ़ाकर डेढ़ करोड़ रूपये कर दी जिसके बाद अभिसाक्षी ने उसे तत्काल कार्यालय से चले जाने को कहा। हलफनामे में कहा गया है, ‘अभिसाक्षी को भरोसेमंद सूत्रों से जानकारी मिली कि जो लोग नकद धन देकर अवैध रूप से फैसला अपने पक्ष में कर लेने के काम में लगे होने का दावा करते हैं, वे लोग ही इस साजिश के पीछे हैं क्योंकि प्रधान न्यायाधीश ने ऐसे लोगों के विरूद्ध निर्णायक कार्रवाई की है।’



इसे भी पढ़ें: CJI ने अपने ऊपर लगे यौन शोषण के आरोप को किया खारिज

वकील (बैंस) ने अपने हलफनामे में कथित रूप से ऐसा करने वाले ऐसे कुछ लोगों के नामों का जिक्र भी किया है। हालांकि उन्होंने अपनी जानकारी के सूत्र का खुलासा नहीं किया है। बैंस स्वयंभू बाबा आसाराम के खिलाफ यौन उत्पीड़न मामले में पीड़िताओं एवं उनके रिश्तेदारों समेत कई मामलों तथा गवाह सुरक्षा मामले में भी पेश हो रहे हैं। हलफनामे में कहा गया है, ‘अभिसाक्षी किसी भी स्थिति में सूत्रों के नाम नहीं बताएगा क्योंकि ये अधिवक्ता अधिनियम के तहत विशेषाधिकार संवाद हैं।’

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video