मोदी सरकार को नीरव मोदी जैसे कारोबारियों को पैसे देने का कोई मलाल नहीं: राहुल

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Apr 7 2019 10:40AM
मोदी सरकार को नीरव मोदी जैसे कारोबारियों को पैसे देने का कोई मलाल नहीं: राहुल
Image Source: Google

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि मोदी ने उस वक्त एक पल भी नहीं सोचा, जब उन्होंने आपका पैसा नीरव मोदी, मेहुल चोकसी और अनिल अंबानी जैसों को देने के लिए लिया।

श्रीनगर। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि जब नरेंद्र मोदी सरकार को नीरव मोदी और मेहुल चोकसी जैसे कारोबारियों को पैसे देने का कोई मलाल नहीं है, ऐसे में भाजपा को उनकी पार्टी (कांग्रेस) के चुनावी वादे ‘न्यूनतम आय योजना’ की व्यवहार्यता पर कोई सवाल नहीं उठाना चाहिए। उत्तराखंड में 11 अप्रैल को पांच लोकसभा सीटों के लिए होने जा रहे चुनाव के लिए अपने उम्मीदवारों के समर्थन में अल्मोड़ा, श्रीनगर और हरिद्वार में रैलियों को संबोधित करते हुए राहुल ने कहा कि उन्होंने (मोदी ने) उस वक्त एक पल भी नहीं सोचा, जब उन्होंने आपका पैसा नीरव मोदी, मेहुल चोकसी और अनिल अंबानी जैसों को देने के लिए लिया।

भाजपा को जिताए

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि और अब, जब गरीबों को आय समर्थन के तौर पर कुछ पैसे देने की बात की जा रही तब वह पूछ रहे हैं कि पैसे कहां से आएंगे। उन्होंने कहा कि मैंने आर्थिक विशेषज्ञों से विचार विमर्श किया और उन्होंने कहा कि यह अर्थव्यवस्था को पटरी से उतारे बगैर व्यवहार्य है। राहुल ने दावा किया कि कांग्रेस के चुनाव घोषणापत्र में गरीबों के लिए की गई न्याय योजना गरीबी पर एक ‘सर्जिकल स्ट्राइक’ होगी, जबकि इसका अर्थव्यवस्था पर भी कोई बोझ नहीं पड़ेगा।

इसे भी पढ़ें: अमेठी ने मुझे दीदी का सम्मान दिया है, अब मैं अमेठी छोड़कर नहीं जाऊंगी: स्मृति

उन्होंने श्रीनगर में रैली को संबोधित करते हुए कहा कि इस योजना को घोषणापत्र का हिस्सा बनाने से पहले मैंने पी चिदंबरम (पूर्व वित्त मंत्री) और मनमोहन सिंह (पूर्व प्रधानमंत्री) से यह सलाह ली कि अर्थव्यवस्था को पटरी से उतारे बगैर गरीबों को पैसे कैसे दिए जाएं और फिर उन्होंने 72,000 रूपये सालाना देने का सुझाव दिया। यह राशि हर साल सबसे गरीब 20 फीसदी लोगों के बैंक खातों में दी जाएगी। उन्होंने दावा किया कि हर लाभार्थी के खाते में पांच साल में कुल 3.6 लाख रूपये जमा होंगे।



वर्ष 2014 में किए वादों से मुकर कर किसानों और युवाओं को बेहाल छोड़ने का मोदी पर आरोप लगाते हुए कांग्रेस अध्यक्ष ने पूछा कि हर किसी के बैंक खाते में 15 लाख रूपये डालने के वादे, किसानों से किए गए कर्ज माफी के वादे और युवाओं को सालाना दो करोड़ रोजगार देने के वादे का क्या हुआ। उन्होंने पूछा कि मोदी इन चुनाव रैलियों में उन नारों के बारे में क्यों नहीं बोलते? राहुल ने जीएसटी को ‘गब्बर सिंह टैक्स’ करार देते हुए दावा किया कि इसने छोटे मंझोले कारोबारियों की कमर तोड़ कर रख दी। उन्होंने वादा किया कि कांग्रेस के सत्ता में आने पर इस एकीकृत कर व्यवस्था को सरल बनाया जाएगा।

इसे भी पढ़ें: लोगों को ईमानदार और भ्रष्ट सरकारों के बीच चुनाव करना है : मोदी

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के चुनाव घोषणापत्र में स्पष्ट रूप से कहा गया है कि ऋणों की अदायगी नहीं करने पर किसानों को जेल नहीं भेजा जाएगा। उन्होंने कहा कि यदि मेहुल चोकसी और नीरव मोदी जेल नहीं भेजे रहे हैं तो फिर किसानों को जेल क्यों भेजा जाना चाहिए? कांग्रेस किसानों के साथ है, मोदी को पूंजीपतियों के साथ रहने दीजिए। राहुल ने किसानों का कर्ज माफ करने के अलावा किसानों के लिए एक अलग बजट पेश करने की भी बात कही। 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video