औरंगाबाद को संभाजीनगर कहने में कुछ नया नहीं है: उद्धव ठाकरे

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 9, 2021   08:30
  • Like
औरंगाबाद को संभाजीनगर कहने में कुछ नया नहीं है: उद्धव ठाकरे

शिवसेना प्रमुख यहां अपने निजी निवास मातोश्री पर संवाददाताओं से बातचीत कर रहे थे। इससे पहले नासिक के दो भाजपा नेताओं को शिवसेना में शामिल किया गया।

मुम्बई। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शुक्रवार को कहा कि औरंगाबाद को संभाजीनगर कहने में कुछ भी नया नहीं है। उनका यह बयान औरंगाबाद का नाम बदलकर संभाजीनगर करने के प्रस्ताव का कांग्रेस द्वारा विरोध किये जाने के बीच आया है। संभाजी, मराठा शासक छत्रपति शिवाजी के बड़े बेटे थे। मुख्यमंत्री के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर औरंगाबाद को संभाजीनगर के रूप में उल्लेख किये जाने पर कांग्रेस और राकांपा की आलोचना के बारे में जब पूछा गया, तो ठाकरे ने कहा, ‘‘ उसमें नया क्या है? हम वर्षों से औरंगाबाद को संभाजीनगर कहते आ रहे हैं।’’

राज्य में सत्तायढ़ महा विकास आघाड़ी में शिवसेना के साथ-साथ राकांपा और कांग्रेस शामिल हैं। ठाकरे ने कहा, ‘‘ औरंगजेब धर्मनिरपेक्ष नहीं था। धर्मनिरपेक्ष उसके लिए उपयुक्त शब्द नहीं है। ’’ शिवसेना प्रमुख यहां अपने निजी निवास मातोश्री पर संवाददाताओं से बातचीत कर रहे थे। इससे पहले नासिक के दो भाजपा नेताओं को शिवसेना में शामिल किया गया। मुख्यमंत्री के बयान पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष बालासाहेब थोराट ने कहा, ‘‘ शहर का नाम बदलने से लोगों की जिंदगी में कोई बदलाव नहीं आता है। इसमें कहीं कोई विकास नहीं है। हम अपने इस रूख से मुख्यमंत्र को अवगत करायेंगे।’’ शिवसेना ने 1995 में पहली बार औरंगाबाद का नाम संभाजीनगर करने की मांग की थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


जयशंकर ने ब्रिटेन के विदेश मंत्री से चर्चा की, द्विपक्षीय सहयोग में प्रगति की समीक्षा की

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 3, 2021   20:24
  • Like
जयशंकर ने ब्रिटेन के विदेश मंत्री से चर्चा की, द्विपक्षीय सहयोग में प्रगति की समीक्षा की

जयशंकर ने ट्वीट करके कहा कि ब्रिटेन के विदेश मंत्री डोमिनिक रॉब के साथ बातचीत अच्छी रही। उन्होंने कहा, ‘‘ हमारे द्विपक्षीय संबंधों में सहयोग की प्रगति की समीक्षा की।

नयी दिल्ली। विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर ने बुधवार को ब्रिटेन के विदेश मंत्री डोमिनिक रॉब से बातचीत की और दोनों देशों के द्विपक्षीय सहयोग संबंधों में प्रगति की समीक्षा की। जयशंकर ने ट्वीट करके कहा कि ब्रिटेन के विदेश मंत्री डोमिनिक रॉब के साथ बातचीत अच्छी रही। उन्होंने कहा, ‘‘ हमारे द्विपक्षीय संबंधों में सहयोग की प्रगति की समीक्षा की। क्षेत्रीय विषयों एवं संयुक्त राष्ट्र से जुड़े मुद्दों के बारे में भी चर्चा की। ’’ गौरतलब है कि भारत ने इसी साल संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के अस्थायी सदस्य के रूप मेंकार्यभार संभाला है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


सुरक्षा बलों ने पुलवामा के जंगलों में हिज्बुल के ठिकाने का भंडाफोड़ किया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 3, 2021   20:16
  • Like
सुरक्षा बलों ने पुलवामा के जंगलों में हिज्बुल के ठिकाने का भंडाफोड़ किया

पुलिस के एक प्रवक्ता ने कहा, “विश्वसनीय सूचना के आधार पर, पुलिस, सेना और सीआरपीएफ ने पुलवामा जिले के अवंतीपुरा क्षेत्र में सीर-पस्तूना के जंगलों में आतंकियों के एक ठिकाने का पता लगाया है।”

श्रीनगर। जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले के जंगलों में सुरक्षा बलों ने हिज्बुल मुजाहिदीन के आतंकियों के छिपने के एक ठिकाने का पता लगाया है। पुलिस ने यह जानकारी दी। पुलिस के एक प्रवक्ता ने कहा, “विश्वसनीय सूचना के आधार पर, पुलिस, सेना और सीआरपीएफ ने पुलवामा जिले के अवंतीपुरा क्षेत्र में सीर-पस्तूना के जंगलों में आतंकियों के एक ठिकाने का पता लगाया है।” प्रवक्ता ने कहा कि संयुक्त दल द्वारा क्षेत्र में की गई छानबीन के दौरान हिज्बुल मुजाहिदीन का ठिकाना मिला, जिसे नष्ट कर दिया गया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


श्रीराम अरावकर ने कहा- न्यूनतम शुल्क में उच्च गुणवत्तायुक्त शिक्षा हेतु विद्या भारती कटिबद्ध

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 3, 2021   20:08
  • Like
श्रीराम अरावकर ने कहा- न्यूनतम शुल्क में उच्च गुणवत्तायुक्त शिक्षा हेतु विद्या भारती कटिबद्ध

न्यूनतम शुल्क में उच्च गुणवत्तायुक्त शिक्षा के साथ-साथ बालक-बालिकाओं के सर्वांगीण विकास हेतु विद्या भारती कटिबद्ध है। संस्थान की योजनान्तर्गत चलने वाले सभी विद्यालय पंजीकृत लोकन्यासों अथवा पंजीकृत समितियों द्वारा संचालित किये जाते हैं। जिनका प्रतिवर्ष नियमानुसार आर्थिक अंकेक्षण करवाया जाता है।

नई दिल्ली। अखिल भारतीय महामंत्री श्रीराम अरावकर ने कहा कि विद्याभारती अखिल भारतीय शिक्षा संस्थान की योजना से देशभर में जो विद्यालय संचालित किये जाते हैं, उनमें जाने वाली संस्कारक्षम शिक्षा की प्रशंसा समय-समय पर देश के प्रसिद्ध शिक्षाविदों, समाजसेवियों आदि ने भी की है। जाति, मत, पंथ, सम्प्रदाय के भाव से ऊपर उठकर देशभक्त और समाज के प्रति समर्पण का भाव रखने वाली संस्कारक्षम पीढ़ी का निर्माण करना हमारा लक्ष्य है। न्यूनतम शुल्क में उच्च गुणवत्तायुक्त शिक्षा के साथ-साथ बालक-बालिकाओं के सर्वांगीण विकास हेतु विद्या भारती कटिबद्ध है। संस्थान की योजनान्तर्गत चलने वाले सभी विद्यालय पंजीकृत लोकन्यासों अथवा पंजीकृत समितियों द्वारा संचालित किये जाते हैं। जिनका प्रतिवर्ष नियमानुसार आर्थिक अंकेक्षण करवाया जाता है। नियमानुसार इनके निर्वाचन भी करवाए जाते हैं।

सामाजिक समरसता, सर्वपंथ समभाव तथा सभी विचारों का आदर व सम्मान पर हमारे विद्यालयों में विशेष आग्रह है। हमारे विद्यालयों में मुस्लिम व ईसाई वर्ग के लगभग 80,000 छात्र शिक्षा ले रहे हैं। जिन्होंने न केवल शैक्षिक दृष्टि से प्राविण्य सूची में भी उत्कर्ष स्थान प्राप्त किये हैं, वरन् अनेक छात्रों ने खेलों के क्षेत्र में भी अपने परिवार व विद्यालय के नाम गौरवान्वित किया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।


This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept