मध्य प्रदेश के सीहोर में नदी में डूबने से तीन लड़कियों की मौत, मुख्यमंत्री ने जताया शोक

मध्य प्रदेश के सीहोर में नदी में डूबने से तीन लड़कियों की मौत, मुख्यमंत्री ने जताया शोक

वही इस पूरे हादसे पर सीहोर एएसपी समीर यादव ने बताया कि, मंडी थाना क्षेत्र में मूंडला गांव के पास रेलवे पुल के नीचे से पार्वती नदी बहती है। दोपहर करीब 1 बजे गांव में रहने वाले मुबीन खां, अपनी तीन बेटियों 10 वर्षिय सानिया, कहकशां और मनतसा के अलावा उनके भाई अंसार मियां की 17 साल की बेटी आबसार और 16 साल की मुनिया के साथ नहाने पहुंचे।

भोपाल। मध्य प्रदेश की राजधान भोपाल से लगे सीहोर जिले में एक दर्दनाक हादसा हो गया। इस हादसे में जिले में बहने वाली पार्वती नदी में डूबने से तीन लड़कियों की मौत हो गई। अपनी तीन बेटियों और दो भतीजियों को बचाने का प्रयास करने के बाद भी वह नदी में डूब गई। इस दर्दनाक घटना की खबर लगते ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस हादसे को लेकर ट्वीट कर संवेदना प्रगट की। सीहोर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का गृह जिला है।

 

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश में कोरोना के एक दिन में सर्वाधिक 1263 नए मामले, 23 लोगों की मौत

वही इस पूरे हादसे पर सीहोर एएसपी समीर यादव ने बताया कि, मंडी थाना क्षेत्र में मूंडला गांव के पास रेलवे पुल के नीचे से पार्वती नदी बहती है। दोपहर करीब 1 बजे गांव में रहने वाले मुबीन खां, अपनी तीन बेटियों 10 वर्षिय सानिया, कहकशां और मनतसा के अलावा उनके भाई अंसार मियां की 17 साल की बेटी आबसार और 16 साल की मुनिया के साथ नहाने पहुंचे। रेलवे पुल के नीचे वे बच्चियों के साथ नहाने लगे। इसी दौरान तेज बहाव में लड़कियां बहने लगीं। मुबीन खां ने छलांग लगाते हुए दो बच्चियों को किसी तरह पानी के बाहर निकाला, लेकिन तीन लड़कियां पानी में डूब गई।

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री हुए कोरोना संक्रमित, ट्वीट कर दी जानकारी

इस हादसे में मुनिया की जान तो बच गई, लेकिन आबसार की जान नहीं बच सकी। मुबीन ने दोबारा पानी में छलांग लगाई, लेकिन उनकी बेटियों का कुछ पता नहीं चला। सूचना मिलते ही भोपाल होमगार्ड की टीम राहत और बचाव कार्य में जुट गई जिसके बाद शाम 5 बजे के बाद दो लड़कियों के शव निकाले जा सके जबकि एक की तलाश जारी है। लड़कियों के साथ नहाने गए उनके पिता एवं चाचा मुबीन ने बताया कि अपने भाई और साले की बेटियों को उसने बाहर निकाल लिया, लेकिन उनमें से एक की ही जान बच पाई। जबकि उनकी बेटियों सहित मरने वाली लड़की की उम्र 17 साल और गायब होने वाली लड़कियां 10 से लेकर 17 साल के बीच की हैं। भोपाल से राहत और बचाव कार्य के लिए विशेष टीम पहुंची है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।