• भारत के प्रधानमंत्री का अपमान टिकैत की शान, कहा- देश के लिए मोदी काला है

अभिनय आकाश Oct 14, 2021 13:24

यूपी के बाराबंकी में भारतीय किसान यूनियन के सलाना सामूहिक विवाह कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे राकेश टिकैत पीएम मोदी को लेकर बदजुबानी पर उतर आए। टिकैत ने मीडिया से बातचीत में टिकैत ने कहा कि तीनों कृषि कानून किसानों के लिए काले हैं तो नरेंद्र मोदी पूरे देश के लिए काला है।

मौकापरस्त आंदोलनजीवि राकेश टिकैत कल तक लखनऊ में महापंचायत करने की धमकी दे रहे थे। लखीमपुर हिंसा को एजेंडा बनाकर विपक्ष के हाथ की कठपुतली बन चुके टिकैत ने अब अपना असली रंग दिखाना शुरू कर दिया है। राकेश टिकैत ने देश के प्रधानमंत्री को लेकर बदजुबानी की है। टिकैत ने कहा कि किसानों के लिए कानून काला और देश के लिए मोदी काला है। राकेश टिकैत यहीं नहीं रुके उन्होंने कहा कि 2024 तक मोदी सरकार को निपटा देंगे। मोदी सरकार को 10 में से 0 नंबर देते हुए राकेश टिकैत ने कहा कि 2024 तक पूरा देश बिक जाएगा। 

इसे भी पढ़ें: जब तक किसानों की मांगें पूरी नहीं हो जातीं,तब तक विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा: राकेश टिकैत

दरअसल, यूपी के बाराबंकी में भारतीय किसान यूनियन के सलाना सामूहिक विवाह कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे राकेश टिकैत पीएम मोदी को लेकर बदजुबानी पर उतर आए। टिकैत ने मीडिया से बातचीत में टिकैत ने कहा कि तीनों कृषि कानून किसानों के लिए काले हैं तो नरेंद्र मोदी पूरे देश के लिए काला है। कृषि कानून आज नहीं तो एक साल बाद हटेंगे। राकेश टिकैत ने कहा कि ये लोग बिजली का निजीकरण करने में जुटे हैं। लोगों को 15 रुपये प्रति यूनिट बिजली दिए जाने की तैयारी है। किसान बिल आज नहीं तो साल भर बाद हटेगा। 26 अक्‍टूबर को लखनऊ की मीटिंग में हम आगे की रणनीति तय करेंगे। 

इसे भी पढ़ें: Prabhasakshi's NewsRoom । अमित शाह से मिले खट्टर, BJP कार्यकर्ताओं की हत्या पर टिकैत का अजीबोगरीब बयान

भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा की बर्खास्तगी और गिरफ्तारी की मांग को लेकर 26 अक्टूबर को राजधानी लखनऊ मेंमहापंचायत होगी। उन्होंने कहा, भारतीय किसान यूनियन 26 अक्टूबर को लखनऊ में बहुत बड़ी पंचायत करने जा रही है। किसान पंचायत में हमारी मांग रहेगी कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा का इस्तीफा लिया जाए और उन्हें गिरफ्तार कर आगरा जेल में बंद किया जाए।