हिमाचल सरकार का कर्मचारियों को बड़ा तोहफा, जनजातीय और शीतकालीन भत्ते को बढ़ाया गया

हिमाचल सरकार का कर्मचारियों को बड़ा तोहफा, जनजातीय और शीतकालीन भत्ते को बढ़ाया गया
प्रतिरूप फोटो

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश के जनजातीय क्षेत्रों के विकास के लिए प्रतिबद्ध है और सुनिश्चित कर रही है कि इन क्षेत्रों की विकासात्मक परियोजनाओं को पूरा करने के लिए पर्याप्त निधि उपलब्ध हो।

शिमला। मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने लाहौल स्पीति क्षेत्र के लोगों को सम्बोधित करते हुए जनजातीय क्षेत्र में सेवाएं देने वाले कर्मचारियों के लिए जनजातीय भत्ता 450 रुपये से 650 रुपये और शीतकालीन भत्ते को 300 रुपये से 500 रुपये बढ़ाने की घोषणा की। उन्होंने कीमो में स्वास्थ्य उप केन्द्र खोलने, काजा में अग्निशमन उप-केन्द्र खोलने और सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र काजा को नागरिक अस्पताल में स्तरोन्नत करने की घोषणा की। 

इसे भी पढ़ें: प्रीति जिंटा की शिमला में खरीदी जमीन की जांच होगी, तलब करने की तैयारी में प्रशासन 

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश के जनजातीय क्षेत्रों के विकास के लिए प्रतिबद्ध है और सुनिश्चित कर रही है कि इन क्षेत्रों की विकासात्मक परियोजनाओं को पूरा करने के लिए पर्याप्त निधि उपलब्ध हो। उन्होंने कहा कि लाहौल स्पीति के लोग परिश्रमी और ईमानदार हैं और कठिन पारिस्थितिकी होने के बावजूद भी संस्कृति और धर्म में गहरी आस्था रखते हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार स्थानीय श्रमिकों को काम पर रखने के लिए प्रभावी तंत्र विकसित करेगी ताकि जनजातीय क्षेत्र में विकास की गति निर्बाध रूप से चलती रहे। उन्होंने कहा कि जनजातीय लोगों के ‘नौतोड़’ अधिकार से सम्बन्धित मामले पर सहानुभूतिपूर्व विचार किया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले साढ़े तीन वर्षों में कोरोना महामारी के बावजूद राज्य सरकार ने विकास की निर्बाध गति को सुनिश्चित किया है। उन्होंने कहा कि इस दौरान राज्य सरकार ने शिमला से वर्चुअल माध्यम से प्रदेश के 42 विधानसभा क्षेत्रों के लिए 4000 करोड़ रुपये की लागत की विभिन्न परियोजनाओं के शिलान्यास व लोकार्पण किए गए। उन्होंने कहा कि यह विकास की गति निर्बाध रूप से सुनिश्चित करने के लिए किया गया। उन्होंने लोगों से आग्रह किया कि वे कोविड-19 अनुरूप व्यवहार का सख्ती से पालन करें, क्योंकि महामारी अभी समाप्त नहीं हुई है। उन्होंने कहा कि वर्तमान प्रदेश सरकार की सभी नीतियों और कार्यक्रमों का उद्देश्य समाज के हर वर्ग के उत्थान और कल्याण है। उन्होंने कहा कि गरीबों और कमजोर वर्गों पर विशेष ध्यान केन्द्रित किया जा रहा है।

जय राम ठाकुर ने कहा कि गृहिणी सुविधा योजना के अन्तर्गत 3.15 लाख परिवारों को निःशुल्क गैस कनेक्शन प्रदान किए गए हैं। उन्होंने कहा कि राज्य की लगभग 22 लाख जनसंख्या को केन्द्र सरकार की आयुष्मान भारत योजना के अन्तर्गत लाया गया है और प्रदेश सरकार की हिमकेयर योजना के अन्तर्गत 1.72 लाख लोगों को लाभान्वित किया गया है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री स्वावलम्बन योजना भी राज्य के युवाओं के आत्मनिर्भर बनने की दिशा में वरदान साबित हो रही है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार को प्रदेश के लोगों का पूर्ण सहयोग मिल रहा है क्योंकि राज्य में लगभग सभी चुनावों और उप चुनावों में वर्तमान सरकार को विजय हासिल हुई है। 

इसे भी पढ़ें: कारगिल युद्ध में देश के लिए अपने प्राण न्यौछावर करने वाले जवानों को याद कर रहा भारत 

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 3 अक्तूबर, 2020 को अटल टनल सुरंग राष्ट्र को समर्पित की गई। उन्होंने कहा कि यह टनल लाहौल स्पीति जिले की आर्थिकी को बढ़ावा देने में सहायक सिद्ध होगी। जय राम ठाकुर ने कहा कि वह स्वयं काजा में लाहौल स्पीति जिला के लोगों के बीच उपस्थित होकर विकासात्मक परियोजनाओं को क्षेत्र के लोगों को समर्पित करने के लिए इच्छुक थे। उन्होंने कहा कि उनके द्वारा आज रखी गई परियोजनाओं की आधारशिलाओं का कार्य निर्धारित समयावधि में पूरा किया जाएगा ताकि इस जनजातीय जिले के लोग इन विकासात्मक परियोजनाओं का लाभ उठा सकें।

जिला लाहौल स्पीति के काजा क्षेत्र के इतिहास में 27 जुलाई, 2021 एक यादगार दिन के रूप में स्मरण किया जाएगा, क्योंकि मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज के दिन वुर्चअल माध्यम से काजा में जिला लाहौल स्पीति के लोगों के लिए लगभग 146 करोड़ रुपये की लागत की 19 विकासात्मक परियोजनाओं की शिमला से वर्चुअली आधारशिला रखी व लोकार्पण किए। वह खराब मौसम के कारण काजा का व्यक्तिगत दौरा नहीं कर पाए।

मुख्यमंत्री ने 14.52 करोड़ रुपये की विकासात्मक परियोजनाओं का लोकार्पण किया। उन्होंने हुल में 48 लाख रुपये की लागत के हेलिपैड, ताबो में 74 लाख रुपये की लागत के संग्रहालय एवं पुस्तकालय, किब्बर में 80 लाख रुपये की लागत के सामुदायिक भवन, की में 1.86 करोड़ रुपये की लागत के संग्रहालय एवं पुस्तकालय, काजा में 1.82 करोड़ रुपये की उठाऊ जल आपूर्ति परियोजना के संवर्धन और ग्राम पंचायत काजा में शिल्ला नाला से 8.82 करोड़ रुपये लागत की सूक्ष्म सिंचाई योजना काजा का लोकार्पण किया।

जय राम ठाकुर ने 131.21 करोड़ रुपये की परियोजनाओं की आधारशिला रखी। उन्होंने काजा में 34.57 करोड़ रुपये लागत के आइस हाॅकी रिंक, काजा में 12.18 करोड़ रुपये लागत के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के अतिरिक्त भवन, शिल्ला में शिल्ला नाला के ऊपर 2.60 करोड़ रुपये लागत के 60 मीटर लम्बे स्टील ट्रस पुल, काजा में 8.69 करोड़ रुपये लागत के हाई एल्टीटयूड प्रशिक्षण केन्द्र, मुद में पिन नदी के ऊपर टेलिंग और मुद के बीच 3.23 करोड़ रुपये की लागत के 75 मीटर लम्बे वाहन योग्य स्टील ट्रस पुल और ताबो में 2.28 करोड़ रुपये की लागत के परिधि गृह का शिलान्यास किया। उन्होंने 1.54 करोड़ रुपये की लागत के कृषि विज्ञान केन्द्र ताबो के कार्यालय भवन, 21.17 करोड़ रुपये की लागत से काजा कोमिक सड़क का स्तरोन्यन और 37.44 करोड़ रुपये की लागत से स्पीति घाटी में मुद भावा सड़क की आधारशिला रखी। 

इसे भी पढ़ें: अविनाश राय खन्ना बोले, हमारा मुकाबला ऐसे राजनीतिक दल से जिसके पास न ही कोई नेता और न ही कोई नीति है 

मुख्यमंत्री ने ग्राम पंचायत ताबो में खागस नाला से लारी गावं तक 1.47 करोड़ रुपये लागत की बहाव सिंचाई योजना, ग्राम पंचायत कुंगरी में 1.97 करोड़ रुपये की लागत की तांगटी योगमा उठाऊ सिंचाई योजना, ग्राम पंचायत डेमुल में सीवी शिगो तक 57 लाख रुपये की उठाऊ जल आपूर्ति योजना और काजा में 4.50 करोड़ रुपये की लागत ने निर्मित होने वाले मॉडल करियर सेन्टर की भी आधारशिला रखी। जनजातीय विकास मंत्री रामलाल मारकंडा ने काजा में मुख्यमंत्री की ओर से कॉफी टेबल बुक ‘स्पीतियन पीपल, कलचर एण्ड विस्टा’ का विमोचन किया।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री का स्वागत करते हुए जनजातीय विकास मंत्री डॉ. रामलाल मारकंडा ने क्षेत्र के लोगों के लिए करोड़ों रुपये की विकासात्मक परियोजनाएं समर्पित करने के लिए मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया। उन्होंने जनजातीय क्षेत्र के बजट में बढ़ोतरी करने के लिए मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार का पहला ही निर्णय वृद्धजनों के कल्याण के लिए था ताकि वे सम्मानजनक जीवन जी सके। उन्होंने कहा कि वृद्धावस्था पेंशन का लाभ प्राप्त करने के लिए आयु सीमा को बिना किसी आय सीमा के 80 वर्ष से घटाकर 70 वर्ष किया गया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने जनजातीय क्षेत्र की विकासात्मक मांगों को हमेशा ध्यान में रखा है। उन्होंने सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र काजा को नागरिक अस्पताल में स्तरोन्नत करने और काजा मंे फायर सब-स्टेशन खोलने के लिए मुख्यमंत्री का आभार व्यक्त किया।

राज्य भाजपा सह-प्रभारी संजय टंडन ने जिला लाहौल स्पीति के लोगों को 45 वर्ष और इससे अधिक आयु वर्ग के लोगों को टीकाकरण के शत-प्रतिशत लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए बधाई दी। उन्होंने कहा कि प्रदेश के स्पीति क्षेत्र में पर्यटन की अपार संभावनाएं है और क्षेत्र में पर्यटन के विकास को बढ़ावा देने के लिए प्रयास किए जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि अटल टनल जिला लाहौल स्पीति के लोगों के लिए वरदान साबित हो रही है और इसका श्रेय पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की संकल्पना और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के इस परियोजना को पूर्ण करने के प्रयासों को जाता है।

टीएसी सदस्य और जिला भाजपा अध्यक्ष राजिन्द्र बोध ने इस अवसर पर मुख्यमंत्री और अन्य गणमान्य का स्वागत किया। टीएसी सदस्य और जिला परिषद उपाध्यक्ष लोबजुंग गयालसन, उपायुक्त लाहौल-स्पीति नीरज कुमार, अतिरिक्त उपायुक्त काजा मोहन दत्त शर्मा और अन्य वरिष्ठ अधिकारी इस अवसर पर उपस्थित थे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।