कारगिल युद्ध में देश के लिए अपने प्राण न्यौछावर करने वाले जवानों को याद कर रहा भारत

कारगिल युद्ध में देश के लिए अपने प्राण न्यौछावर करने वाले जवानों को याद कर रहा भारत

अविनाश राय खन्ना ने कहा भारत कारगिल युद्ध के 22 साल पूरे होने पर देश के लिए अपने प्राण न्यौछावर करने वाले जवानों को याद कर रहा है, भारतीय सेना ने 22 साल पहले अपनी वीरता का परिचय देते हुए पाकिस्तानी सेना को धूल चटाई।

शिमला। भाजपा प्रभारी अविनाश राय खन्ना व सह प्रभारी संजय टंडन शिमला ग्रामीण में भजापा जिला शिमला के पूर्व सैनिक प्रकोष्ठ द्वारा आयोजित करगिल विजय दिवस के कार्यक्रम में मुख्यातिथि के रूप में पहुंचे। अविनाश राय खन्ना ने कहा भारत कारगिल युद्ध के 22 साल पूरे होने पर देश के लिए अपने प्राण न्यौछावर करने वाले जवानों को याद कर रहा है, भारतीय सेना ने 22 साल पहले अपनी वीरता का परिचय देते हुए पाकिस्तानी सेना को धूल चटाई।

इसे भी पढ़ें: अविनाश राय खन्ना बोले, हमारा मुकाबला ऐसे राजनीतिक दल से जिसके पास न ही कोई नेता और न ही कोई नीति है

उन्होंने कहा कि हमे द्रास और कारगिल मेमोरियल ज़रूर देखना चाहिए, किस प्रकार की कठिन परिस्थितियों में हमारे सैनिक काम करते है उससे हमे भी प्रेरणा मिलती है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान और भारत के बीच समझौता हुआ तहत की सर्दियों में दोनों देशों की सेनाएं चोटियों से नीचे आ जायेगी पर इस मौके का पाकिस्तान ने फायदा उठाया और कारगिल पर घुसपैठ की तैयारी की। उन्होंने कप्तान विक्रम बत्रा के बलिदान को याद करते हुए कहा कि सबसे पहला जत्था विक्रम बत्रा की अध्यक्षता में युद्ध मे उतर था , उनके ज़ज़्बे को देश कभी भूला नहीं सकता कारगिल की कई चट्टानों और पत्थरों पर उनका दिया गया नारा दिल मांगे मोर गूंजता है। उन्होंने कहा कि हम सब को आपने शहीदों की शहादत को याद रख उससे प्रेरणा लेनी है। 

इसे भी पढ़ें: कारगिल युद्ध के हीरो थे सौरभ कालिया, सबसे पहले पाकिस्तानी घुसपैठ का लगाया था पता

कारगिल विजय दिवस पर कई सेवा निवृत्त सैनिकों और सेना के जवानों की विधवाओं को सम्मानित भी किया गया। भजापा कार्यकर्ताओं के साथ शहीदों को श्रद्धा सुमन अपरित की। बैठक में जिला अध्यक्ष रवि मेहता, 2017 के प्रत्याशी प्रमोद शर्मा, प्यार सिंह, आशुतोष वैद्य, किरण बावा, ईश्वर रोहल, दिनेश शर्मा, ललित साहित कई कार्यकर्ता उपस्थित रहे। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।