शेरवानी खरीदने गए दूल्हे और सात दोस्तों सहित चौबीस लोगों को पहुंचाया जेल

शेरवानी खरीदने गए दूल्हे और सात दोस्तों सहित चौबीस लोगों को पहुंचाया जेल

प्रशासनिक टीम को देखते ही अचानक दुकान में टीम के पहुंचने पर बाराती दुकान छोड़ कर भागने लगे और दुकानदार भी कान पकड कर माफी मांगने लगा। टीम ने दूल्हे सहित सभी बारातियों को थाने पहुंचाया और 3 घंटे तक सभी को अस्थाई जेल में रखा।

रतलाम। कोरोना के संक्रमण से जहाँ देश और पूरे प्रदेश जूझ रहा है। वही कोरोना संक्रमण रोकने के लिए जिलों में लॉकडाउन लगाया गया है, जहाँ प्रशासन ने फालतू आवाजाही पर प्रतिबन्ध लगा रखा है। इसके बाद भी कुछ लोग बाजार मे अनावश्यक कारणों से आ रहे हैं और कुछ दुकानदार भी चुपके-चुपके सामान बेंच रहे हैं। इस दौरान मध्य प्रदेश के रतलाम जिले के सैलाना में बुधवार को जब प्रशासन की टीम ने छापामार कार्रवाई की, तो एक कपड़े की दुकान खुली पाई गई, जिसमें बिना मॉस्क लगाए एक दूल्हा और उसके 7 साथी सूट खरीद रहे थे। प्रशासन की टीम ने दुकान संचालक के खिलाफ कार्रवाई की और दूल्हे व उसके साथियों को अस्थायी जेल पहुंचाया।

इसे भी पढ़ें: एक तरफा प्रेम प्रसंग का मामला, युवक ने दोस्तों के साथ मिलकर युवती को मारा चाकू

दरआसल बुधवार को जिले के सैलाना में नायब तहसीलदार अरुण चंद्रवंशी, पटवारी विश्वास मेहता और एसआई मनोज पाटीदार के नेतृत्व में राजस्व और पुलिस विभाग की संयुक्त टीम ने बस स्टैंड के पास स्थित मल्टी में संचालित कपडे़ की दुकान पर अचानक पहुंच कर कार्यवाही की। जहाँ एक कपड़े की दुकान पर निरीक्षण किया। निरीक्षण में पाया कि दुकानदार विजेंद्र सिंह पिता ईश्वर सिंह जादौन एक दुल्हे को शेरवानी और सूट दिखा रहा था। दूल्हे के साथ बगैर मास्क के आए 7 बाराती भी दुकान में मौजूद थे। इसके अलावा दुकान मे अन्य 2 व्यक्ति भी मौजूद थे। 

इसे भी पढ़ें: उज्जैन पुलिस प्रशिक्षण शाला में बन रहा कोविड सेंटर, स्वयंसेवी संगठनों की पहल

प्रशासनिक टीम को देखते ही अचानक दुकान में टीम के पहुंचने पर बाराती दुकान छोड़ कर भागने लगे और दुकानदार भी कान पकड कर माफी मांगने लगा। टीम ने दूल्हे सहित सभी बारातियों को थाने पहुंचाया और 3 घंटे तक सभी को अस्थाई जेल में रखा। इसके उपरांत सभी पर चालानी कारवाई की। वही जिला प्रशासन द्वारा  17 अन्य व्यक्तियों पर भी चालानी कारवाई की गई।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।