दशहरा रैली में अनुशासित तरीके से हों शरीक, उद्धव बोले- भगवा ध्वज दिल में होना चाहिए, केवल हाथ में नहीं

Uddhav
Creative Common
अपने आवास पर पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए ठाकरे ने कहा, ‘‘देश में लोकतंत्र और हिंदुत्व के संरक्षण के लिए हमें भगवान की ओर से दिया गया यह एक अवसर है।

मुंबई। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने बृहस्पतिवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे की अगुवाई वाले धड़े पर तंज करते हुए कहा कि भगवा ध्वज किसी व्यक्ति के दिल में होना चाहिए, केवल हाथ में नहीं। भाजपा और शिंदे धड़ा अक्सर ठाकरे पर आरोप लगाता रहा है कि वह सत्ता बचाने के लिए कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (रांकपा) से हाथ मिलाकर हिंदुत्व की विचारधारा से समझौता कर रहे हैं। अपने आवास पर पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए ठाकरे ने कहा, ‘‘देश में लोकतंत्र और हिंदुत्व के संरक्षण के लिए हमें भगवान की ओर से दिया गया यह एक अवसर है। 

इसे भी पढ़ें: नहीं मिला धनुष-बाण तो आगे क्या? उद्धव ठाकरे समूह का प्लान बी तैयार

भगवा दल केवल किसी व्यक्ति के हाथ में नहीं होना चाहिए, बल्कि इसे व्यक्ति के दिल में होना चाहिए।’’ ठाकरे ने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा कि वह दशहरा रैली में अनुशासित तरीके से शरीक हों, जिसे पांच अक्टूबर को शिवाजी पार्क में आयोजित किया जाएगा। शिवसेना का कौन सा धड़ा असली है, यह मामला उच्चतम न्यायालय और चुनाव आयोग में लंबित है। इस मामले के बारे में पूछे जाने पर ठाकरे ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि अदालत और निर्वाचन आयोग में जारी लड़ाई में उनकी जीत होगी।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़