हर मजहब के लोग हुए आतंकवाद के शिकार! जम्मू-कश्मीर पुलिस ने रिलीज की Untold Kashmir Files

Untold Kashmir Files
निधि अविनाश । Apr 07, 2022 10:26AM
द अनटोल्ड कश्मीर फाइल्स वीडियो को 31 मार्च को जम्मू-कश्मीर पुलिस के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट किया गया था। एक अधिकारी ने कहा कि द कश्मीर फाइल्स कश्मीरी पंडितों की दुर्दशा पर केंद्रित है, लेकिन यहां कई लोगों को लगता है कि फिल्म घाटी में आतंकवाद के कारण कश्मीरी मुसलमानों की पीड़ा को पूरी तरह से नजरअंदाज करती है।

द कश्मीर फाइल्स फिल्म के बाद अब जम्मू-कश्मीर पुलिस ने 57 सेंकड का एक वीडियो पोस्ट किया है, जिसमें दिखाया गया है कि, कैसे हर महजब के लोग कश्मीरी उग्रवाद का शिकार हुए है। इसका नाम द अनटोल्ड कश्मीर फाइल्स रखा गया है। एक जम्मू-कश्मीर पुलिस अधिकारी ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया कि, नागरिकों तक पहुंचने का एक प्रयास है कि हम उनके दर्द को समझते हैं और हम सभी आतंकवाद के खिलाफ इस लड़ाई में एक साथ हैं।

इस वीडियो को 31 मार्च को जम्मू-कश्मीर पुलिस के आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर पोस्ट किया गया था। एक अधिकारी ने कहा कि द कश्मीर फाइल्स कश्मीरी पंडितों की दुर्दशा पर केंद्रित है, लेकिन यहां कई लोगों को लगता है कि फिल्म घाटी में आतंकवाद के कारण कश्मीरी मुसलमानों की पीड़ा को पूरी तरह से नजरअंदाज करती है।जम्मू-कश्मीर पुलिस के द अनटोल्ड कश्मीर फाइल्स वीडियो में शोक मनाने वालों की तस्वीरों पर संदेश लिखा है कि, इन लक्षित हत्याओं ने 20,000 कश्मीरियों की जान ली है. समय आ गया है कि हम इस बारे में बात करें.” वीडियो की पृष्ठभूमि में पाकिस्तानी कवि फैज अहमद फैज की मशहूर कविता “हम देखेंगे” चलता है, जिसका उपयोग “द कश्मीर फाइल्स” फिल्म में भी किया गया है।

इसे भी पढ़ें: रमजान में मुस्लिम कर्मचारियों की छुट्टी को लेकर दिल्‍ली जल बोर्ड ने जारी सर्कुलर वापस लिया

जम्मू-कश्मीर पुलिस क्लिप 27 मार्च को घाटी में एक विशेष पुलिस अधिकारी (एसपीओ) और उसके जुड़वां भाई की संदिग्ध आतंकवादियों द्वारा हत्या का जिक्र करते हुए शोक में डूबी महिलाओं के एक शॉट के साथ शुरू होती है। 11 मार्च को रिलीज़ हुई, विवेक अग्निहोत्री द्वारा निर्देशित द कश्मीर फाइल्स, को कई केंद्रीय मंत्रियों ने समर्थन दिया और अधिकांश भाजपा शासित राज्यों में कर-मुक्त भी किया गया। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़