राष्ट्रीय राजधानी राज्यक्षेत्र शासन (संशोधन) विधेयक को लेकर राज्यसभा में हंगामा, कार्यवाही बाधित

Rajya Sabha
आप के संजय सिंह सहित अन्य सदस्यों ने भी इस विधेयक का विरोध किया। कांग्रेस और आप के कई सदस्य इस बीच आसन के निकट आकर हंगामा करने लगे। उपसभापति हरिवंश ने हंगामा को देखते हुए सदन की कार्यवाही 15 मिनट के लिए स्थगित कर दी।
नयी दिल्ली। कांग्रेस और आम आदमी पार्टी (आप) के सदस्यों ने मंगलवार को राज्यसभा में ‘‘राष्ट्रीय राजधानी राज्यक्षेत्र शासन (संशोधन) विधेयक 2021’’ का भारी विरोध करते हुए हंगामा किया जिससे सदन की कार्यवाही बाधित हुई और बार बार स्थगन के बाद बैठक शाम 6 बजकर 10 मिनट तक के लिए स्थगित कर दी गयी। हंगामे के बीच ही गृह राज्यमंत्री जी किशन रेड्डी ने विधेयक को विचार और पारित करने के लिए पेश किया। विपक्ष के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने विधेयक का विरोध करते हुए इसे ‘‘गंभीर और खतरनाक’’ बताया और कहा कि यह एक चुनी हुई सरकार के अधिकारों को छीनने वाला और लोकतंत्र को बर्बाद करने वाला विधेयक है। उन्होंने कहा, ‘‘आप इस विधेयक के जरिए उपराज्यपाल को सरकार बनाना चाहते हैं और चुनी हुई सरकार को उनका ‘नौकर’ बनाना चाहते हैं।’’ आप के संजय सिंह सहित अन्य सदस्यों ने भी इस विधेयक का विरोध किया। कांग्रेस और आप के कई सदस्य इस बीच आसन के निकट आकर हंगामा करने लगे। उपसभापति हरिवंश ने हंगामा को देखते हुए सदन की कार्यवाही 15 मिनट के लिए स्थगित कर दी। एक बार के स्थगन के बाद सदन की कार्यवाही शुरू होते ही पीठासीन अध्यक्ष वंदना चव्हाण ने बैठक को पांच बजकर 40 मिनट तक के लिए स्थगित करने की घोषणा की। कांग्रेस और आम आदमी पार्टी के कड़े विरोध के बीच यह विधेयक सोमवार को लोकसभा में पारित हुआ था। इसके बाद सदन को फिर दस मिनट के लिए शाम पांच बजकर 50 मिनट तक स्थगित कर दिया गया। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस विधेयक को राष्ट्रीय राजधानी के लोगों का ‘अपमान’ करार दे चुके हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़