उत्तराखंड कैबिनेट: पुष्कर सिंह धामी ने किया मंत्रालयों का बंटवारा, जानें किस मंत्री को मिला कौन सा विभाग

उत्तराखंड कैबिनेट: पुष्कर सिंह धामी ने किया मंत्रालयों का बंटवारा, जानें किस मंत्री को मिला कौन सा विभाग

सुबोध उनियाल को वन, भाषा, निर्वाचन, तकनीकी शिक्षा की जिम्मेदारी सौंपी गई है। रेखा आर्य को पहले की ही तरह महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास, खेल एवं युवा कल्याण, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामलों की जिम्मेदारी दी गई है।

उत्तराखंड में  पुष्कर सिंह धामी ने मंत्रियों के विभागों का बंटवारा कर दिया है। पुष्कर सिंह धामी ने अपने पास 21 मंत्रालय के साथ 23 विभाग रखे हैं जबकि उनके पिछले कार्यकाल में उनके पास 12 मंत्रालयों का जिम्मा था। वहीं कैबिनेट मंत्री बने सतपाल महाराज के विभागों में कोई बदलाव नहीं किया गया है।

पुष्कर सिंह धामी ने आबकारी, ऊर्जा, पेयजल, श्रम, गृह, राजस्व, कार्मिक, राज्य संपत्ति, नियोजन,सूचना न्याय, आपदा प्रबंधन, नागरिक उड्डयन समेत 21 मंत्रालय अपने पास ही रखे हैं। सतपाल महाराज को पूर्व की सरकार की तरह ही लोक निर्माण विभाग पर्यटन संस्कृति पंचायती राज जलागम प्रबंधन और सिंचाई विभाग सौंपा गया है। गणेश जोशी को कृषि एवं कृषक कल्याण सैनिक कल्याण और ग्राम्य विकास की जिम्मेदारी दी गई है।

कैबिनेट मंत्री धन सिंह रावत को अहम स्वास्थ्य विभाग सौंपा गया है। इसके अलावा उन्हें बेसिक शिक्षा के साथ उच्च शिक्षा, सहकारिता, संस्कृत शिक्षा की भी जिम्मेदारी सौंपी गई है। सरकार में शामिल किए गए मंत्री प्रेमचंद्र अग्रवाल को वित्त, शहरी विकास, संसदीय कार्य, पुनर्गठन और जागरण तकनीकी विभाग की जिम्मेदारी दी गई है।

कैबिनेट में शामिल सुबोध उनियाल को वन, भाषा, निर्वाचन, तकनीकी शिक्षा की जिम्मेदारी सौंपी गई है। रेखा आर्य को पहले की ही तरह महिला सशक्तिकरण एवं बाल विकास, खेल एवं युवा कल्याण, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामलों की जिम्मेदारी दी गई है। पहली बार मंत्री बने चंदन राम दास को समाज कल्याण, अल्पसंख्यक, परिवहन, लघु एवं सूक्ष्म मध्यम उद्योग की जिम्मेदारी सौंपी गई है। वहीं सौरभ बहुगुणा को पशुपालन, दुग्ध विकास एवं मत्स्य पालन, गन्ना विकास एवं चीनी उद्योग, कौशल विकास एवं सेवायोजन विभाग की जिम्मेदारी दी गई है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।