महलों की रानी वसुंधरा राजे का हाथ शराब और भू माफिया के सर पर है: गहलोत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 24, 2018   14:31
महलों की रानी वसुंधरा राजे का हाथ शराब और भू माफिया के सर पर है: गहलोत

राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भ्रष्टाचार के मुद्दे पर शनिवार को मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पर निशाना साधा और उनकी अगुवाई वाली भाजपा सरकार पर शराब, भू और बजरी माफिया को संरक्षण देने का आरोप लगाया।

उदयपुर। राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भ्रष्टाचार के मुद्दे पर शनिवार को मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे पर निशाना साधा और उनकी अगुवाई वाली भाजपा सरकार पर शराब, भू और बजरी माफिया को संरक्षण देने का आरोप लगाया। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि भाजपा के लिए राम मंदिर केवल चुनावी मुद्दा है। गहलोत ने यहां संवाददाताओं से कहा,‘‘राजस्थान में पहले किसी भी सरकार ने किसी माफिया को संरक्षण नहीं दिया था लेकिन वसुंधरा राजे सरकार ने ऐसा किया। उनके राज में अधिकारियों की रजामंदी के चलते जमीन, शराब और बजरी माफिया फला फूला और मेरा आरोप है कि इसका पैसा उच्च स्तर तक पहुंचा।’’ कांग्रेस महासचिव गहलोत जोधपुर की सरदारपुरा सीट से कांग्रेस के प्रत्याशी हैं। वे राज्य के मेवाड़ इलाके में पार्टी प्रचार में जुटे हैं।उन्होंने कहा,‘‘राजे अपनी पार्टी के अध्यक्ष के सामने झुककर प्रणाम कर रही हैं लेकिन वे पांच साल में कभी जनता से तो नहीं मिलीं। शाह के सामने झुककर प्रणाम करने से अच्छा होता अगर वह राजस्थान की जनता की परवाह करती जिसने 2013 में उन्हें इतना प्रचंड बहुमत दिया।'

गहलोत ने राजे से राज्य की जनता से धोखा करने आरोप लगाया। गहलोत ने कहा कि भाजपा सरकार ने पांच साल में उन योजनाओं को केवल कमजोर ही किया जो पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार ने शुरू की थीं। इसके साथ ही राजे सरकार ने राज्य की अनेक महत्वपूर्ण परियोजनों को रोक दिया। कांग्रेस नेता ने कहा,‘‘कांग्रेस सरकार के शासन में, मनरेगा में 25 लाख लोग काम करते थे लेकिन अब यह संख्या घटकर सिर्फ 2.5 लाख रह गयी है। गहलोत के अनुसार राजे सरकार ने रिसर्जेंट राजस्थान पर करोड़ों रुपये खर्च किए और अब सरकार को यह बताना चाहिए कि बीते पांच साल में राज्य में कुल कितना निवेश हुआ। रिसर्जेंट राजस्थान सम्मेलन 2015 में हुआ था ताकि राज्य में अधिकाधिक निवेश आकर्षित किया जा सके। अयोध्या में राम मंदिर के मुद्दे पर गहलोत ने कहा कि भाजपा के लिए यह केवल चुनावी मुद्दा भर है। उन्होंने कहा,‘‘भाजपा केवल चुनावों में ही भगवान राम का नाम लेती है। उनकी कोई ऐसी मंशा नहीं है और उनका आम जनता के सामने भंडाफोड़ हो चुका है।' विधानसभा चुनाव के प्रचार अभियान के तहत गहलोत शनिवार को चित्तौड़गढ़, भीलवाड़ा और नसीराबाद में चुनावी सभाएं कर रहे हैं। राज्य में मतदान सात दिसंबर को होना है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।