उपराष्ट्रपति उम्मीदवार मार्गरेट अल्वा ने लगाया फोन टैप का आरोप, प्रल्हाद जोशी बोले- ये आश्चर्य की बात है...

Margret Alva
ANI
अंकित सिंह । Jul 26, 2022 12:41PM
6 जुलाई को उपराष्ट्रपति का चुनाव होना है। उपराष्ट्रपति चुनाव में एनडीए उम्मीदवार जगदीप धनखड़ से मार्गरेट अल्वा का मुकाबला है। अब तक राजनीतिक समीकरणों को देखें तो जगदीप धनखड़ का इस चुनाव में पलड़ा भारी नजर आ रहा है।

विपक्ष की उपराष्ट्रपति पद की साझा उम्मीदवार मार्गरेट अल्वा ने आरोप लगाया है कि उनका फोन टैप किया जा रहा है। उन्होंने इस को लेकर एक ट्वीट भी किया है। अपने ट्वीट में मार्गरेट अल्वा ने लिखा कि उनके मोबाइल फोन से कॉल ना तो जा रही है और ना ही इस पर आ रही है। साथ ही, एमटीएनएल पर तंज करते हुए कहा कि अगर इसकी सेवाएं बहाल हो जाती हैं तो वह भारतीय जनता पार्टी, तृणमूल कांग्रेस या बीजू जनता दल के किसी भी सांसद को फोन नहीं करेंगी। अल्वा ने ट्विटर पर सरकारी दूरसंचार कंपनी महानगर टेलीफोन निगम लिमिटेड (एमटीएनएल) से कहा कि उनके एमटीएनएल के ‘अपने ग्राहक को जानो’ (केवाईसी) को निलंबित कर दिया गया है और उनका सिम कार्ड 24 घंटों के लिए ब्लॉक रहेगा। 

इसे भी पढ़ें: भाजपा के CMs से भी समर्थन मांगेंगी मार्गरेट अल्वा, बोलीं- मैं राज्यसभा के कामकाज में ला सकती हूं बदलाव

मार्गरेट अल्वा के आरोप पर केंद्रीय मंत्री प्रल्हाद जोशी ने कहा कि ये आश्चर्य की बात है..कोई उनका फोन क्यों टैप करेगा? उन्हें किसी को भी बुलाने दीजिए हमें विश्वास है कि परिणाम क्या होगा। ये बचकाने आरोप हैं और वह एक वरिष्ठ व्यक्ति हैं तो उन्हें इस तरह के आरोप नहीं लगाने चाहिए। वहीं खबर यह भी है कि मार्गरेट अल्वा की ओर से दर्ज कराई गई शिकायत पर उचित कार्रवाई की गई है। बीएसएनएल ने इस मामले में प्राथमिकी दर्ज कराई है। सूत्रों का दावा यह भी है कि मार्गरेट अल्वा एक साइबर फ्रॉड का शिकार हुई हैं। इसके बारे में दिल्ली पुलिस ने 19 जुलाई को एक चेतावनी जारी की थी।

इसे भी पढ़ें: सोनिया पर लगाए थे मनमाने ढंग से फैसले लेने के आरोप, पायलट भी आ चुके लपेटे में, बागी तेवरों के लिए मशहूर हैं विपक्ष की उपराष्ट्रपति पद की उम्मीदवार मार्गरेट अल्वा

आपको बताता है कि 6 जुलाई को उपराष्ट्रपति का चुनाव होना है। उपराष्ट्रपति चुनाव में एनडीए उम्मीदवार जगदीप धनखड़ से मार्गरेट अल्वा का मुकाबला है। अब तक राजनीतिक समीकरणों को देखें तो जगदीप धनखड़ का इस चुनाव में पलड़ा भारी नजर आ रहा है। वहीम मार्गरेट अल्वा  लगातार नेताओं को फोन कर उनसे समर्थन मांग रही है। इससे पहले मार्गरेट अल्वा ने गैर-भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) दलों में लगातार बढ़ रहे मतभेद और संख्या बल उनके पक्ष में नहीं होने के बीच कहा था कि वह चुनावी नतीजों को लेकर बिल्कुल भी परेशान नहीं हैं, क्योंकि वोटों का गणित कभी भी बदल सकता है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़