हिमाचल में तीस अक्तूबर को मंडी लोकसभा व तीन विधानसभा क्षेत्रों में उपचुनाव का मतदान

हिमाचल में तीस अक्तूबर को मंडी लोकसभा व तीन विधानसभा क्षेत्रों में उपचुनाव का मतदान

मंडी लोकसभा व तीन विधानसभा उपचुनावों के लिये सत्तारूढ दल भाजपा सक्रिय हो गया है पार्टी ने अपने तमाम नेताओं को फील्ड में उतार दिया है पार्टी को हर सूरत में यह चुनाव जीतने हैं यह जीत मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर के राजनैतिक भविष्य को भी तय करेगी। भाजपा पहले ही चुनावी मोड में आ चुकी है। कांग्रेस पार्टी प्रचार में अभी पिछडी है।

शिमला। हिमाचल प्रदेश में होने वाले उपचुनावों का बिगुल आज बज गया। हालांकि इससे पहले चुनाव आयोग ने कोरोना महामारी को देखते हुये चुनाव त्योहारी मौसम तक टालने का निर्णय लिया था। लेकिन आज दिन की शुरूआत के साथ ही चुनाव आयोग से नेताओं के लिये अच्छी खबर आई।  जिससे प्रदेश में राजनैतिक सरगर्मी एक बार फिर बढ गई है। व टिकट के तलबगार सक्रिय हो गये हैं।

इसे भी पढ़ें: आनी विधानसभा क्षेत्र के प्रतिनिधिमण्डल ने मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर से भेंट की

चुनाव आयोग की ओर से जारी अधिसूचना के मुताबिक प्रदेश मंडी लोकसभा सीट का उपचुनाव 30 अक्तूबर को होगा।  इसी के साथ तीन विधानसभा सीटों के लिए भी इसी दिन चुनाव होगा। आयोग के शेड्यूल के मुताबिक एक अक्तूबर को चुनाव संबंधी अधिसूचना जारी होगी। नामांकन की अंतिम तिथि आठ अक्तूबर तय की गई है। 11 अक्तूबर को नामांकन पत्रों की छंटनी होगी। 13 अक्तूबर नामांकन वापसी का दिन तय किया गया है। इसके बाद 30 अक्तूबर को मतदान होगा। दो नवंबर को वोटों की गिनती होगी। पांच नवंबर से पहले चुनाव प्रक्रिया पूरी होगी।  

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने राज्य स्तरीय कुल्लू दशहरा समिति बैठक की अध्यक्षता की

मंडी लोकसभा व तीन विधानसभा उपचुनावों के लिये सत्तारूढ दल भाजपा सक्रिय हो गया है पार्टी ने अपने तमाम नेताओं को फील्ड में उतार दिया है पार्टी को हर सूरत में यह चुनाव जीतने हैं यह जीत मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर के राजनैतिक भविष्य को भी तय करेगी।  भाजपा पहले ही चुनावी मोड में आ चुकी है। कांग्रेस पार्टी प्रचार में अभी पिछडी है। चुनाव आयोग पहले त्योहारी सीजन के बाद चुनाव करवाने की बात कर रहा था। क्यास लगाए जा रहे थे कि चुनाव अब चार नवंबर दीपावली के बाद ही होंगे। लेकिन आयोग ने अब एकाएक से उपचुनाव की घोषणा कर दी है। 

इसे भी पढ़ें: अगर कांग्रेस को ही कोसना है तो सत्ता छोड़े भाजपा-कांग्रेस प्रवक्ता बोले-प्रदेश से बाहर के लोगों के आगे आत्मसमर्पण कर चुकी है जयराम सरकार

मंडी लोकसभा के साथ जुब्बल कोटखाई व फतेहपुर विधानसभा क्षेत्र के अलावा अर्की में होने वाले उप चुनावों के कार्यक्रम की चुनाव आयोग की घोषणा के साथ ही आचार संहिता लग गई है यही वजह है कि टिकट के तलबगार भी अपनी गोटियां बिठाने में जुटे हैं। 

मंडी संसदीय चुनाव क्षेत्र जहां राम स्वरूप शर्मा के निधन के बाद उपचुनाव होने जा रहे हैं में उपचुनाव के लिये पार्टी व जय राम ठाकुर की पहली पसंद जल शक्ति मंत्री महिन्दर सिंह बताये जा रहे हैं हालांकि यहां से नरेन्दर अत्री महेशवर सिंह  प्रवीण शर्मा की भी दावेदारी है।  वहीं कांग्रेस की ओर से प्रतिभा सिंह दावेदारी जता रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: amazon व flipkart पर Online बिकेंगे स्वयं सहायता समूहों के उत्पाद: क्षेत्रीय मेले के समापन पर बोले ग्रामीण विकास मंत्री

वहीं, जुब्बल कोटखाई विधानसभा क्षेत्र की सीट जो कि नरेन्दर बरागटा के देहांत से खाली हुई है । पिछले दिनों एक कार्यक्रम में जय राम ठाकुर ने खुलेआम नरेन्दर बरागटा के बेटे चेतन बरागटा की पीठ थपथपाई है। व स्वास्थय मंत्री राजीव सैजल ने भी चेतन बरागटा को उतारे जाने का संकेत दिया है चेतन बरागटा प्रदेश आईटी सेल के संयोजक हैं व मरहूम बरागटा के बेटे हैं को टिकट दिये जाने की हिमायत पार्टी में की जा रही है। कांग्रेस पार्टी की ओर से रोहित ठाकुर मैदान में हैं।

वहीं कांगडा जिला के फतेहपुर जहां कांग्रेस विधायक सुजान सिंह पठानिया के निधन के बाद उपचुनाव होने जा रहे हैं में  पिछला चुनाव हारे कृपाल परमार को लेकर पेंच फंसा है  परमार अपने टिकट की पैरवी कर रहे हैं तो दूसरी ओर उनको चुनाव मैदान में उतारने को लेकर सहमति बनती नजर नहीं आ रही खुद सीएम जय राम ठाकुर ने भी परमार के विकल्प के तौर पर किसी दूसरे नेता को मैदान में उतारने की हिमायत की है ।   कांग्रेस पार्टी नेता भवानी सिंह पठानिया व भाजपा के बागी राजन सुशांत भी मैदान में हैं।

वहीं, अर्की विधानसभा में भाजपा की तरह आसान नहीं है इस बार भाजपा के पूर्व विधायक गोविंद शर्मा मैदान में आ गये हैं व अपने लिये टिकट मांग रहे हैं जिससे भाजपा परेशानी में है उन्हें मनाने के लिये बैठकें हो रही हैं । यहां पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के निधन के बाद उपचुनाव होने जा रहे है। कांग्रेस की ओर से संजय अवस्थी ताल ठोंक रहे हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।