दिल्ली में वीकेंड कर्फ्यू खत्म, बाजारों से हटा odd-even नियम, 50 फिसदी क्षमता के साथ खुलेंगे सिनेमा हॉल

दिल्ली में वीकेंड कर्फ्यू खत्म, बाजारों से हटा odd-even नियम, 50 फिसदी क्षमता के साथ खुलेंगे सिनेमा हॉल

डीडीएमए की बैठक में दिल्ली के बाजारों सेऑड-ईवन नियम भी हटाने का फैसला लिया गया है। हालांकि फिलहाल स्कूल और कॉलेज बंद रहेंगे। निजी दफ्तर 50 फ़ीसदी क्षमता के साथ खुलेंगे।

दिल्ली वालों के लिए राहत भरी खबर है। कोरोना महामारी की वजह से दिल्ली में लगाए गए प्रतिबंधों को ढील देने की घोषणा की गई है। दिल्ली में वीकेंड कर्फ्यू को हटा लिया गया है। इसके साथ ही शादी समारोह में 200 लोग शामिल हो सकते हैं। दिल्ली में फिलहाल नाइट कर्फ्यू जारी रहेगा। दिल्ली में नाइट कर्फ्यू रात 10 बजे से सुबह 5 बजे तक जारी रहेगा। डीडीएमए की बैठक में दिल्ली के बाजारों सेऑड-ईवन नियम भी हटाने का फैसला लिया गया है। हालांकि फिलहाल स्कूल और कॉलेज बंद रहेंगे। निजी दफ्तर 50 फ़ीसदी क्षमता के साथ खुलेंगे।

नए नियम के मुताबिक दिल्ली में सरकारी दफ्तर पूरी क्षमता के साथ चलेंगे। इसके अलावा सिनेमा हॉल भी 50 फ़ीसदी क्षमता के साथ चलेंगे। जिम को लेकर फिलहाल कोई फैसला नहीं लिया गया है। बार और रेस्तरां भी 50 फ़ीसदी क्षमता के साथ फुल सकते हैं। डीडीएमए की अगली बैठक में स्कूलों को लेकर निर्णय लिया जाएगा। आपको बता दें कि दिल्ली में बुधवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 7,498 नये मामले सामने आए और महामारी से 29 मरीजों की मौत हो गई। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार, संक्रमण की दर 10.59 प्रतिशत दर्ज की गई। इससे पहले दिल्ली में मंगलवार को कोविड-19 के 6,028 नये मामले सामने आए थे और 31 मरीजों की मौत हुई थी।

इसे भी पढ़ें: भारत में कोरोना के सक्रिय मामलों में कमी, 24 घंटे के अंदर 2.86 लाख केस आए, 573 की मौत

देश में नए मामले

भारत में एक दिन में कोरोना वायरस संक्रमण के 2,86,384 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की कुल संख्या 4,03,71,500 हो गई। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी। सुबह आठ बजे तक अद्यतन आंकड़ों के अनुसार 573 और रोगियों की मौत के बाद देश में मृतकों की तादाद 4,91,700 तक पहुंच गई। मंत्रालय ने कहा कि देश में उपचाराधीन रोगियों की संख्या घटकर 22,02,472 रह गई है, जो संक्रमण के कुल मामलों का 5.46 प्रतिशत है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।