• सिद्धू से घमासान, बार-बार दिल्ली बुलाए जाने से परेशान, कैप्टन कर सकते हैं अलग पार्टी बनाने का ऐलान?

अभिनय आकाश Jun 22, 2021 16:29

एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार अगर जल्द ही कोई समाधान नहीं निकाला गया तो बात और बिगड़ भी सकती है और पंजाब में नए राजनीतिक समीकरण भी देखने को मिल सकते हैं।

आगामी पंजाब विधानसभा चुनाव को लेकर पंजाब कांग्रेस में जारी घमासान थमने का नाम नहीं ले रही है। पंजाब से लेकर राजधानी दिल्ली तक बैठकों का दौर जारी है। सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह और नवजोत सिंह सिद्धू के बीच विवादो को सुलझाने की अब तक सारे प्रयास कारगर सिद्ध होते नहीं नजर आ रहे। एक बार फिर से पंजाब इकाई में कलह को दूर करने के मकसद से गठित तीन सदस्यीय समिति ने मंगलवार को राज्य के मुख्यमत्री अमरिंदर सिंह के साथ लंबी मंत्रणा की गई। हालांकि पंजाब में कांग्रेस के लिए मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सीएम अमरिंदर सिंह बार-बार दिल्ली बुलाकर कमेटी के सामने पेश होने को कहे जाने से खासे नाराज हैं। हालांकि वो अभी भी पार्टी अनुशासन में रहते हुए ऐसा कर रहे हैं। एक मीडिया रिपोर्ट के अनुसार अगर जल्द ही कोई समाधान नहीं निकाला गया तो बात और बिगड़ भी सकती है और पंजाब में नए राजनीतिक समीकरण भी देखने को मिल सकते हैं। एक निजी चैनल के मुताबिक अमरिंदर सिंह अपनी अलग पार्टी भी बना सकते हैं। दावा किया जा रहा है कि कैप्टन नवजोत सिंह सिदधू के मीडिया को दिए बयानों से काफी आहत हैं। 

इसे भी पढ़ें: सिद्धू के बयानों से कैप्टन नाराज, डिप्टी सीएम बनाने के पक्ष में भी नहीं: सूत्र

बता दें कि आज सीएम अमरिंदर कमेटी के सामने पेश हुए। जिसके बाद पंजाब के प्रभारी हरीश रावत ने कहा कि कैप्टन अमरिंदर सिंह कमेटी के सामने आए और उन्होंने जो जानकारी दी उनका सीधा संबंध समाज के कमजोर तबकों से है। उन्होंने बिजली में रियायत देने की बात कही है, वर्षों से अस्थाई लोगों को नियमित करने की बात कही है।

इसे भी पढ़ें: सिद्धू के बयानों से कैप्टन नाराज, डिप्टी सीएम बनाने के पक्ष में भी नहीं: सूत्र

हरीश रावत ने कहा कि उन्होंने सफाईकर्मियों को नियमित करने के आदेश देने की बात कही। दलितों, भूमिहीनों और गरीबों के कर्ज माफ करने की बात कही है। उन्होंने कहा कि छात्र-छात्राओं की स्कॉलरशिप बांटना प्रारंभ कर दिया गया है और शिक्षण संस्थाओं को कह दिया गया है कि सुनिश्चित करेंगे कि उन तक पहुंचे।