जब संविधान का जश्न मनाया जा रहा था तो भाजपा इसे खत्म करने में लगी थी: राहुल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 26, 2019   20:15
जब संविधान का जश्न मनाया जा रहा था तो भाजपा इसे खत्म करने में लगी थी: राहुल

कांग्रेस की अगुवाई में कई विपक्षी दलों ने संविधान दिवस के अवसर पर संसद के दोनों सदनों की संयुक्त बैठक का बहिष्कार किया और संसद भवन परिसर में डॉक्टर भीमराव आंबेडकर की प्रतिमा के समक्ष प्रदर्शन किया।

नयी दिल्ली। महाराष्ट्र के राजनीतिक घटनाक्रम की पृष्ठभूमि में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को आरोप लगाया कि जिस दिन देश संविधान का जश्न मना रहा था उसी दिन भाजपा संविधान को खत्म करने में लगी हुई थी।

उन्होंने संसद भवन परिसर में डॉ भीमराव आंबेडकर की प्रतिमा के सामने विपक्षी दलों के प्रदर्शन की तस्वीरें शेयर करते हुए ट्वीट किया, ‘‘यह विडंबना है कि जिस दिन भारत संविधान का जश्न मना रहा था तब भाजपा सरकार इसे खत्म करने में लगी थी।’’ गांधी ने कहा, ‘‘संविधान सबका है। आइए संकल्प लेते हैं कि हम इसके मूल्यों को बरकरार रखेंगे और हर कीमत पर इसकी रक्षा करेंगे।’’ 

इसे भी पढ़ें: शिवसेना सांसदों ने सोनिया से की मुलाकात, बोले- संसद की संयुक्त बैठक का करेंगे बहिष्कार

गौरतलब है कि कांग्रेस की अगुवाई में कई विपक्षी दलों ने संविधान दिवस के अवसर पर संसद के दोनों सदनों की संयुक्त बैठक का बहिष्कार किया और संसद भवन परिसर में डॉक्टर भीमराव आंबेडकर की प्रतिमा के समक्ष प्रदर्शन किया। महाराष्ट्र के मुद्दे पर हुए इस विरोध प्रदर्शन में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, तृणमूल कांग्रेस, शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और कई अन्य विपक्षी दलों के नेता शामिल हुए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।